--Advertisement--

महामृत्युंजय के जप से काल का नाश हो जाता है

जो भी व्यक्ति प्रतिदिन माह मृत्युंजय मंत्र की जाप करता है। वह कभी भी परेशान नहीं रहता है बल्कि उसका कभी अहित नहीं...

Dainik Bhaskar

Feb 02, 2018, 04:05 AM IST
महामृत्युंजय के जप से काल का नाश हो जाता है
जो भी व्यक्ति प्रतिदिन माह मृत्युंजय मंत्र की जाप करता है। वह कभी भी परेशान नहीं रहता है बल्कि उसका कभी अहित नहीं हो सकता है। यह उद‌्गार पंडित महेंद्र तिवारी ने श्रद्धालुओं के समक्ष व्यक्त किए। वह नगर में आयोजित शिव महापुराण कथा के आठवें दिन श्रद्धालुओं को किसी का अहित न करने की सलाह देकर धर्म के अनुसार आचरण किए जाने की सलाह दे रहे थे। कार्यक्रम का आयोजन नामदेव परिवार द्वारा सरस्वती शिशु मंदिर के पास कराया जा रहा है। प्रारंभ में श्रद्धालुओं द्वारा व्यास गादी की पूजा-अर्चना की गई। पंडित तिवारी ने हिरण्य कश्यप का प्रसंग सुनाते हुए बताया कि भगवान शिव शंकर की आराधना की जाना चाहिए। आराधना व तप क रने से जिस मानव पर भगवान शिव की कृपा दृष्टि हो जाती है वह मानव भव सागर से पार हो जाता है। भगवान शिव प्रत्येक भक्त की परीक्षा लेते है,जो भी परीक्षा में पास हो जाता है वह भक्त मृत्यु लोक से विजय पाकर मोक्ष को प्राप्त कर लेता है। उन्होंने कहा कि ईर्ष्या करने वाला व्यक्ति कभी भी सुखी जीवन व्यतीत नहीं कर पाता है। ईर्ष्या करने वाले व्यक्ति हमेशा ही सामने वाले व्यक्ति का अहित करने की बात सोचता रहात है। पंडित महेंद्र तिवारी ने बताया कि माता बालक की प्रथम गुरु होती है। माता के गर्भ से ही बालक को संस्कार मिलते है। गर्भावस्था के समय माता को सात्विक भोजन का सेवन करने के साथ ही धार्मिक पुस्तकों का पढ़ना चाहिए तथा अच्छे चित्र देखना चाहिए। ताकि गर्भ में पल रहे बालक में संस्कारों का बीजारोपण गर्भ से ही हो सके। उन्होंने कहा कि भगवान कहते हैं कि कभी किसी का बुरा मत सोचो, बुरा मत करो। जहां तक हो सके सभी के कल्याण की भावना रख कर अहित ना करने का संकल्प लिया जाए। एेसा किए जाने से भगवान की कृपा भक्तों पर बनी रहती है। कथा श्रवण करने बड़ी संख्या में श्रद्धालु उपस्थित रहे।

X
महामृत्युंजय के जप से काल का नाश हो जाता है
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..