• Hindi News
  • Mp
  • Bhopal
  • Adampur Cantonment: 3 lakh tons of garbage in two years, now 15 crore will be spent on disposal

स्वच्छ सर्वे की तैयारी / आदमपुर छावनी : दो साल में 3 लाख टन कचरा, अब निपटान पर खर्च होंगे 15 करोड़

Adampur Cantonment: 3 lakh tons of garbage in two years, now 15 crore will be spent on disposal
X
Adampur Cantonment: 3 lakh tons of garbage in two years, now 15 crore will be spent on disposal

  • सर्वे में तय हैं 60 नंबर, इसमें से 50 नंबर मिलना तय
  • एक सप्ताह में शुरू हो जाएगी कचरा निपटाने की प्रक्रिया, नौ महीने में पूरा होगा काम

Dainik Bhaskar

Dec 03, 2019, 07:03 AM IST

भोपाल . आदमपुर छावनी में कचरे से बिजली बनाने की योजना फेल होने से पिछले दो साल में यहां जमा हुआ 3 लाख टन से अधिक कचरे की रिसाइकलिंग प्रक्रिया एक हफ्ते में शुरू हो जाएगी। इस पर 14 करोड़ 96 लाख 88 हजार रुपए खर्च होंगे। इस कचरे का पूरी तरह निपटान होने में नौ माह का समय लगेगा। यह काम शुरू होने पर जनवरी में होने वाले स्वच्छ सर्वे में डंपिंग साइट के कचरे के निपटान पर 60 नंबरों में से कम से कम 50 नंबर मिल जाएंगे। 


नगर निगम ने 2016 में आदमपुर छावनी में कचरे से बिजली बनाने के लिए मुंबई की एस्सेल इंफ्रा से अनुबंध किया था। दिसंबर 2017 से आदमपुर छावनी में कचरा इस उम्मीद के साथ डम्प किया गया था कि अगले कुछ दिनों में कचरे से बिजली बनना शुरू हो जाएगी। इसी आधार पर प्रदूषण नियंत्रण मंडल ने अस्थायी अनुमति जारी की थी। लेकिन यह प्रोजेक्ट डम्प हो गया। इस बीच आदमपुर छावनी में कचरे का ढेर पहाड़ में बदल गया। इस क्षेत्र में भी भानपुर की तरह बदबू फैलने लगी।


अब इस जहरीले कचरे के निष्पादन के लिए नगर निगम ने एजेंसी तय कर ली है। हाल ही में हुई एमआईसी की बैठक में इंदौर की सुसज्जा इंटरप्राइजेज प्राइवेट लिमिटेड को 14 करोड़ 96 लाख 88 हजार रुपए में यह काम दिया गया है। यहां बायोरेमेडिएशन पद्धति से कचरे का निष्पादन होगा। इस कचरे से कम्पोस्ट बनेगा। इसके अलावा प्लास्टिक कचरे को रिसाइकिल किया जाएगा और सीएंडडी वेस्ट व अन्य कचरे का उपयोग लैंडफिल में होगा। अगले साल सितंबर तक यह कचरा खत्म करने का टारगेट रखा गया है।

अब कचरे के निष्पादन की जिम्मेदारी इंदौर की एक कंपनी को सौंपी गई

14.6 करोड़ 83 मटेरियल रिकवरी सेंटर के लिए

05 करोड़ निगमों में ट्रांसफर स्टेशन के लिए

12 करोड़ का अनुदान सूचना, शिक्षा के लिए

भानपुर खंती से कटे थे नंबर - भोपाल वर्ष 2017 और 2018 में लगातार स्वच्छता सर्वेक्षण में देश में दूसरे नंबर पर रहा। दोनों बार भानपुर खंती में डंप पड़ा 40  साल पुराना कचरा हमारे पहले नंबर पर आने में अड़चन बन गया। पिछले साल सर्वे के मापदंड बदलने से हम और पिछड़ गए। अब भानपुर खंती में कचरे का निष्पादन लगभग पूरा हो गया है, लेकिन आदमपुर छावनी में कचरे का पहाड़ बनकर तैयार है। 

खंती के कचरे के निष्पादन पर 60 नंबर
स्वच्छ सर्वे-2020 में खंती के कचरे के 95 फीसदी से अधिकतम निष्पादन पर 60 नंबर मिलना है। 80 से 95 प्रतिशत कचरा निष्पादन पर यह 50 हो जाएगा। भानपुर खंती में कचरे का निपटान लगभग पूरा हो गया है और एक माह में यदि 10-15 प्रतिशत कचरे का निपटान भी हो गया तो निगम 95 फीसदी से अधिक के आधार पर पूरे 60 नंबर क्लेम करेगा। प्रत्यक्ष अवलोकन में यदि निगेटिव मार्किंग हुई तब भी 50 नंबर मिलना तय है। 

कचरे का...िनष्पादन

15 दिन में एक और यूनिट लगेगी
इस पड़े हुए कचरे के निष्पादन के अलावा रोजाना आ रहे कचरे का निष्पादन करने के लिए कम्पोस्ट बनाने की एक और यूनिट बनाने का काम चल रहा है। अगले 15 दिन में यह भी तैयार हो जाएगी। 

आगामी 15 दिन में दिखने लगेगा अंतर
 आदमपुर छावनी में पिछले दो साल में कचरे के पहाड़ बन गए हैं। एक सप्ताह के भीतर काम शुरू हो जाएगा और 15 दिन में आपको अंतर दिखने लगेगा। स्वच्छ सर्वे के साथ शहर के पर्यावरण के लिहाज से भी इस कचरे का निष्पादन जरूरी है। राजेश राठौड़, अपर आयुक्त (स्वास्थ्य), नगर निगम

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना