Hindi News »Madhya Pradesh »Bhopal »News» Bhopal PSC Girl Student Dushkarm Case

गैंगरेप के बाद यहां कपड़े लेने गए थे आरोपी, फिर साथ ले आए दो और दोस्त

छात्रा हाथ जोड़कर गिड़गिड़ाती रही कि अब तो मुझे जाने दो। लेकिन दरिंदे नहीं माने।

BHASKAR NEWS | Last Modified - Nov 05, 2017, 02:45 AM IST

    • रेलवे ट्रैक के पास दुग्ध संघ के पीछे सघन झाड़ियों में अपराधियों की पनाहगाह है। मेनरोड से गुजरते हुए भीतर ऐसी लोकेशन का कोई अंदाजा भी नहीं लगा सकता।
      भोपाल.पीएससी की तैयारी कर रही छात्रा के सामने उस दिन सबसे पहले गोलू और अमर ही आए। संघर्ष हुआ। दोनों ने उसके साथ ज्यादती की। तब वह इस हालत में नहीं थी कि भाग सके। पौन घंटा बीत गया था। छात्रा हाथ जोड़कर गिड़गिड़ाती रही कि अब तो मुझे जाने दो। कपड़े फट चुके थे। गोलू उसे वहीं अमर की निगरानी में छोड़कर कपड़ों के इंतजाम के लिए निकला। नाले के रास्ते करीब 50 मीटर चलकर एक झुग्गी में पहुंचा। यह झुग्गी आरोपी राजेश और राजू उर्फ राजेश उर्फ रमेश की है। वे दोनों वहीं थे। गोलू ने उनसे एक जोड़ी कपड़े मांगे। राजेश और राजू ने पूछा-कपड़े क्यों चाहिए? गोलू ने लड़की की मौजूदगी की जानकारी के साथ पूरा वाकया बताया।
      वे दोनों भी गोलू के साथ घटनास्थल तक साथ आ गए। कपड़े देने के पहले राजेश अौर राजू ने भी ज्यादती की। वारदात के बाद चारों बेसुध छात्रा के पास कपड़े फेंककर भाग गए। उन्हें लगा था कि वह मर चुकी है। जीआरपी हबीबगंज की पूछताछ में आरोपियों ने बताया कि उस दिन हुआ क्या था। छात्रा वही कपड़े पहनकर आरपीएफ थाने पहुंची थी। जीआरपी ने फटे हुए कपड़े और बाद में पहने हुए कपड़े जब्त कर लिए हैं। इधर एसआरपी अनीता मालवीय का वीडियो सामने आया, जिसमें वे इस केस के बारे में बात करते हुए ठहाके लगा रही हैं। जब इस तरह के असंवेदनशील रवैए पर बातचीत करनी चाही तो फोन रिसीव नहीं किया।
      लापरवाही.... यहां रेलवे पुलिस ने कभी नहीं झांका
      राजेश नाम का तीसरा आरोपी जेल में है। वह हबीबगंज रेलवे स्टेशन प्लेटफॉर्म नंबर-5 के पास झाड़ियों के बीच एक झुग्गी में रहता है, जो सांची दुग्ध संघ के पिछले हिस्से में है। उसकी झुग्गी दुग्ध संघ की बाउंड्री वॉल और रेलवे ट्रैक के बीच नाले के पास एक छोटे-से हिस्से में है। घनी झाड़ियों और संकरी पगडंडियों के बीच यह बहुत ही दुर्गम-सी जगह है, जहां कोई आसानी से नहीं जा सकता। यहां शायद ही कभी रेलवे पुलिस ने ताकझांक की हो। रेल प्रशासन ने भी कभी इन अवैध कब्जों को हटाने के लिए कुछ नहीं किया। अपराधियों के लिए यह बड़ी सुरक्षित पनाहगाह है। रेलवे पीआरओ आईए सिद्दीकी कहते हैं - वहां कोई झुग्गी है ही नहीं। हो ही नहीं सकती। भास्कर ने उन्हें तस्वीरें भेजी हैं। स्थानीय निवासी रामकुमार तिवारी ने भास्कर को बताया कि राजेश 6 महीने पहले ही रहने आया। वह मिस्त्री का काम करता है। वह अकेला रह रहा था। ज्यादा बात नहीं करता। राजेश और राम कुमार के अलावा वहां कोई नहीं रहता। सवाल है कि जब राजेश यहां अकेला था तो उसकी झुग्गी में महिला के कपड़े कहां से आए, जो बाद में पीड़ित छात्रा को दिए गए?
      अब अफसर हो गए मौन, फोन पर बात करने से बच रहे
