Hindi News »Madhya Pradesh »Bhopal »News» एम्स में दो महीने में शुरू होगी शाम की ओपीडी

एम्स में दो महीने में शुरू होगी शाम की ओपीडी

ऑल इंडिया इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेस (एम्स) में अप्रैल से शाम की ओपीडी शुरू करने की तैयारी की जा रही है। इसके लिए...

Bhaskar News Network | Last Modified - Feb 01, 2018, 01:15 PM IST

ऑल इंडिया इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेस (एम्स) में अप्रैल से शाम की ओपीडी शुरू करने की तैयारी की जा रही है। इसके लिए डॉक्टरों की भर्ती की प्रक्रिया जारी है। पिछले दिनों 116 पदों के लिए निकाली गई भर्ती में से 93 डॉक्टर्स ने ज्वाॅइन कर लिया है। शेष डॉक्टरों ने टाइम मांगा है। इनकी ज्वाइनिंग के बाद शाम की ओपीडी की सुविधा कर दी जाएगी। इससे मरीजों को शाम के वक्त आसानी से इलाज मिल सकेगा। इसी तरह 15 फरवरी कैंसर की जांच के लिए मेमोग्राफी मशीन से जांच होने लगेगी। मार्च के अंत तक 8 नए ऑपरेशन थियेटर शुरू हो जाएंगे।

जून तक यहां पर ऑपरेशन थियेटरों की संख्या 24 पर पहुंच जाएगी। मरीजों की सहूलियत के लिए हर महीने बेड की संख्या को बढ़ाया जाएगा। अभी तक यहां पर 400 बेड का अस्पताल संचालित किया जा रहा है। मार्च अंत तक 600 बिस्तरों का अस्पताल शुरू हो जाएगा। यह जानकारी बुधवार को पत्रकारों से चर्चा में एम्स के डायरेक्टर डॉ. नितिन एम नागरकर ने दी।







उन्होंने बताया कि फैकल्टी की संख्या 136 तक हो गई है। वार्ड भी तैयार है।











इस वजह से मरीजों को भर्ती करने के लिए वेटिंग चल रही है। बेड व अन्य सामान आ चुका है। धीरे-धीरे कर अस्पताल में मरीजों की सुविधाओं में बिस्तर किया जा रहा है।







305 पद हैं जबकि 136 फैकल्टी की ही हो सकी है नियुक्ति

वेटिंग कम करने की खातिर...एमआरआई मशीन और सीटी स्कैन की सुविधा बढ़ाई जाएगी

सांसद आलोक संजर ने बताया कि अस्पताल बिल्डिंग का करीब 96 फीसदी काम पूरा हो चुका है। एमआरआई अौर सीटी स्कैन के लिए लगातार लोग फोन करते हैं। लोगों की इस समस्या को दूर करने के लिए सरकार एक एमआरआई और एक सीटी स्कैन मशीन लगाने का फैसला लिया गया है। नई मशीनों का आर्डर दे दिया गया है। एमआरआई के लिए वेटिंग कम होगी।

अगले दो महीनों के भीतर..24घंटे 7 दिन मरीजों को भर्ती करने की सुविधा शुरू

एम्स के अधीक्षक डॉ राजेश मलिक ने बताया कि अब सबसे ज्यादा फोकस ट्रामा और इमरजेंसी की सुविधा पूरी तरह से शुरू करने को लेकर है। हालांकि, इमरजेंसी मरीजों को भर्ती किया जा रहा है, अभी पूरी क्षमता के साथ इसे शुरू करने में दो महीने लगेंगे। मलिक ने बताया कि 24 घंटे 7 दिन इलाज की सुविधा अस्पताल में शुरू कर दी गई है।









रात के वक्त नार्मल मरीज आने पर उसको इलाज दिया जा रहा है।

एम्स में विभिन्न विभागों में अभी 136 कंसल्टेंट्स (फैकल्टी) हैं, जबकि यहां पर 305 पद हैं। कंसल्टेंट्स की कमी के चलते अभी ओपीडी में सीमित मरीजों को ही टोकन दिए जा रहे हैं। बेड भी नहीं बढ़ाए जा रहे हैं। एम्स में अब तक पूरे 960 बेड शुरू हो जाने थे, लेकिन फैकल्टी की कमी के चलते दिक्कत हो रही थी। एम्स के अधिकारियों ने बताया कि फैकल्टी की भर्ती प्रक्रिया फरवरी में शुरू हो जाएगी। सब कुछ सामान्य रहा तो मई तक चयन हो जाएगा।

नियुक्तियां... 251 पदों की भर्ती में मिले सिर्फ 80

एम्स प्रबंधन ने 2016 में 251 पदों के लिए भर्ती प्रक्रिया शुरू की थी। इस प्रक्रिया के तहत 80 कंसल्टेंट्स ही मिले हैं। शुरुआती भर्ती से 56 कंसल्टेंट मिले थे। इस तरह अभी 136 कंसल्टेंट्स काम कर रहे हैं। एम्स भोपाल के अफसरों का कहना है कि लगभग सभी एम्स में इतने की कंसल्टेंट्स मिल पाए हैं।

हर महीने होगी नई व्यवस्था

मार्च तक कई सुविधाएं शुरू हो जाएंगी। बिस्तर भी बढ़ाए जा रहे हैं। 400 बिस्तर शुरू हो चुके हैं। मार्च तक छह सौ बिस्तर हो जाएंगे। ट्रामा एंड इमरजेंसी की सुविधा भी मार्च तक शुरू करने की तैयारी है। डॉ. नितिन नागरकर, डायरेक्टर, एम्स

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From News

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×