हनी ट्रैप / पुलवामा और बालाकोट अटैक के बाद भी विदेशी महिला के संपर्क में था सेना का क्लर्क



army clerk was in touch with foreign woman After Pulwama and Balakot attack
X
army clerk was in touch with foreign woman After Pulwama and Balakot attack

  • महू से गिरफ्तार अविनाश से पूछताछ में एटीएस को मिली अहम जानकारियां
  • वीडियो कॉलिंग के जरिए सेना के मूवमेंट के दस्तावेज दिखाने का शक

Dainik Bhaskar

May 18, 2019, 01:19 AM IST

भोपाल. सैन्य संस्थानों की गोपनीय जानकारी विदेशी महिला को लीक करने के आरोप में गुरुवार को इंदौर के महू से गिरफ्तार अविनाश कुमार के बारे में मप्र एटीएस को कई अहम जानकारियां मिली हैं। सूत्रों के मुताबिक पुलवामा अटैक और उसके बाद हुई बालाकोट एयर स्ट्राइक के वक्त भी अविनाश विदेशी महिला से संपर्क बनाए हुए था।

 

जांच एजेंसी को शक है कि उसने वीडियो कॉलिंग कर सेना के मूवमेंट की जानकारी हनी ट्रैप को दी। यह महिला उससे खुद को राजस्थान का बताकर लगातार सेना की जानकारियां हासिल कर रही थी। मिलिट्री हेडक्वाॅर्टर ऑफ वॉर (महू) में बॉर्डर पर मिलिट्री की हर गतिविधि की जानकारी रहती है। जांच एजेंसी का कहना है कि यहां के और भी कुछ लोग हैं, जिन पर नजर रखी जा रही है। 

 

अविनाश कुमार पर एटीएस, सेंट्रल एजेंसी और मिलिट्री इंटेलिजेंस भी नजर रखे हुए थी। शक करीब दस महीने पहले तब बढ़ गया, जब उसके बैंक खाते में पहली बार दस हजार रुपए ट्रांसफर हुए। ये रकम दिल्ली से ट्रांसफर की गई थी। जांच एजेंसी अब अविनाश, उसके परिवार और दोस्तों के बैंक स्टेटमेंट की जानकारी जुटा रही है।

 

एटीएस ने शुक्रवार दोपहर अविनाश को स्पेशल कोर्ट में पेश किया। पूछताछ और रिकवरी का हवाला देकर टीम ने उसकी रिमांड अदालत से मांगी। अदालत ने आरोपी को 26 मई तक रिमांड पर भेजने के आदेश कर दिए हैं। उसे आईपीसी की धारा 123 के तहत आरोपी बनाया गया है। इसके तहत दस साल तक की सजा का प्रावधान है।

 

 

वीडियो कॉलिंग के जरिए सेना के मूवमेंट के दस्तावेज दिखाने का शक :

अविनाश से पूछताछ और तकनीकी जांच में एटीएस को चैटिंग और इमेज शेयरिंग के सबूत हाथ लगे हैं। टीम को ये भी पता चला है कि वह कई दस्तावेज वीडियो कॉलिंग के दौरान विदेश में बैठी महिला को पढ़वा भी देता था। सेंट्रल एजेंसी, एटीएस और मिलिट्री इंटेलिजेंस के ज्वाइंट इंटेरोगेशन के दौरान ये बातें सामने आई हैं। उसका पकड़ा जाना इसलिए भी अहम माना जा रहा है, क्योंकि उसे डिस्पैच, इंट्रारेड और सुरक्षा प्रणाली में एक्सेस था। टीम को उसके घर से बालाकोट दस्तावेज और इलेक्ट्रॉनिक आइटम मिले हैं।

 

अप्रैल में दानापुर से आई है रेजिमेंट :
मूलत: बिहार के वैशाली जिले का रहने वाला 26 वर्षीय अविनाश महज 12वीं पास है। परीक्षा के बाद वह दसवीं बिहार रेजिमेंट में भर्ती हुआ। अब तक ये रेजिमेंट दानापुर में थी। अप्रैल 2019 में इसे महू में बुलाया गया। वह पत्नी और बच्चे के साथ आर्मी कैंपस में रह रहा है।

 

दुबई में मिलने का था ऑफर :
विदेशी (संभवत: पाकिस्तान) महिला उससे सोशल मीडिया पर राजस्थान की युवती बनकर मिली थी। वह उसके प्रेमजाल में फंस चुका था। युवती ने वीडियो कॉलिंग और चैटिंग कर उसे दुबई मिलने के लिए बुलाया था, पर अविनाश किसी कारण जा नहीं सका।

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना