5 साल पहले लीवर 74 फीसदी हिस्सा दान कर चुकी अंकिता ने वर्ल्ड ट्रांसप्लांट गेम्स में जीते दो गोल्ड

2 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
वर्ल्ड ट्रांसप्लांट गेम्स में दो गोल्ड जीतने वाली देश की पहली एथलीट बनीं। - Dainik Bhaskar
वर्ल्ड ट्रांसप्लांट गेम्स में दो गोल्ड जीतने वाली देश की पहली एथलीट बनीं।
  • वर्ल्ड ट्रांसप्लांट गेम्स में वही एथलीट भाग लेते हैं, जो या तो अंगदान कर चुके होते हैं या ले चुके होते हैं
  • कैसल में हुए गेम्स में अंकिता शामिल हुईं, दो गोल्ड जीतने वाली देश की पहली एथलीट बनीं अंकिता

भोपाल. शहर की प्रतिभावान एथलीट अंकिता श्रीवास्तव वर्ल्ड ट्रांसप्लांट गेम्स में डबल गोल्ड जीतने वाली देश की पहली एथलीट बन गई हैं। उन्होंने ब्रिटेन के कैसल में शुक्रवार को एक ही दिन में दो गोल्ड जीते-लॉन्ग जंप में 3.61 मीटर की छलांग लगाई और ढाई घंटे बाद 31.7 मीटर दूर बॉल थ्रो करके परचम लहरा दिया। 
 
अंकिता ने पांच साल पहले 2014 में अपनी मां को लिवर का 74 फीसदी हिस्सा डोनेट किया था। वर्ल्ड ट्रांसप्लांट गेम्स में दो गोल्ड जीतने वाली अंकिता श्रीवास्तव पहली भारतीय खिलाड़ी हैं। यूके में चल रही इस चैंपियनशिप में अंकिता का तीसरा मेडल है। वीरवार को उन्होंने 100 मीटर फर्राटा दौड़ में 15.31 सेकंड का समय निकालते हुए सिल्वर मेडल जीता था। 
 
शुक्रवार को लॉन्ग जंप के फाइनल मुकाबले में अंकिता ने ब्रिटेन की जैनी कीरी को पीछे छोड़ा। जैनी 3.31 मीटर की छलांग के साथ सिल्वर मेडल जीत पाईं। इसका ब्रॉन्ज जर्मनी के हिस्से में गया। जर्मनी की मार्टिना हरमन 2.95 मीटर कूद पाईं। बाॅल थ्राे में अंकिता ने जर्मनी की मार्टिना काे पीछे छाेड़ा। मार्टिना 25.6 मीटर बाॅल थ्राे कर पाईं और सिल्वर जीता। फ्रांस की चेका ब्रॉन्ज मेडल जीत सकीं। 

यूके से फोन पर अंकिता ने कहा- मैंने दूसरा गोल्ड भी जीत लिया 
ई-5 अरेरा कालोनी निवासी अंकिता से फोन पर बात हुई तो उनका पहला वाक्य था- मैंने दूसरा गोल्ड भी जीत लिया। मैं देश की पहली ऐसी एथलीट बन गई हूं जिसने इन गेम्स में डबल गोल्ड जीते हैं। वो भी ढाई घंटे में। अंकिता ने करियर कालेज से कंप्यूटर साइंस में ग्रेजुएशन किया है।
 
सेंट जोसेफ स्कूल की छात्रा रही हैं। वर्ल्ड ट्रांसप्लांट गेम्स के लिए 14 सदस्यीय टीम चुने जाने के बाद उन्होंने साई सेंटर भोपाल में कोच अमित गौतम के मार्गदर्शन में जमकर अभ्यास किया था। ट्रांसप्लांट गेम्स टीम में चुने जाने से पहले वह नेशनल स्विमर रही हैं। उन्होंने स्विमिंग में प्रदेश के लिए पदक जीते हैं। 
 

जिगरवाली : इन गेम्स में वही एथलीट हिस्सा लेते हैं जो या तो अंग दान कर चुके हैं या अंग ले चुके हैं। 5 साल पहले अंकिता मां को जिगर (लिवर) का 74% हिस्सा दे चुकी हैं। 
 

  • लॉन्ग जंप में 3.61 मीटर की दूरी नापी।
  • बॉल थ्रो में अंकिता (बीच में) ने 31.7 मीटर दूर बॉल फेंका।
खबरें और भी हैं...