पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

स्वाइन फ्लू का संक्रमण; 11 महीने में 1 हजार संदिग्ध मरीजों की जांच, 13 पॉजिटिव, दो मौत

3 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
  • हमीदिया और जेपी अस्पताल में आइसोलेशन वार्ड शुरू 

भोपाल. राजधानी में इस सीजन में अब तक स्वाइन फ्लू के 1 हजार संदिग्ध मरीज मिल चुके हैं। पॉजिटिव मरीजों का आंकड़ा भी 6 से बढ़कर 15 पहुंच गया है। जबकि प्रदेश में इसका आंकड़ा 62 पर पहुंच गया है। भोपाल में अब तक इस महीने दो लोगों की मौत स्वाइन फ्लू से हो चुकी है। जबकि प्रदेश में इसका अांकड़ा जनवरी से अब तक 24 पर पहुंच गया है। नवम्बर में हर दिन 8 से 10 संदिग्ध मरीज मिले रहे हैं। इनका इलाज बीमारी के प्रोटोकॉल के हिसाब से किया जा रहा है।

 

हमीदिया और जेपी अस्पताल में मरीजों को भर्ती करने के लिए आइसोलेशन वार्ड शुरू कर दिया गया है। हमीदिया में 70 मरीजों की स्क्रीनिंग की गई, जिनमें से 7 के सुआब के नमूने लिए गए। जेपी अस्पताल की ओपीडी में रोजाना सर्दी-जुकाम, बुखार के ही 700 से ज्यादा मरीज इलाज के लिए पहुंच रहे हैं। इसी तरह हमीदिया अस्पताल की ओपीडी में रोजाना सर्दी-जुकाम और बुखार के 900 से ज्यादा मरीज इलाज के लिए पहुंच रहे हैं। रोजाना यहां पर 2 हजार से ज्यादा मरीज विभिन्न प्रकार की बीमारियों के इलाज के लिए आते हैं।

 

सीएमएचओ डॉ सुधीर जैसानी ने बताया कि बुधवार को 9 संदिग्ध मरीजों के सुआब के नमूने जांच के लिए भेजे गए थे। गुरुवार को आई रिपोर्ट में एक मरीज को स्वाइन फ्लू होने की पुष्टि हुई है। जीएमसी के डीन डॉ एमसी सोनगरा ने बताया कि अगले महीने से स्वाइन फ्लू की जांच हमीदिया की नई वायरोलॉजी लैब में शुरू कर दी जाएगी। साथ ही जीका की जांच के लिए दिल्ली से किट मंगा ली गई है। उन्होने बताया कि हमीदिया के टीबी एंड चेस्ट डिपार्टमेंट के प्रमुख डॉ. लोकेंद्र दवे को ओपीडी में आने वाले संदिग्ध मरीजों के सुआब के नमूने लेकर जांच कराने के निर्देश दे दिए गए हैं।

 

रात में बुजुर्गों और बच्चों को सार्वजनिक स्थानों पर कम जाने की सलाह दी जा रही है। जेपी अस्पताल के अधीक्षक डॉ. आईके चुघ का कहना है कि अस्पताल में स्वाइन फ्लू के मरीज को भर्ती करने के लिए वार्ड बना दिया गया है। पर्याप्त मात्रा में टेमी फ्लू दवा और मास्क उपलब्ध हैं।

डॉ. लोकेंद्र दवे, प्रमुख, टीबी एंड चेस्ट डिपार्टमेंट, हमीदिया हॉस्पिटल  


 
 परिजन ये करें 

 

  •  स्वाइन फ्लू के संदिग्ध और पॉजिटिव मरीजों के परिजन घर में सफाई रखें। 
  •  भीड़भाड वाली जगहों पर कतई न जाएं। 
  •  सर्दी खांसी होने पर स्वाइन फ्लू की जांच सरकारी अस्पताल में कराएं। 
  •  एक-एक घंटे के अंतर से हाथों को पानी से धोएं। 
  •  नमक वाले पानी से गरारे करें।
  •  संदिग्ध अथवा पॉजिटिव मरीज के कपड़ों के साथ परिवार के दूसरे सदस्यों के कपड़ों का न रखें।