• Home
  • Madhya Pradesh News
  • Bhopal News
  • News
  • पर्यावण संरक्षण को लेकर भास्कर इंडस्ट्रीज ने शुरू की पॉलीथिन अवॉयड मुहिम
--Advertisement--

पर्यावण संरक्षण को लेकर भास्कर इंडस्ट्रीज ने शुरू की पॉलीथिन अवॉयड मुहिम

मंडीदीप। पर्यावरण संरक्षण हमारी नैतिक जिम्मेदारी को निभाते हुए भास्कर इंडस्ट्रीज ने संस्थान में पॉलीथिन पर...

Danik Bhaskar | Feb 01, 2018, 02:45 PM IST
मंडीदीप। पर्यावरण संरक्षण हमारी नैतिक जिम्मेदारी को निभाते हुए भास्कर इंडस्ट्रीज ने संस्थान में पॉलीथिन पर प्रतिबंध लगाते हुए जागरूकता को लेकर पॉलीथिन अवॉयड मुहिम शुरु की है। ताकि मानव स्वास्थ्य के साथ प्रकृति की अमूल्य धरोहर जल और पर्यावरण को बचाया जा सके। कंपनी द्वारा यह सराहनीय पहल 26 जनवरी गणतंत्र दिवस से शुरु की गई है।

कंपनी के एचआर हेड विश्वजीत सिंह बताते हैं कि स्वच्छ भारत अभियान के अंतर्गत पर्यावरण संरक्षण का संदेश देने पॉलीथिन के उपयोग पर प्रतिबंध लगा कर जनजागरूकता के लिए पॉलीथिन अवॉयड मुहिम शुरु की गई है। पॉलीथीन के बढ़ते उपयोग से धरती तो बंजर और प्रदूषित हो ही रही है मानव स्वास्थ्य के लिए भी बेहद हानिकारक है। इसी को ध्यान में रखते हुए कंपनी ने पेड़ लगवाने और नो पॉलीथीन का बीड़ा उठाया है। संस्थान ने सभी कर्मचारियों को डी ग्रैड पालीथीन का उपयोग न करने की शपथ दिलाई है। उन्होंने बताया कि

इसके बदले अब यहां के मजदूर और कर्मचारी कपड़े के बैग उपयोग में लाते हैं। कंपनी की ओर से डेनिम बैग मुफ्त में मुहैया कराए जाते हैं। सभी कर्मचारियों को पालीथीन का उपयोग न करने और जागरूकता बढ़ाने के लिए बैग पर पेड़ न काटने व पौधे लगाकर पर्यावरण संरक्षण की अपील छापी गई है। श्री सिंह ने बताया कि संस्थान में लगभग 2200 कर्मचारी है। जिन मे से लगभग 80 फीसदी कर्मचारी अपना खाना पॉलीथिन में रखकर लाते है। यदि इस आकडे को प्रति माह प्रतिवर्ष में आंका जाय तो यह आंकड़ा हजारों क्विंटलों में होगा। इस पर रोक लगाने से बड़ी मात्रा में पालीथीन का दुरुपयोग रोका जा सकेगा। यह कदम स्वच्छ भारत अभियान के साथ ही संस्थान में लागू अंतरराष्‍ट्रीय प्रमाण में इंटीग्रेटेड मैनेजमेंट सिस्टम के अंतर्गत चाही गई बिंदुओं के साथ ही पर्यावरण की सुरक्षा हेतू जागरूकता देने का प्रयास है।मालूम है कि कंपनी प्रबंधन द्वारा इससे पहले पर्यावरण सुरक्षा के लिए कारपूल के साथ सड़क सुरक्षा के लिए हेलमेट मुहिम चलाई जा रही है