पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Bhopal
  • BJP Leaders Reached The Assembly Marching On The Issue Of The Poor; Shivraj Said Cheated The Poor

एसीएस गौरी सिंह के वीआरएस मांगने के मुद्दे पर सदन में जमकर हंगामा; सत्र अनिश्चतकाल के लिए स्थगित

8 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
सत्र संपन्न होने के बाद भाजपा नेताओं ने विधानसभा भवन में पत्रकारों से चर्चा की।
  • विधानसभा स्पीकर एनपी प्रजापति ने कार्य सूची शामिल काम पूरे कर सत्र संपन्न करा दिया
  • विधानसभा में महात्मा गांधी के 150 साल पूरे होने पर जारी किया डाक टिकट, भाजपा ने विरोध किया
  • गरीबों के मुद्दे पर मार्च करते विधानसभा पहुंचे भाजपा नेता; शिवराज ने कहा- गरीबों के साथ धोखा हुआ
Advertisement
Advertisement

भोपाल. मध्यप्रदेश विधानसभा में शुक्रवार को गरीबों और एसीएस गौरी सिंह के वीआरएस मांगने के मुद्दे पर सदन में जमकर हंगामा हुआ। इस बीच स्पीकर एनपी प्रजापति ने कार्यसूची में शामिल विषयों को पूरा करने के बाद सदन की कार्यवाही अनिश्चितकाल के लिए स्थगित कर दी। इसके साथ ही शीतकालीन सत्र संपन्न हो गया। वैसे सत्र 23 दिसंबर तक प्रस्तावित था।

ये भी पढ़े
शिवराज बोले- कमलनाथ कहते खजाना खाली है, इसे औरंगजेब की तरह लूट कर नहीं लाए; खजाना टैक्स से भरता है जो जनता दे रही है
पूर्व निर्धारित कार्यक्रम के अनुसार शनिवार और रविवार को सदन में अवकाश के बाद सोमवार को भी एक बैठक प्रस्तावित थी। इस तरह सत्र के दौरान पांच में से चार बैठकें ही हो पाईं। सरकार ने 23 हजार करोड़ का अनुपूरक बजट पेश कर उसे पारित करा लिया है। हंगामे के दौरान भाजपा के सदस्यों ने दो बार आसंदी के समक्ष पहुंचकर नारेबाजी भी की। अध्यक्ष एनपी प्रजापति ने सदस्यों को बार बार समझाइश दी कि वे शांत होकर सदन की कार्यवाही निर्विघ्न रूप से चलाने में सहयोग दें। शांति नहीं होने पर अध्यक्ष ने कार्यसूची में शामिल विषयों को पूर्ण किया। 

गौरी सिंह के मुद्दे पर पक्ष-विपक्ष आमने-सामने  
सदन में शुक्रवार को प्रश्नकाल समाप्ति के बाद नेता प्रतिपक्ष गोपाल भार्गव ने सड़कों का मामला उठाया। इसके बाद पूर्व मुख्यमंत्री मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने वरिष्ठ आईएएस अधिकारी गौरी सिंह के कथित इस्तीफे का मामला उठाते हुए आरोप लगाया कि प्रदेश में सक्रिय पोषण आहार माफिया ने उनका तबादला करा दिया, जिससे व्यथित होकर वे नौकरी छोड़ने काे विवश हुयीं। चौहान ने आरोप लगाया कि राज्य में भ्रष्टाचार चरम पर है। ईमानदार अधिकारियों को प्रताड़ित किया जा रहा है और दागी अफसर खुलकर खेल रहे हैं। इसी के चलते एक जिले में भू अभिलेख अधिकारी ने तो आत्महत्या तक कर ली।

