• Hindi News
  • Mp
  • Bhopal
  • Baba Varagyananad will take the 'chilli baba' for victory of Digvijay Singh Collector's permission

मप्र / दिग्विजय सिंह की जीत के लिए 'मिर्ची हवन' करने वाले बाबा लेंगे जल समाधि; कलेक्टर से मांगी इजाजत



Baba Varagyananad will take the 'chilli baba' for victory of Digvijay Singh Collector's permission
Baba Varagyananad will take the 'chilli baba' for victory of Digvijay Singh Collector's permission
X
Baba Varagyananad will take the 'chilli baba' for victory of Digvijay Singh Collector's permission
Baba Varagyananad will take the 'chilli baba' for victory of Digvijay Singh Collector's permission

  • बाबा वैराज्ञानंद गिरी ने कलेक्टर को पत्र लिखकर कहा है कि वो अभी कामाख्या मंदिर में तपस्या कर रही है 
  • बाबा 16 जून को दोपहर 2 बजकर 11 मिनिट पर लेना चाहते हैं जल समाधि

Dainik Bhaskar

Jun 14, 2019, 02:30 PM IST

भोपाल. भोपाल संसदीय सीट से कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह की जीत का दावा और हार मिलने के बाद समाधि लेने की बात करने वाले वाले पूर्व महामंडलेश्वर बाबा वैराज्ञानंद गिरी उर्फ मिर्ची बाबा ने समाधि लेने की अनुमति मांगी है। उन्होंने भोपाल कलेक्टर को पत्र लिखकर कहा है कि वो अभी कामाख्या मंदिर (असम) में तपस्या कर रहे हैं और वह 16 जून को दोपहर 2 बजकर 11 मिनिट पर जल समाधि लेना चाहते हैं। 

 

बता दें कि लोकसभा चुनाव के दौरान बाबा वैराज्ञानंद गिरी ने कहा था कि अगर दिग्विजय सिंह भोपाल से चुनाव नहीं जीते तो वो समाधि ले लेंगे। 23 मई को चुनाव परिणाम आने के बाद दिग्विजय सिंह भाजपा प्रत्याशी साध्वी प्रज्ञा से हार गए।मगर इसके बाद बाबा वैराज्ञानंद गिरी अचानक गायब हो गए।

 

क्यों लेना चाहते हैं बाबा समाधि 

बाबा वैराज्ञानंद उर्फ मिर्ची बाबा ने मिर्ची हवन कर दिग्विजय सिंह की जीत का दावा किया था। उन्होंने कहा था कि मिर्ची हवन करने से दिग्विजय सिंह की जीत तय है। इस हवन में कुल 5 क्विंटल मिर्च डाली गई थी। साथ ही उन्होंने ये संकल्प भी लिया था कि अगर दिग्विजय सिंह नहीं जीते, तो वो जिंदा जल समाधि ले लेंगे। चुनाव परिणाम आने के बाद उनका ये वीडियो वायरल हो गया था। 

 

अखाड़े ने दिखाया था बाहर का रास्ता

मिर्ची हवन के दौरान विवाद बढ़ता देख निरंजनी अखाड़े ने वैराज्ञानंद को निष्कासित कर दिया था। बाबा वैराज्ञानंद पंचायती अखाड़ा श्री निरंजनी के महामंडलेश्वर थे। अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरी ने कहा था कि स्वामी वैराग्यानंद का कार्य गलत था। उनका आचरण साधु-संतों की मर्यादा के खिलाफ था। 

COMMENT