Hindi News »Madhya Pradesh »Bhopal »News» Bond To Fill Before Police Training

परीक्षा के लिए नौकरी छोड़ी तो होगी विभागीय जांच, पुलिस ट्रेनिंग से पहले भरना होगा बॉन्ड

सभी पुलिस अकादमी, पुलिस ट्रेनिंग स्कूल और पुलिस ट्रेनिंग सेंटर को आदेश जारी कर दिए गए हैं।

विशाल त्रिपाठी | Last Modified - May 03, 2018, 01:23 AM IST

  • परीक्षा के लिए नौकरी छोड़ी तो होगी विभागीय जांच, पुलिस ट्रेनिंग से पहले भरना होगा बॉन्ड

    भोपाल.पुलिस ट्रेनिंग से पहले सिपाही, सब इंस्पेक्टर और डीएसपी को अब बॉन्ड (करारनामा) भरना होगा। यदि उन्हें बेहतर नौकरी के लिए कोई और परीक्षा देनी है तो बॉन्ड के तहत उन्हें ट्रेनिंग से पहले एक साल का मौका विभाग देगा। ट्रेनिंग शुरू होने के बाद यदि उन्होंने विभाग की मंजूरी के बगैर कोई और परीक्षा दी तो उनकी विभागीय जांच कर संभव है कि बर्खास्त कर दिया जाए। इसके लिए सभी पुलिस अकादमी, पुलिस ट्रेनिंग स्कूल और पुलिस ट्रेनिंग सेंटर को आदेश जारी कर दिए गए हैं।


    पुलिस मुख्यालय ने ये फैसला ट्रेनिंग के दौरान मिले अब तक के खराब तजुर्बे को लेकर लिया है। मप्र पुलिस में वर्ष 2016 बैच के लिए भर्ती हुए 4575 सिपाहियों को ट्रेनिंग दी जा रही है। ये भर्ती 5800 पदों के लिए हुई थी। जून 2017 के बाद से अब तक 90 से ज्यादा सिपाही बीच में ही ट्रेनिंग छोड़ चुके हैं, इनमें 13 महिला सिपाही भी शामिल हैं। एसआई/सूबेदार और डीएसपी पदों के 15 फीसदी ट्रेनीज दूसरी परीक्षाओं में शामिल होते हैं। अफसरों को मानना है कि ये सभी दूसरे विभाग की परीक्षाओं में शामिल होकर नौकरी पा चुके हैं। इस तरह की परेशानी को दूर करने के लिए पुलिस मुख्यालय ने नए आदेश जारी कर दिए हैं।

    1 साल के लिए मिलेगा परीक्षा का मौका

    स्पेशल डीजी ट्रेनिंग केएन तिवारी के मुताबिक सिपाही, एसआई/सूबेदार और डीएसपी से आगामी ट्रेनिंग से छूट दिए जाने संबंधी आवेदन लिया जाएगा। ये एक प्रशिक्षण सत्र यानी एक वर्ष के लिए दी जाएगी। एक वर्ष बाद वह ट्रेनिंग ज्वाइन कर सकता है। उसे उसी बैच में माना जाएगा, जिसमें वह भर्ती हुआ था। ट्रेनिंग शुरू होने के बाद ऐसे किसी भी पुलिसकर्मी को उच्च वरियता वाली सेवा की परीक्षा की तैयारी या परीक्षा के लिए अनुमति नहीं दी जाएगी।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From News

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×