Hindi News »Madhya Pradesh »Bhopal »News» Brother Wandering Between Two Police Stations For Complaint.

बहन की मौत से पहले शिकायत के लिए दो थाने के बीच भटकता रहा भाई, डायल-100 ने भी नहीं दिया ध्यान

साकेत नगर निवासी 32 वर्षीय रंजीता नीलकंठ को हमीदिया अस्पताल में भर्ती कराया।

Bhaskar News | Last Modified - Nov 14, 2017, 05:42 AM IST

  • बहन की मौत से पहले शिकायत के लिए दो थाने के बीच भटकता रहा भाई, डायल-100 ने भी नहीं दिया ध्यान
    भोपाल.तीन दिन पहले संदिग्ध परिस्थितियों में ससुराल वालों ने साकेत नगर निवासी 32 वर्षीय रंजीता नीलकंठ को हमीदिया अस्पताल में भर्ती कराया। महिला के 23 वर्षीय छोटे भाई सावन ने डायल-100 से लेकर थाने तक फोन किया। डायल-100 मौके पर आई। डॉक्टर से बात की और दूसरे थाने का मामला बताकर चली गई। पीड़ित का भाई हबीबगंज थाने पहुंचा। वहां से पुलिसकर्मी मौके पर गए लेकिन शाहपुरा थाने का मामला कहते हुए वे भी लौट गए। यहां अस्पताल में बहन की बिगड़ती तबियत की सूचना मिलते ही सावन शाहपुरा थाने न जाकर अस्पताल आ गया।
    - दोपहर को उसने एक बार फिर डायल-100 को कॉल किया। इसके बाद शाहपुरा थाने की एफआरवी से कॉल सावन के पास पहुंचा। उसके घटनाक्रम बताने पर एफआरवी ने मौके का मुआयना तो किया, लेकिन अस्पताल में यह कहते हुए आने से मनाकर दिया कि अस्पताल से सूचना आने पर जाएंगे।
    - बहन के मरने से पहले बयान कराने के लिए भाई भटकता रहा और सोमवार तड़के महिला ने अस्पताल में दम तोड़ दिया। परिजनों ने एम्स तिराहे पर सोमवार दोपहर महिला का शव रखकर चक्काजाम किया।
    परिजनों ने एम्स तिराहे पर शव रखकर किया चक्काजाम
    - शादी के बाद से ही कर रहे थे परेशान....साकेत नगर निवासी सावन के अनुसार उसकी बहन रंजीता की 15 साल पहले खंडवा निवासी मुकेश नीलकंठ से शादी हुई थी। शादी के बाद से ही उसे परेशान किया जाने लगा था।
    - गत 15 सितंबर 2017 में उसने बताया कि ससुराल वालों ने उससे मारपीट की है। उसकी सूचना पर डायल-100 ने रंजीता की शिकायत पर कोतवाली थाने में मुकेश समेत अन्य खिलाफ मामला दर्ज किया गया था।
    - सावन ने बताया कि उसके बाद हम रंजीता को भोपाल ले आए थे। ठीक होने पर पांच दिन पहले बहन की सास और ननद उसे अपने साथ बारह नंबर स्थित अपने रिश्तेदारों के यहां ले गए। उन्होंने बताया कि रंजीता को हमीदिया अस्पताल में भर्ती किया है। पुलिस से दो दिन से शिकायत कर रहे थे, लेकिन किसी ने नहीं सुनी।
    शिकायतकर्ता से मिलना भी जरूरी नहीं समझा
    - शाहपुरा पुलिस ने पोस्टमार्टम के बाद शव परिजनों को सौंप दिया। सावन ने आरोप लगाए कि डायल-100 पर कॉल करने से शाहपुरा एफअारवी से फोन आया। अस्पताल से सूचना आने पर ही वह अस्पताल आएंगे।
    - मामले में पहली सूचना मिलने के बाद पुलिस को पीड़िता के बयान लेने चाहिए थे, लेकिन पुलिस ने ऐसा नहीं किया। इसके बाद शाहपुरा पुलिस की डायल-100 ने घटनास्थल पर तो पूछताछ की, लेकिन शिकायतकर्ता से मिलना जरूरी नहीं समझा।
    शार्ट पीएम रिपोर्ट में मिला संदिग्ध जहर, जांच जारी
    - परिजनों ने 12 नंबर स्टाफ स्थित मल्टी में ससुराल में रंजीता से मारपीट की शिकायत की थी। शार्ट पीएम रिपोर्ट में महिला के शरीर में संदिग्ध जहर पाया गया है। हम मामले की जांच कर रहे हैं।
    -जितेंद्र पटेल, टीआई शाहपुरा
    लापरवाही की जांच करेंगे
    - घटना की सूचना सोमवार सुबह करीब 5 बजे हमीदिया अस्पताल से आई थी। उसके बाद मर्ग कायम कर लिया है। पहली सूचना मिलने के बाद किस स्तर पर कोताही बरती गई, उसकी जांच कर रहे हैं।
    -हितेश चौधरी, एएसपी जोन-2
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From News

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×