Hindi News »Madhya Pradesh »Bhopal »News» If You Are In Trouble Then Touch Mobile On WSEF

मुसीबत में हों तो मोबाइल पर टच करें डब्ल्यूसेफ्टी, तैयार किया मोबाइल एप

पुलिस ने फिर महिलाओं की सुरक्षा के लिए पहल करते हुए डब्ल्यूसेफ्टी नाम से एप तैयार किया है।

Bhaskar News | Last Modified - Nov 14, 2017, 05:38 AM IST

  • मुसीबत में हों तो मोबाइल पर टच करें डब्ल्यूसेफ्टी, तैयार किया मोबाइल एप
    भोपाल.रेलवे ट्रैक के पास छात्रा से गैंगरेप की घटना से सबक लेते हुए भोपाल पुलिस ने फिर महिलाओं की सुरक्षा के लिए पहल करते हुए डब्ल्यूसेफ्टी नाम से एप तैयार किया है। सोमवार दोपहर डीआईजी संतोष कुमार सिंह इसे लॉन्च किया। पहले दिन 50 लोगों ने टेस्ट करते हुए इस पर कॉल किए। यह सिटीजन कॉप में दिए गए फीचर एसओएस को अलग करके बनाया गया है।
    - गूगल प्ले स्टोर से डब्ल्यूसेफ्टी (wsafty) एप को डाउनलोड करने पर मोबाइल धारक को अपना नाम और परिचित के दो मोबाइल नंबर देने होंगे। इसके बाद वह रजिस्टर्ड हो जाएगा। मुसीबत में डेंजर पर क्लिक करने से पुलिस और परिचित को एसएमएस के माध्यम से लोकेशन और हेल्प मी का मैसेज पहुंच जाएगा।
    डाउनलोड करते समय दर्ज कराना होंगे दो मोबाइल फोन नंबर
    - 2.5 एमबी की यह फाइल गूगल प्ले स्टोर में जाकर डब्ल्यूसेफ्टी नाम से है। इसे स्टोर करने के बाद आपको अपना नाम और अपने परिचित के दो नंबर दर्ज कराने होते हैं। सेव करते ही मोबाइल धारक इसमें रजिस्टर्ड हो जाता है।
    - इस एप की जिम्मेदारी वाट्सएप्प मॉनिटरिंग सेल को सौंपी गई है। कंट्रोल रूम इसका सेंटर बनाया गया है। कॉल आते ही संबंधित अधिकारी कॉल बैक करेगा। बात नहीं होने पर वह लोकेशन के आधार पर डायल-100, संबंधित थाने, महिला पीसीआर और महिला मैत्री को सूचना देगा।
    स्थिति : पहले ही दिन मिलीं खामियां
    - पहले ही दिन भास्कर ने जब इस एप को पांच अलग-अलग मोबाइल फोन पर डाउनलोड किया तो इसमें कुछ खामियां भी सामने आई। सभी फोन पर डाउनलोड इस एप से न तो कॉल सेंटर और न ही परिचित तक एसएमएस पहुंचा। इसके अलावा यह भी समस्या प्रमुख रही-
    - एसएमएस नहीं पहुंच रहे है।
    - एप पूरी तरह से एक्जिट नहीं होता है।
    - रिंग जाने पर ही पुलिस तक कॉल पहुंच रहा।
    तर्क : दो सिम वाले मोबाइल में कुछ समस्या
    - दो सिम वाले मोबाइल में एप के कारण कुछ समस्या हो रही है। इसमें अगर मोबाइल में कॉलिंग के लिए प्राथमिकता के लिए सिम एक्टिवेट नहीं है, तो डेंजर पर क्लिक करने के बाद भी कॉल नहीं होगा।
    - इसके लिए मोबाइल धारक को फोन में कॉल के लिए सिर्फ एक ही सिम का ऑप्शन एक्टिवेट करना होगा, ताकि एप में डेंजर पर क्लिक करने पर कॉल सीधे उसी नंबर से पहुंचे। इस एप के लिए मोबाइल फोन में इंटरनेट की जरूरत नहीं है। मोबाइल टावर लोकेशन से यह एप चलता है।
    फ्री नहीं है एसएमएस व कॉल
    - डेंजर पर टच करते ही आपका फोन एक्टिवेट हो जाता है। इसके बाद आपके फोन से मिस्ड कॉल लोकेशन और एक एसएमएस जनरेट होकर ऑटोमेटिक पुलिस अधिकारी और रजिस्टर्ड संबंधित दो नंबरों पर जाता है। इस एसएमएस का चार्ज है, जो आपके डाटा पैकेज के अनुसार लिया जाएगा।
    खामियों में जल्द होगा सुधार
    - काफी परीक्षण के बाद ही हमने इसे लाॅन्च किया है। कुछ खामियां हो सकती है, जो एप्प के उपयोग होने पर सामने आएंगी। कंपनी इस पर काम कर रही है और उसमें सुधार किया जा रहा है।
    संतोष कुमार सिंह, डीआईजी
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From News

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×