--Advertisement--

नाले के पानी में कुर्सी डालकर धरने पर बैठे भोपाल के महापौर, मंत्री के आश्वासन के बाद उठे

महापौर आलोक शर्मा भोपाल टॉकीज के पास सड़क भरे पानी के बीच कुर्सी लगाकर बैठे हुए हैं।

Danik Bhaskar | Jul 12, 2018, 04:10 PM IST

भोपाल। बुधवार रात से शुरू हुई बारिश से शहर के कई इलाकों में पानी भर गया। जलभराव की शिकायतों से परेशान महापौर आलोक शर्मा गुरुवार को भोपाल टॉकीज के पास पानी भरी सड़क के बीच में कुर्सी लगाकर धरने पर बैठे गए। नाले के पानी में बैठे आलोक वहीं से फोन लगा अधिकारियों पर गुस्सा उतारा। इसके बाद उन्होंने पीडब्ल्यूडी मंत्री रामपाल सिंह से भी बात की। मंत्री से कार्रवाई का आश्वासन मिलने के बाद वो धरने से उठे।

- महापौर बुधवार को बारिश के हालात का जायजा लेने निकले थे। सोफिया कॉलेज के पास सड़क पर भारी जलजमाव था। लोगों की शिकायतों और गुस्से को देखते हुए वो पानी के बीच कुर्सी लगाकर धरने पर बैठ गए।

- शर्मा का कहना था कि सेफिया कॉलेज के पास से गुजर रहे नाले पर पीडब्ल्यूडी का पुल है। इस पुल के कारण नाले का पानी बाधित हो रहा है और सड़कों पर बह रहा है। पीडब्ल्यूडी के अधिकारी इस नाले को लेकर कोई कदम नहीं उठा रहे हैं। उन्होंने पीडब्ल्यूडी अधिकारियों पर गैर जिम्मेदाराना रवैया अपनाने का आरोप लगाया।

- शर्मा ने कहा कि भोपाल के कई इलाकों में हर बार जलजमाव की स्थिति बनती है। चूंकि यहां विकास कार्यों के लिए कई एजेंसियां हैं, ऐसे में समन्वय की कमी से ऐसी स्थिति बनती है। लोग हर बार नगर निगम को जिम्मेदार ठहराते हैं। महापौर ने कहा कि जब तक पीडब्ल्यूडी के अधिकारी इस स्थिति से निपटने के लिए सेफिया कॉलेज नहीं आएंगे तब तक वे धरने से नहीं उठेंगे।

फेल हुआ नगर निगम का वादा

- नगर निगम में बारिश के सीजन से पहले शहर में कहीं भी जलभराव नहीं होने के दावे किए थे। लेकिन, करीब एक हफ्ते पहले हुई बारिश में भी शहर की करीब 100 रहवासी बस्तियों में पानी भर गया था।

- इसके बाद मौसम खुला नगर निगम ने एक बार फिर से साफ-सफाई का दौर चलाया और दावा किया कि अब बारिश हुई तो जलभराव की स्थिति नहीं बनेगी। लेकिन, बुधवार रात हुईू बारिश के बाद हालत पहले जैसे ही हो गए।

- बुधवार की रात से हुई बारिश से नदी-नाले उफान पर हैं और उनका पानी सड़कों से होते हुए लोगों के घरों तक पहुंच रहा है। इससे लोगों में भारी गुस्सा है।

धरने पर बैठे आलोक शर्मा ने फोन करके अधिकारियों को मौके पर आने के लिए कहा। धरने पर बैठे आलोक शर्मा ने फोन करके अधिकारियों को मौके पर आने के लिए कहा।
आलोक शर्मा ने पीडब्ल्यूडी मंत्री रामपाल सिंह से आश्वासन मिलने के बाद धरना खत्म किया। आलोक शर्मा ने पीडब्ल्यूडी मंत्री रामपाल सिंह से आश्वासन मिलने के बाद धरना खत्म किया।