      आम लोगों को पुलिस थाने से लेकर सभी अफसरों के नंबर सार्वजनिक किए गए हैं, लेकिन घटना के बाद से ही सभी इस मामले में बोलने से बच रहे हैं। जीआरपी में एएसपी से लेकर एसआरपी तक कोई फोन रिसीव नहीं कर रहे, दूसरी तरफ भोपाल जिला पुलिस के अफसर भी फोन पर इस विषय पर बात करने से बच रहे हैं।
      प्रशस्ति-पत्र मिलने वाला था, लेकिन थमा दिया सस्पेंशन लेटर
      मामले में पीड़िता के साथ मौके पर जाने से लेकर बयान लेने तक की कार्रवाई हबीबगंज पुलिस ने की। टीआई हबीबगंज रविंद्र यादव ने ही मौके पर पहुंचकर जीआरपी को सूचना दी, लेकिन फिर मामला सीमा विवाद में उलझ गया। वे नियमानुसार ही काम कर रहे थे, लेकिन फिर कानूनी उलझनों में उलझ गए। इसका जिक्र मामले की जांच कर रहे एसआईटी के अधिकारी ने शुक्रवार दोपहर तक अपनी रिपोर्ट में किया। दोपहर तक टीआई को इसी रिपोर्ट के आधार पर प्रशंसा पत्र मिलने वाला था। इसके लिए जांच अधिकारी डीजीपी से अनुशंसा करने की बात कर रहे थे। लेकिन उनके अनुशंसा करने के पहले ही एमपी नगर और हबीबगंज जीआरपी टीआई के साथ-साथ हबीबगंज पुलिस थाने के टीआई रविंद्र यादव को हटा दिया गया।
      हमें कुछ अपडेट मिले हैं, दबिश दी है
      मामले की जांच कर रहे हैं। फरार आरोपी के बारे में कुछ अहम जानकारियां मिली हैं। कई ठिकानों पर दबिश दी है।
      हेमंत श्रीवास्तव, टीआई, जीआरपी भोपाल
      आगे की स्लाइड्स में देखें उन दरिंदों को जिन्होंने लड़की के साथ की दरिंदगी...
    • गैंगरेप के बाद यहां कपड़े लेने गए थे आरोपी, फिर साथ ले आए दो और दोस्त
      +8और स्लाइड देखें
      दोनों आरोपी।
    • गैंगरेप के बाद यहां कपड़े लेने गए थे आरोपी, फिर साथ ले आए दो और दोस्त
      +8और स्लाइड देखें
      रेल ट्रैक के पास अवैध झुग्गियां अपराधियों का अड्डा बन गया है।
    • गैंगरेप के बाद यहां कपड़े लेने गए थे आरोपी, फिर साथ ले आए दो और दोस्त
      +8और स्लाइड देखें
      लड़की 31 अक्टूबर की शाम कोचिंग के बाद हबीबगंज रेलवे स्टेशन लौट रही थी। इसी दौरान स्टेशन के पास वारदात हुई।
    • गैंगरेप के बाद यहां कपड़े लेने गए थे आरोपी, फिर साथ ले आए दो और दोस्त
      +8और स्लाइड देखें
      पुलिस ने गैंगरेप में शामिल 3 आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है, एक की तलाश जारी है।
    • गैंगरेप के बाद यहां कपड़े लेने गए थे आरोपी, फिर साथ ले आए दो और दोस्त
      +8और स्लाइड देखें
      पुलिस की गिरफ्त में आरोपी।
    • गैंगरेप के बाद यहां कपड़े लेने गए थे आरोपी, फिर साथ ले आए दो और दोस्त
      +8और स्लाइड देखें
      गिरफ्तार आरोपियों को शुक्रवार को कोर्ट में पेश किया गया।
    • गैंगरेप के बाद यहां कपड़े लेने गए थे आरोपी, फिर साथ ले आए दो और दोस्त
      +8और स्लाइड देखें
      पुलिस ने तीन आरोपियों को गिरफ्तार किया है। चौथा फरार बताया गया है।
    • गैंगरेप के बाद यहां कपड़े लेने गए थे आरोपी, फिर साथ ले आए दो और दोस्त
      +8और स्लाइड देखें
      इस जगह से लड़की के लिए आरोपी कपड़े लेकर आए थे।
    आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
    दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

    More From News

      Trending

      Live Hindi News

      0

      कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
      Allow पर क्लिक करें।

      ×