Hindi News »Madhya Pradesh News »Bhopal News »News» The Car Stuck In Jam, Women Has Labor Pen, TI Help Her

जाम में फंसी कार, मां ने कहा- बेटी को है लेबर पेन, TI ने थाम लिया स्टेयरिंग

Bhaskar News | Last Modified - Nov 13, 2017, 06:28 PM IST

राष्ट्रपति का काफिला निकलना था, ट्रैफिक रोका गया था, 15 मिनट की मशक्कत के बाद जाम से निकले।
  • जाम में फंसी कार, मां ने कहा- बेटी को है लेबर पेन, TI ने थाम लिया स्टेयरिंग
    +6और स्लाइड देखें
    भोपाल. शहर में टीआई सुदेश तिवारी की सूझबूझ से एक मां और उसके होने वाले बच्चे की जान बच गई। दरअसल, शहर के रिटायर्ड बैंक मैनेजर मोहम्मद इकबाल अपनी पत्नी शाहाना के साथ बेटी को लेकर हॉस्पिटल जा रहे थे। इसी दौरान उस रास्ते से प्रेसीडेंट रामनाथ कोविंद का काफिला गुजरना था। जिस वजह से उनकी कार ट्रैफिक जाम में फंस गई। वहीं बेटी का लेवर पेन बढ़ता जा रहा था। बेटी की मां ने ड्यूटी पर मौजूद टीआई सुदेश तिवारी से हेल्प मांगी। इसके तुरंत बाद टीआई ने खुद कार चलाकर उन्हें हॉस्पिटल पहुंचाया। 15 मिनट की मशक्कत के बाद निकले जाम से.....
    - मोहम्मद इकबाल ने बातचीत के दौरान बताया कि शनिवार सुबह करीब 8.30 बजे वे अपनी कार से पत्नी शाहाना और 32 साल की बेटी बसीरत फातिमा को लेकर हॉस्पिटल के लिए निकले थे। बेटी को लेबर पेन हो रहा था उसकी डिलवरी होनी थी।
    - राजभवन जाने वाला रास्ता बंद होने के की वजह से मौजूद पुलिसकर्मियों ने उन्हें रोशनपुरा के रास्ते से जाने को कहा। इसके बाद वे रोशनपुरा से बाणगंगा चौराहे पर पहुंचने पर ट्रैफिक जाम में फंस गए। वहीं बेटी का दर्द बढ़ता जा रहा था। इसके बाद पत्नी पुलिसकर्मियों के पास मदद के लिए पहुंची।
    - मामले की गंभीरता को देखते हुए टीआई सुदेश तिवारी कार के पास आए और पिता को साइड वाली सीट पर करते हुए खुद ने स्टीयरिंग वाली सीट पर बैठ गए। वहीं दो सिपाहियों ने पीछे से गाड़ियों को एक तरफ करना शुरू किया।
    - करीब 15 मिनट की मेहनत और मशक्कत के बाद वे कार को जाम से निकालने में सफल हुए। जिसके बाद सीधे कोहेफिजा हॉस्पिटल पहुंचे जहां आधे घंटे बाद ही महिला की डिलेवरी की गई। उन्होंने एक बेटी को जन्म दिया।
    डीजीपी को किया ट्वीट...
    - बसीरत ने लॉ में पीएचडी की है। बेटा लखनऊ से आए दामाद मोहम्मद मोहिनउद्दीन को भोपाल स्टेशन से लेकर हॉस्पिटल पहुंचा।
    - जब उसे पता चला तो उसने डीजीपी को ट्वीट कर टीआई का शुक्रिया अदा किया।
    यह तो मेरी ड्यूटी थी
    - टीआई सुदेश तिवारी ने कहा कि एक फैमिली परेशानी में थी। ऐसे में यह मेरी ड्यूटी थी कि मैंने सही- सलामत बाहर निकालता। जो भी किया वह मेरी कर्तव्य था।
    आगे की स्लाइड्स में देखें PHOTOS....
  • जाम में फंसी कार, मां ने कहा- बेटी को है लेबर पेन, TI ने थाम लिया स्टेयरिंग
    +6और स्लाइड देखें
  • जाम में फंसी कार, मां ने कहा- बेटी को है लेबर पेन, TI ने थाम लिया स्टेयरिंग
    +6और स्लाइड देखें
  • जाम में फंसी कार, मां ने कहा- बेटी को है लेबर पेन, TI ने थाम लिया स्टेयरिंग
    +6और स्लाइड देखें
  • जाम में फंसी कार, मां ने कहा- बेटी को है लेबर पेन, TI ने थाम लिया स्टेयरिंग
    +6और स्लाइड देखें
  • जाम में फंसी कार, मां ने कहा- बेटी को है लेबर पेन, TI ने थाम लिया स्टेयरिंग
    +6और स्लाइड देखें
  • जाम में फंसी कार, मां ने कहा- बेटी को है लेबर पेन, TI ने थाम लिया स्टेयरिंग
    +6और स्लाइड देखें
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए Bhopal News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: The Car Stuck In Jam, Women Has Labor Pen, TI Help Her
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

Stories You May be Interested in

      रिजल्ट शेयर करें:

      More From News

        Trending

        Live Hindi News

        0
        ×