--Advertisement--

किताब में लिखे अपनी पोस्टिंग के अनुभव

यह मेरी आटोबायोग्राफी नहीं है। इस किताब में थोड़ा सा मेरे बचपन के बारे में है और फिर मेरे अनुभव जहां-जहां मेरा...

Danik Bhaskar | Apr 01, 2018, 04:25 AM IST
यह मेरी आटोबायोग्राफी नहीं है। इस किताब में थोड़ा सा मेरे बचपन के बारे में है और फिर मेरे अनुभव जहां-जहां मेरा ट्रांसफर हुआ। एसडीएम बालोद रहते हुए नक्सलियों के क्षेत्र में काम करने का अलग ही अनुभव था। रायसेन में पोस्टिंग के दौरान हमारे क्षेत्र में साक्षरता का स्तर सुधरा, इस बात से मैं काफी खुश था और साथी भी बेहतर करने के लिए खूब मेहनत कर रहे थे। लेकिन, जब उस क्षेत्र से सरकार नहीं बनी, तो गवर्नमेंट ने अपने हाथ खींच लिए। कुछ इसी तरह के किस्से सुनाए पूर्व प्रशासनिक अधिकारी देवेन्द्र सिंह राय ने। राय की किताब ‘अ जर्नी ऑन पेबेल्स : मेमोरीज ऑफ द प्रमोटी आईएएस’ का विमोचन पूर्व आईएएस एसके बक्षी, इंडियन रेवेन्यू सर्विसेज़ के गोविंद मिश्र और अटल बिहारी वाजपेयी लोक प्रशासन संस्थान के प्रमुख परमवीर सिंह ने किया।