• Hindi News
  • Mp
  • Bhopal
  • Breath in river Dhar from rain for two days; Bhopal Nagpur highway closed, people are putting in risk

मानसून / बारिश से बैतूल में धार व सूखी नदी में उफान, भोपाल-नागपुर हाइवे बंद; 2 अगस्त तक झमाझम की उम्मीद



राज्य में दो दिन से बारिश का दौर जारी है। राज्य में दो दिन से बारिश का दौर जारी है।
शनिवार को बैतूल की धार और सूखी नदी में बाढ़ आ गई, जिससे भोपाल-नागपुर हाइवे बंद हो गया। शनिवार को बैतूल की धार और सूखी नदी में बाढ़ आ गई, जिससे भोपाल-नागपुर हाइवे बंद हो गया।
यहां पर लोग जान जोखिम में डालकर सड़क पार कर रहे हैं। यहां पर लोग जान जोखिम में डालकर सड़क पार कर रहे हैं।
बारिश से राज्य में कई जगह बाढ़ की स्थिति है। बारिश से राज्य में कई जगह बाढ़ की स्थिति है।
X
राज्य में दो दिन से बारिश का दौर जारी है।राज्य में दो दिन से बारिश का दौर जारी है।
शनिवार को बैतूल की धार और सूखी नदी में बाढ़ आ गई, जिससे भोपाल-नागपुर हाइवे बंद हो गया।शनिवार को बैतूल की धार और सूखी नदी में बाढ़ आ गई, जिससे भोपाल-नागपुर हाइवे बंद हो गया।
यहां पर लोग जान जोखिम में डालकर सड़क पार कर रहे हैं।यहां पर लोग जान जोखिम में डालकर सड़क पार कर रहे हैं।
बारिश से राज्य में कई जगह बाढ़ की स्थिति है।बारिश से राज्य में कई जगह बाढ़ की स्थिति है।

  • 2 अगस्त तक प्रदेश के ज्यादातर हिस्सों में बारिश होगी, कहीं-कहीं भारी वर्षा की संभावना
  • 31 जुलाई काे फिर बन रहा है बंगाल की खाड़ी में लाे प्रेशर एरिया से फिर दाे- तीन दिन पानी बरसने की संभावना 
  • गुना-शिवपुरी और श्योपुर में सिंध नदी में बाढ़ आने से अशोकनगर स्टेट हाइवे डूबा

Dainik Bhaskar

Jul 27, 2019, 08:08 PM IST

भोपाल/बैतूल/श्योपुर. बैतूल में शुक्रवार से रुक-रुककर हो रही बारिश की वजह से शनिवार को धार और सूखी नदी में बाढ़ आ गई, जिससे भोपाल-नागपुर हाइवे बंद हो गया है। दोनों तरफ वाहनों की कतार लगी हुई है। लोग जान जोखिम में डालकर सड़क पार कर रहे हैं। राज्य में तीन दिन से फिर से सक्रिय हुए मानसून के चलते ज्यादातर हिस्सों में बारिश हुई है। भोपाल, होशंगाबाद, बैतूल और श्योपुर समेत ज्यादातर जिलों में अच्छी बारिश हो रही है। 2 अगस्त तक पूरे राज्य में बारिश होने की उम्मीद है, कहीं-कहीं भारी बारिश की भी संभावना है।

 

मौसम विभाग के अनुसार, उत्तरी ओडिशा और उससे सटे झारखंड पर निम्न दबाव का क्षेत्र बना हुआ है, जिससे मप्र में अच्छी बारिश हो रही है। 31 जुलाई काे फिर बन रहा है बंगाल की खाड़ी में लाे प्रेशर एरिया- फिर दाे- तीन दिन पानी बरसने की संभावना है। आगामी 1 एवं 2 अगस्त के दौरान भी प्रदेश के ज्यादातर स्थानों पर बारिश के साथ कहीं-कहीं भारी से बहुत भरी वर्षा की संभावना है। 

 