मंत्रियों ने जताई आपत्ति, आरोपों को गलत बताया 
वित्त मंत्री तरुण भनोत ने इन आरोपों पर सख्त आपत्ति जताते हुए कहा कि राज्य मंत्रालय वल्लभ भवन में सभी लोगों का आना जाना रहता है, तो क्या सभी की कार्यशैली पर आरोप लगाए जाएंगे। यह घोर आपत्तिजनक है। एक अन्य मंत्री सज्जन सिंह वर्मा ने भी आरोपों पर आपत्ति ली और कहा कि चौहान जो आरोप लगा रहे हैं, वह गलत हैं। आईएएस अफसर श्रीमती गौरी सिंह के तबादले की वजह कुछ और है। गौरी सिंह ने बगैर मुख्यमंत्री से चर्चा करते हुए पंचायत चुनावों को लेकर फैसला लिया था। 


सज्जन सिंह वर्मा ने सवाल उठाते हुए कहा कि विपक्ष को बताना चाहिए कि क्या कोई भी अफसर बगैर मुख्यमंत्री से चर्चा किए इस तरह के महत्वपूर्ण फैसला ले सकता है। इसी दौरान पक्ष और विपक्ष के सदस्य एकसाथ खड़े होकर बोलने लगे, जिससे सदन शोरशराबे में डूब गया और एक अवसर पर कुछ भी सुनायी नहीं दिया। इस बीच विपक्ष के सदस्य नारेबाजी करते हुए आसंदी के सामने पहुंच गए। हालाकि अध्यक्ष की समझाइश पर वे वापस आ गए।

गरीबों के मुद्दे पर भाजपा सड़क पर उतरी 
मध्य प्रदेश में मुख्य विपक्षी दल भाजपा के विधायकों ने शुक्रवार को गरीबों के मुद्दों को लेकर पैदल मार्च करते हुए विधानसभा पहुंचे। विपक्ष के नेता गोपाल भार्गव, पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और वरिष्ठ नेता डॉ नरोत्तम मिश्रा समेत भाजपा विधायक ने यहां विधानसभा से कुछ दूर पहले एकत्रित हुए और फिर पैदल मार्च करते हुए विधानसभा पहुंचे। इस दौरान भाजपा विधायक गरीबों को लेकर राज्य सरकार की नीतियों को लेकर नारेबाजी करते रहे।


ये विधायक नारे लिखे वस्त्र (एप्रिन) पहने हुए थे। भाजपा विधायक पिछले तीन दिनों से किसी न किसी मुद्दे को लेकर इसी तरह मार्च करते हुए विधानसभा पहुंचे थे। आज उन्होंने संबल योजना बंद करने और बिजली के बढ़े हुए बिलों, मुख्यमंत्री कन्यादान योजना और लाडली लक्ष्मी योजना समेत कई योजनाओं में दी जाने वाली राशि बंद करने का विरोध कर रहे हैं। 

डाक टिकट में शामिल होने नहीं पहुंचे शिवराज तो मनाने पहुंचे स्पीकर 
मप्र सरकार ने महात्मा गांधी के 150 साल पूरे होने पर विधानसभा भवन में डाक टिकट जारी किया है। इसके साथ ही यहां पर घोषणा की गई कि एक दिन सभी विधायक खादी पहनकर विधानसभा पहुंचेंगे।हालांकि इस कार्यक्रम का विपक्षी भाजपा ने बहिष्कार किया तो उन्हें मनाने के लिए स्पीकर एनपी प्रजापति पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और नेता प्रतिपक्ष गोपाल भार्गव से मिलने पहुंच गए। उनके साथ संसदीय कार्यमंत्री डॉ गोविंद सिंह भी रहे। चारों नेताओं के बीच बंद कमरे में चर्चा होती रही। 

Advertisement
0

आज का राशिफल

मेष
मेष|Aries

पॉजिटिव - आज वित्तीय स्थिति में सुधार आएगा। कुछ नया शुरू करने के लिए समय बहुत अनुकूल है। आपकी मेहनत व प्रयास के सार्थक परिणाम सामने आएंगे। विवाह योग्य लोगों के लिए किसी अच्छे रिश्ते संबंधित बातचीत शुर...

और पढ़ें

Advertisement