• Home
  • Madhya Pradesh News
  • Bhopal News
  • News
  • टीआई ने अफसरों से बोला था झूठ, डकैती को बताया धक्का-मुक्की कर हुई चोरी
--Advertisement--

टीआई ने अफसरों से बोला था झूठ, डकैती को बताया धक्का-मुक्की कर हुई चोरी

भोपाल| पूर्व मुख्यमंत्री उमा भारती के 68 वर्षीय रिटायर्ड निजी सुरक्षा अधिकारी कृष्णा पांडे के घर डकैती की वारदात...

Danik Bhaskar | Mar 14, 2018, 06:15 AM IST
भोपाल| पूर्व मुख्यमंत्री उमा भारती के 68 वर्षीय रिटायर्ड निजी सुरक्षा अधिकारी कृष्णा पांडे के घर डकैती की वारदात को लेकर सस्पेंड टीआई रातीबड़ अशोक गौतम ने अधिकारियों से झूठ बोला था। वे हर पल अधिकारियों को गुमराह करते रहे थे। रात चार बजे सूचना मिलने के बाद भी उन्होंने धक्का-मुक्की कर चोरी बताई थी। वारदात के बाद कंट्रोल को भी सूचना नहीं दी थी। इतना ही नहीं, घटना को साधारण चोरी में दर्ज कर लिया था। मंगलवार को डीआईजी धर्मेंद्र चौधरी को मीटिंग में पता चला। उन्होंने सीएसपी टीटी नगर गोपाल सिंह चौहान, एएसपी जोन-1 धर्मवीर सिंह और एसपी साउथ राहुल लोढा के साथ मीटिंग की। मामले में लूट की धारा बढ़ा दी है। इसके बाद आईजी जयदीप प्रसाद ने सभी अधिकारियों के साथ मीटिंग की। डीआईजी ने आरोपियों पर 10 हजार का इनाम घोषित किया है। इससे पहले डीआईजी मंगलवार सुबह कृष्णा के घर पहुंचे। उन्होंने कॉलोनी के रहवासियों की बैठक कर सुरक्षा के इंतजाम करने को कहा।

नहीं मिला सुराग : एएसपी जोन-1 धर्मवीर सिंह के अनुसार आरोपियों की तलाश के लिए पांच सदस्यीय विशेष टीमें बनाई गईं हैं। लोकल और बाहर के कुछ गैंग के मूवमेंट पर नजर रखी जा रही है।













वारदात के पहले रैकी नहीं की गई यह तो पक्का है, लेकिन यह कोई पुराना गैंग हो सकता है। भोपाल के आउटर में रहने वाले दो-तीन गिरोह संदेह के घेरे में हैं। जल्द ही आरोपियों को पकड़ लेंगे।

खौफ में जागकर गुजारी रात, लाइट भी रखी ऑन -

वारदात के बाद पांडे परिवार दहशत में है। वारदात की दूसरी रात खौफ में रहे प्रदीप पांडे की जुबानी- आरोपियों ने हमारा बेडरूम बाहर से बंद कर दिया था, लेकिन मम्मी-पापा ने आधे घंटे दहशत में बिताए। वारदात के बाद से ही हम खौफ में है। पूरा दिन हम घर पर ही रहे। दहशत इतनी थी कि बता तक नहीं पा रहे। बस इतना बता सकते हैं कि सभी ने रात भर जागकर गुजारी। घर तो छोड़ो बाहर तक की सभी लाइट ऑन करके रखी। बीच में अगर किसी को नींद आने लगती तो हम बातें कर उसकी नींद भगाने का प्रयास करते। दहशत के कारण हम एक-दूसरे को नहीं छोड़ रहे हैं। पापा को खून से लथपथ देखने के बाद से ही वह मंजर बार-बार आंखों के सामने आ रहा है। सुबह चार बजे थोड़ा उजाला होने पर हमें कुछ ठीक लगा। उसके बाद ही मारी नींद लग पाई, लेकिन कुछ देर बाद ही नींद खुल गई।

अपने खर्चें पर लगाएंगे लाइट और कैमरे -

डीआईजी ने मंगलवार सुबह साढ़े 10 बजे पांडे के घर पहुंचने के बाद करीब आधे घंटे बिताए। उनके कहने के बाद शाम पांच बजे कॉलोनी वालों ने बैठक की। इसमें सभी ने अपने-अपने खर्चे पर कॉलोनी में स्ट्रीट लाइट सीसीटीवी कैमरे और सुरक्षा गार्ड रखने पर सहमति बनी। डीआईजी ने इलाके में गश्त बढ़ाए जाने का लोगों को आश्वासन दिया।