Hindi News »Madhya Pradesh »Bhopal »News» Birth Anniversary Of Former Cm Arjun Singh

पिता के अपमान का बदला लेने को लड़ा था इलेक्शन, तीन बार बने थे सीएम

एमपी के पूर्व सीएम और इंडियन पॉलिटिक्स के दिग्गज राजनेता कुंवर अर्जुन सिंह का 5 नवंबर को जन्मदिन है। इस

DainikBhaskar.com | Last Modified - Nov 06, 2017, 02:47 AM IST

  • पिता के अपमान का बदला लेने को लड़ा था इलेक्शन, तीन बार बने थे सीएम
    +9और स्लाइड देखें
    अर्जुन सिंह अपने पिता का बदला लेने के लिए राजनीति में आए थे।
    नई दिल्ली. एमपी के पूर्व सीएम और इंडियन पॉलिटिक्स के दिग्गज राजनेता कुंवर अर्जुन सिंह का 5 नवंबर को जन्मदिन है। इस मौके पर हम आपको उनकी लाइफ से जुड़े फैक्ट्स शेयर कर रहे हैं। बता दें अर्जुन सिंह को लोग बड़े प्यार से दाऊ साहब कहते थे। 1952 में एमपी के चुरहट से राजनीति के शुरूआत की थी। तीन बार एमपी के सीएम रहे, केंद्र में कई अहम पदों पर भी रहे। पिता के अपमान का बदला लेने लड़े थे इलेक्शन....

    - अर्जुन सिंह ने अपने राजनीतिक करियर की शुरूआत किसी पार्टी के सहारे नहीं अपने बल पर शुरू की थी।
    - साल 1952 में प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू ने इलेक्शन कैंपेन के दौरान अर्जुन सिंह के पिता राव शिवबहादुर सिंह को इलेक्शन कैंडिडेट के तौर पर घोषित किया था.
    - लेकिन रीवा पहुंचने के बाद नेहरू ने अपनी स्पीच में ये कह दिया कि उनकी पार्टी से कोई कैंडिडेट नहीं है।
    - इसके बाद अर्जुन सिंह के पिता निर्दलीय इलेक्शन लड़े लेकिन वो उस वक्त जीत नहीं पाए। जिसका अर्जुन सिंह पर गंभीर असर हुआ। और इसी अपमान का बदला लेने के लिए वे व्यक्तिगत तौर पर राजनीति में आ गए और कभी पीछे मुड़कर नहीं देखा।

    पहली बार बने एमएलए
    - अर्जुन सिंह अपने पिता का बदला लेने के लिए राजनीति में एक्टिव हो गए।
    - साल 1957 में अर्जुन सिंह कांग्रेस का टिकट लेने के लिए तैयार नहीं हुए और कांग्रेस से अपनी हार का बदला लेने के लिए निर्दलीय कैंडिडेट चुरहट असेंबली से इलेक्शन लड़ा । अपने पिता का बदला लेते हुए विधायक इलेक्ट हुए।
    जब नेहरू ने बुलाया दिल्ली..
    - कांग्रेस में कहा जाता कि यदि कांग्रेस किसी को लैंप-पोस्ट टिकट दे तो उसकी जीत पक्की है। अर्जुन सिंह कांग्रेस की इस कहावत को तोड़ने में सफल रहे।
    - साल 1961 में एमपी असेंबली में एक प्रस्ताव रखा गया कि सभी एमएलए को अपनी प्रॉपर्टी वेरिफाइ करनी होगी। इसके बाद अर्जुन सिंह ने नेहरू जी को एक लेटर पर लिखा जिससे प्रभावित होकर उन्होंने अर्जुन सिंह को दिल्ली बुला लिया।
    - चर्चा के बाद जब अर्जुन सिंह निकले तो नेहरू से खूब प्रभावित थे और कांग्रेस में शामिल होने की घोषणा कर दिए।
    तीन बार रहे एमपी के सीएम....

    1977 में कांग्रेस अल्पमत में आ गई और प्रदेश में जनता पार्टी की सरकार बनी जिससे एमपी असेंबली का अपोजीशन लीडर अर्जुन सिंह को बनाया गया।
    - अर्जुन सिंह ने अपोजीशन लीडर बनकर जिस तरह से काम किया शायद ही इंडियन पॉलिटिक्स में ऐसे उदाहरण देखने को मिलते हैं।
    - उन्होंने तीन साल नेता प्रतिपक्ष रहते हुए तत्कालीन जनता सरकार के तीन सीएम बदलने पर मजबूर कर दिए थे। जिसमें कैलाश जोशी , वीरेंद्र सकलेचा और सुंदरलाल पटवा शामिल हैं। इस बाद राष्ट्रपति लागू होने के बाद इलेक्शन कराए गए। जिसमें कांग्रेस फुल मेजारिटी में थी।
    - इसके बाद तमाम विरोधी अटकलों के बीच अर्जुन सिंह को कांग्रेस आलाकमान ने सीएम बनाया। साल 1980 में पहली बार वे सीएम बने।
    - इसके बाद उन्होंने दूसरी बार एक साल और तीसरी बार भी एक साल सीएम की कुर्सी संभाली। फिर केंद्र की राजनीति में चले गए।
    - नई दिल्ली लोकसभा में तत्कालीन सांसद की मौत होने की वजह से सीट खाली हो गई थी। अर्जुन सिंह को वहां से इलेक्शन लड़ाया गया। जहां से वे जीते और साथ ही उन्हें केंद्र का संचार मंत्री बनाया गया।
    - उन्हें राजीव गांधी की हत्या के बाद नरसिम्हा राव सरकार में मानव संसाधन मंत्री बनाया गया। मनमोहन सिंह सरकार में मानव संसाधन मंत्री रहे। आखिरी वक्त में वे राज्यसभा सांसद थे।
    आगे की स्लाइड्स में देखें फोटोज...
  • पिता के अपमान का बदला लेने को लड़ा था इलेक्शन, तीन बार बने थे सीएम
    +9और स्लाइड देखें
    वे एमपी के तीन बार सीएम बने थे।
  • पिता के अपमान का बदला लेने को लड़ा था इलेक्शन, तीन बार बने थे सीएम
    +9और स्लाइड देखें
    एमपी असेंबली का अपोजीशन लीडर अर्जुन सिंह को बनाया गया।
  • पिता के अपमान का बदला लेने को लड़ा था इलेक्शन, तीन बार बने थे सीएम
    +9और स्लाइड देखें
    राजीव गांधी की हत्या के बाद नरसिंहा राव सरकार में मानव संसाधन मंत्री बने।
  • पिता के अपमान का बदला लेने को लड़ा था इलेक्शन, तीन बार बने थे सीएम
    +9और स्लाइड देखें
  • पिता के अपमान का बदला लेने को लड़ा था इलेक्शन, तीन बार बने थे सीएम
    +9और स्लाइड देखें
  • पिता के अपमान का बदला लेने को लड़ा था इलेक्शन, तीन बार बने थे सीएम
    +9और स्लाइड देखें
  • पिता के अपमान का बदला लेने को लड़ा था इलेक्शन, तीन बार बने थे सीएम
    +9और स्लाइड देखें
  • पिता के अपमान का बदला लेने को लड़ा था इलेक्शन, तीन बार बने थे सीएम
    +9और स्लाइड देखें
  • पिता के अपमान का बदला लेने को लड़ा था इलेक्शन, तीन बार बने थे सीएम
    +9और स्लाइड देखें
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From News

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×