--Advertisement--

भास्कर संवाददाता | जीरापुर/छापीहेड़ा

भास्कर संवाददाता | जीरापुर/छापीहेड़ा नगर में डेढ़ दर्जन से भी अधिक स्थानों पर होलिका दहन किया गया। इस दौरान...

Danik Bhaskar | Mar 02, 2018, 03:40 AM IST
भास्कर संवाददाता | जीरापुर/छापीहेड़ा

नगर में डेढ़ दर्जन से भी अधिक स्थानों पर होलिका दहन किया गया। इस दौरान सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किए गए। होली के मौके पर नगर की प्राचीन होलिका दहन कुशवाह मोहल्ले में किया गया। जहां लोगों ने देर शाम पूजा-अर्चना की। इसके बाद मध्य रात्रि को दहन किया गया। दूसरे दिन सुबह महिलाओं द्वारा होली ठंडी करने की रस्म पूरी की जाएगी। इसके अलावा बुधवारिया बाजार, दांगी मोहल्ला, चौपड़ा बाजार, भावसार मोहल्ला, बृजवासी मोहल्ला, गांधी बस्ती, जमाई कालोनी, आवास कालोनी, गुर्जर मोहल्ला, वाल्मीकि मोहल्ला सहित डेढ़ दर्जन से भी ज्यादा स्थानों पर होलिका दहन किया गया। इस मौके पर पुलिस व प्रशासन द्वारा सुरक्षा के लिए व्यापक प्रबंध किए गए।

होली की आग से आज भी जलता हैं चूल्हा

गांवों में होली की आग से घर का चूल्हा जलाने की प्राचीन परंपरा आज भी बरकरार है। एसी मान्यता हैं कि होली की अग्नि से घर का चूल्हा जलाने से घर परिवार की सारी समस्याएं जलकर नष्ट होती हैं। शहरी क्षेत्रों में भले ही यह प्रथा विलुप्त हो गई, परन्तु ग्रामीण आज भी इसका निर्वहन कर रहें हैं। इसके अलावा किसान लोग अपने मवेशियों के लिए होली की आग में नमक की ठेलियां सेककर खिलाते हैं। इससे मवेशी वर्षभर स्वस्थ रहता है।