--Advertisement--

संयोग या रणनीति / मध्य प्रदेश में गुजरात फॉर्मूले पर आगे बढ़ रहे दोनों पार्टियों के राष्ट्रीय अध्यक्ष



assembly election 2018
X
assembly election 2018

Dainik Bhaskar

Oct 14, 2018, 12:22 PM IST

भोपाल। इसे संयोग कहें या सोची समझी रणनीति, प्रदेश में भाजपाध्यक्ष अमित शाह और कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी एक-दूसरे को लगातार फॉलो कर रहे हैं। मतलब, जहां राहुल रैली-सभा कर रहे, वहां शाह भी जा रहे। या फिर जहां शाह पहले दौरा कर रहे, वहां कुछ ही दिन बाद राहुल पहुंच रहे हैं। इन दौरों की अहमियत इतनी है कि बार-बार दोनों के कार्यक्रमों में बदलाव भी किया जा रहा है।

 

प्रदेश के सियासी रणनीतिकार इसे सोची-समझी रणनीति बता रहे हैं। कारण है- गुजरात का सफल फॉर्मूला। गुजरात में राहुल ने 24 जिलों में 57 रैली की थी। 27 मंदिर गए थे। 15 रात रुके थे। इससे कांग्रेस को फायदा मिला था। इसके चलते आखिरी वक्त में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की ताबड़तोड़ रैलियां करना पड़ी थीं। भाजपा अध्यक्ष को गुजरात में डेरा डालना पड़ा था। उन्होंने लगातार सभा ली थी। मोदी की रैलियों से बाद में भाजपा को फायदा मिला। दोनों ही दलों को उनके रणनीतिकारों ने मध्यप्रदेश चुनाव में यही फाॅर्मूला सुझाया है। 

 

हालांकि दोनों के चुनावी कैंपेन में अभी बुंदेलखंड छूटा हुआ है। यहां 5 जिलों की 26 सीटें हैं। शाह 14 अक्टूबर को छतरपुर जाने वाले थे, पर अचानक उनका दौरा निरस्त हुआ। राहुल का यहां का दौरा तय नहीं हुआ है। पर दोनों ओरछा में रामराजा मंदिर जरूर जाएंगे। इनकी तारीखें तय हो रही हैं। 

 

शाह का कार्यकर्ता सम्मेलन पर जोर 

df

25 सितंबर : शाह ने भोपाल के जंबूरी मैदान में कार्यकर्ता महाकुंभ से चुनावी शंखनाद किया। पीएम नरेंद्र मोदी भी पहुंचे थे। निशाने पर राहुल थे। 
6 अक्टूबर : इंदौर में महाजनसंपर्क अभियान शुरू किया। झाबुआ में आदिवासी, जावरा में किसान सम्मेलन किया। उज्जैन में महाकाल मंदिर गए। 
9 अक्टूबर : शाह ग्वालियर-चंबल में झांसी की रानी की समाधि, राजमाता सिंधिया की छत्री स्थित समाधि पर गए। ग्वालियर, शिवपुरी, गुना में सम्मेलन किया। 
12 जून : शाह ने जबलपुर के भेड़ाघाट में मां नर्मदा की पूजा की। प्रदेश चुनाव प्रबंध समिति के 22 नेताओं के साथ चुनाव की रणनीति बनाई थी। 
अब : 15 अक्टूबर को शाह जबलपुर में सभा व कार्यकर्ता सम्मेलन करेंगे। 
15 अक्टूबर : शाह विंध्य में राहुल का असर कम करने रीवा-सतना, डिंडोरी जाएंगे। जिलों में कार्यकर्ताओं को संबोधित करेंगे। सभा होगी। 

 

राहुल का लंबे-लंबे रोड शो पर फोकस 

fsdkjdf

17 सितंबर : राहुल ने भोपाल के भेल दशहरा मैदान में संकल्प यात्रा के साथ चुनावी शंखनाद किया। 18 किमी लंबा रोड शो किया। मंदिर भी गए। 
28-29 अक्टूबर : मालवा-निमाड़ जाएंगे। उज्जैन में महाकाल मंदिर जाएंगे। रोड शो भी कर सकते हैं। इंदौर में रोड शो होगा। निमाड़ में 6 सीटों पर सभा करेंगे। 
15-16 अक्टूबर : राहुल दतिया में मां पीतांबरा के दर्शन करेंगे। डबरा में सभा, ग्वालियर में 9 किमी लंबा रोड-शो करेंगे। कुल 5 सभाएं करेंगे। 
6 अक्टूबर :  राहुल प्रदेश के तीसरे दौरे में जबलपुर पहुंचे। उमा घाट पर मां नर्मदा की आरती की। फिर 7 किमी का रोड शो शुरू किया। 
27-28 सितंबर : संकल्प यात्रा के दूसरे पड़ाव में राहुल सतना-रीवा पहुंचे। चित्रकूट के कामतनाथ मंदिर में दर्शन किए थे। साधु-संतों से मिले थे।

--Advertisement--
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..