इस जुगाड़ से कबाड़ डस्टबिन बनी खूबसूरत दुकान

2 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
डस्टबिन से नगर निगम 85 और दुकानें बनाएंगा। - Dainik Bhaskar
डस्टबिन से नगर निगम 85 और दुकानें बनाएंगा।
  • डस्टबिन फ्री घोषित करने के बाद दो साल से बेतरतीब पड़े हुए थे...अब इनसे बनी दुकानें दिव्यांगों के काम आएंगी

भोपाल| दो साल पहले शहर से करीब 4000 डस्टबिन हटाए थे, जो इधर-उधर पड़े हुए थे। एेसे में नगर निगम ने इन कबाड़ के डस्टबिन को जुगाड़ से एक खूबसूरत दुकान में तब्दील कर दिया है। निगम इसे किसी दिव्यांग व्यक्ति को संचालन के लिए देगा। एेसी 85 और दुकानें तैयार की जाएंगी। इसे बनाने में 35 हजार खर्च हुए हैं। 

चर्चा में आया आइडिया... 
निगम उपायुक्त विनोद शुक्ला बताते हैं कि वर्कशाप प्रभारी बृजराज सिंह सेंगरकबाड़ से जुगाड़ के तहत रेडियो बनाने वाले पवन देशपांडे के साथ वे इन डस्टबिनों के उपयोग को लेकर चर्चा कर रहे थे, तभी यह आइडिया आया। निगम कमिश्नर बी विजय दत्ता ने कहा कि हर वार्ड के लिए एक दुकान तैयार करने को कहा।

ख्याल इनका भी...रात में सफाई मेंं जुटे कामगारों को पिलाई चाय

 कड़कड़ाती सर्दी में रात में शहर की सफाई में लगे 400 कामगारों के प्रति सम्मान का भाव जताने के लिए शनिवार देर रात नगर निगम अपर आयुक्त राजेश राठौड़ उनके लिए चाय लेकर पहुंचे। राठौड़  के साथ निगमकर्मी पंकज खरे और योगेश दुबे भी थे। फतेहगढ़ स्थित एक दुकान से चाय खरीदी और दो ग्रुप में शहर में निकल गए। एक ग्रुप ने चौक, जुमेराती से बैरागढ़ तो दूसरे ग्रुप ने न्यू मार्केट, एमपी नगर, बिट्टन मार्केट की तरफ रूख किया। सड़क पर जहां भी कामगार सफाई करते हुए मिले उन्हें चाय पिलाई। राठौड़ ने कहा कि बीच-बीच में कामगारों के उत्साहवर्धन के लिए एेसे प्रयास जारी रखे जाएंगे।

खबरें और भी हैं...