Hindi News »Madhya Pradesh »Bhopal »News» वैगन से पेट्रोल चोरी करते वक्त भड़की आग,10 गांवों में दहशत

वैगन से पेट्रोल चोरी करते वक्त भड़की आग,10 गांवों में दहशत

भौंरी बकानिया स्थित पेट्रोलियम डिपो के बाहर रेलवे वैगन से पेट्रोल-डीजल चोरी करते समय शुक्रवार-शनिवार देर रात आग...

Bhaskar News Network | Last Modified - Apr 01, 2018, 04:20 AM IST

वैगन से पेट्रोल चोरी करते वक्त भड़की आग,10 गांवों में दहशत
भौंरी बकानिया स्थित पेट्रोलियम डिपो के बाहर रेलवे वैगन से पेट्रोल-डीजल चोरी करते समय शुक्रवार-शनिवार देर रात आग लग गई। इससे आसपास के 10 गांवों में दहशत फैल गई। ग्रामीणों ने सबसे पहले आग की सूचना एडीएम जीपी माली और खजूरी सड़क थाने को दी। इसके बाद कंट्रोल रूम को खबर की गई। यहां से इसकी सूचना एएसपी जोन-4 के पास पहुंची। सूचना पर मौके पर पहुंचे फायर बिग्रेड के अमले ने फार्म की मदद से आग पर काबू पाया। रेलवे पुलिस को मौके से पेट्रोल-डीजल से भरी हुईं 70 कैन और एक आयशर ट्रक मिला है। करीब 230 कैन खाली मिली हैं। जबकि 50 से ज्यादा आग की चपेट में आने से जल चुकी हैं।

शुरुआती जांच में पता चला है कि 10 हजार लीटर पेट्रोल-डीजल चोरी कर कैन में भरा गया था। लागत करीब 8 लाख रुपए आंकी जा रही है। जिला प्रशासन के अफसरों का अनुमान हैं कि बीड़ी पीने के दौरान यह हादसा हुआ होगा। आरपीएफ के कमांडेंट कुमार निशांत ने बताया कि मामले की जांच शुरू कर दी गई है। रिलायंस के अफसरों और ड्यूटी पर मौजूद जवान से पूछताछ की जा चुकी है।

चुरा लिया था 10 हजार लीटर पेट्रोल-डीजल, कैन छोड़ भागे चोर

पेट्रोल-डीजल से भरी 70 और करीब 230 कैन खाली मिलीं। फोटो | कैलाश पाटीदार

घटनास्थल पर लावारिस मिला आयशर ट्रक जब्त

एएसपी जोन-4, समीर यादव ने बताया कि बकानिया में रिलायंस व भारत पेट्रोलियम का डिपो है। रिलायंस डिपो में जामनगर से ट्रेन के वैगन के माध्यम से पेट्रोल-डीजल पहुंचाया जाता है। शुक्रवार-शनिवार की रात 12.20 बजे वैगन आया था। बकानिया स्टेशन के पास इसे खड़ा किया था। रात करीब 1 बजे सूचना मिली कि डिपो के पास आग लग गई है। मौके पर पहुंची पुलिस के साथ फायर बिग्रेड की दमकलों ने आग को बुझाया। इसके बाद रेलवे व पुलिस ने सर्चिंग की तो वहां पर 70 कैन पेट्रोल-डीजल से भरे हुए रखे मिले। साथ ही आयशर ट्रक क्रमांक एमपी 07 जी 7912 भी लावारिस मिला। आग से बकानिया, बरखेड़ा सालम, भौंरी, कोलूखेड़ी, खजूरी सड़क, एसपीए, पुलिस अकादमी सहित 10 से ज्यादा गांव में दहशत फैल गई थी।

एक गार्ड के भरोसे थी रैक की सुरक्षा

जिस वक्त चोर वैगन में नोजल और पाइप डालकर पेट्रोल और डीजल चोरी कर रहे थे, उस वक्त जवान गश्त पर थे। फिर भी उन्हें पता नहीं चला। सूत्रों का कहना है कि रैक की सुरक्षा आरपीएफ के एक जवान के भरोसे थी। उसने सील भी चैक की थी, उसके बाद भी चोरी हो गई।

बकानिया गांव के सरपंच जितेंद्र नागर ने बताया कि वैगन नंबर 34 में आग झाड़ियों से होती हुई ऊपर पहुंच गई थी। उसके भीतर पेट्रोल भरा हुआ था। इसकी सूचना गांव के लोगों को दी। इसके बाद 1800 से ज्यादा लोग घर छोड़कर पास के गांव में भाग गए। देर रात पहुंची पुलिस और जिला प्रशासन के अफसरों की समझाइश के बाद गांव के लोग घरों में वापस पहुंचे।

सूझबूझ से टला हादसा

आग की लपटें वैगन नंबर 34 में भरे पेट्रोल की तरफ बढ़ रही थीं। यह देख बकानिया स्टेशन पर तैनात रेलवे के कर्मचारियों ने 50 वैगन ट्रेन के 32 वैगन को काटकर अलग कर दिया। बचे हुए 18 वैगन अभी भी ट्रक पर खड़े हैं। शनिवार सुबह कलेक्टर सुदाम खाडे, विधायक रामेश्वर शर्मा, डीआईजी धर्मेंद्र चौधरी मौके पर पहुंचे।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From News

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×