अपनी भराव क्षमता को पार गया पानी : श्योपुर में आवदा माधव जलाशय बारिश के दौरान तीस घंटे में अपनी भराव क्षमता 42.5 फीट के उच्चस्तर को पार कर गया। तीस गांवो के 15 हजार हेक्टेयर रबी फसल को सिंचाई का पानी देने वाला प्रमुख बांध आवदा माधव जलाशय रिकॉर्ड दो दशक बाद मात्र तीस घंटे में अपनी भराव क्षमता 42.5 फिट के उच्चस्तर को पार कर गया। यह बांध अनेक नदियों में बरसात से उफान आने के बाद भरता है। लेकिन इस बार 30 घंटे में भर गया है, जिससे में किसानों में खुशी है। श्योपुर में पिछले 48 घंटे में 13 से 15 इंच तक भारी बरसात हुई है। 

 

अशोकनगर स्टेट हाइवे डूबा : गुना सहित आसपास के क्षेत्रों में बीते 24 घंटे से जारी मूसलाधार बारिश के चलते सिंध नदी उफान पर है और शुक्रवार को सिंध में अचानक पानी तेजी से बढ़ता चला गया। हालात यह हुए कि शाम होते-होते खतौरा-अशोकनगर स्टेट हाइवे पर मौजूद पचावली पुल के ऊपर करीब दो फीट सिंध का पानी बहने लगा। करीब 10 मीटर ऊंचे होने के बावजूद इस पुराने जर्जर पुल पर सिंध के तेज बहाव के बीच लोग जान की कीमत पर पैदल, बाइक, कार, बस, ट्रक व ऑटो से इसे पार करते नजर आए।

 

एक और दो अगस्त तक जारी रहेगी बारिश: मौसम वैज्ञानिक जीडी मिश्रा ने बताया कि आगामी 3 से 4 दिनों के दौरान राज्य के अधिकांश हिस्सों में तापमानों में विशेष परिवर्तन नहीं होगा। बारिश का दौर जारी रहेगा। आगर मालवा, अलीराजपुर, भोपाल, देवास, धार, गुना, इंदौर, झाबुआ, मंदसौर, नीमच, राजगढ़, रतलाम, सीहोर, शाजापुर और उज्जैन समेत प्रदेश के अधिकांश जिलों में अगले 24 घंटों के दौरान गरज के साथ मध्यम बारिश होने की संभावना है।

 

24 घंटे में दर्ज की गई बारिश: भाेपाल- 12.6 , रायसेन- 43.0, टीकमगढ़- 28.0, हाेशंगाबाद- 15.0, उज्जैन- 19.0, पचमढ़ी- 22.0, सागर, खरगाेन- 2.0, सतना- 0.4, बैतूल-0.6, इंदाैर- 0.2, ग्वालियर- 0.8 और गुना में 4.0 मिली बारिश रिकॉर्ड की गई। 

 

इसलिए मप्र में दोबारा मानसून सक्रिय हुआ

  1. उत्तरी उड़ीसा एवं उससे लगे झारखंड के इलाके में एक कम दबाव का क्षेत्र बना है। जिसके साथ हवा के ऊपरी भाग में से 7.6 किलोमीटर की ऊंचाई तक चक्रवाती हवा का  घेरा भी बना हुआ है। 
  2. मानसून ट्रफ लाइन बीकानेर, जयपुर, ग्वालियर, वाराणसी से कम दबाव के क्षेत्र उत्तरी उड़ीसा से दक्षिण पूर्व दिशा की ओर बंगाल की खाड़ी की तरफ जा रही है जो 2.1 किलोमीटर की ऊंचाई तक बनी है।
  3. उत्तर पश्चिम मध्य प्रदेश एवं उससे लगे उत्तरी राजस्थान के ऊपर 5 .8 किलोमीटर की ऊंचाई तक हवा के ऊपरी भाग में चक्रवाती हवा का घेरा बना है जो दक्षिण की ओर झुका हुआ है।
  4.  उत्तरी राजस्थान से उत्तरी उड़ीसा तक हवा के कम दबाव के क्षेत्र पर तक हवा की ऊपरी भाग में एक द्रोणिका बनी है जो पूर्वी राजस्थान, दक्षिण हरियाणा, उत्तर पश्चिम मध्य प्रदेश, उत्तर छत्तीसगढ़ से होकर गुजर रही है। 
  5. एक दूसरा कम दबाव का क्षेत्र 31 जुलाई को उत्तर पश्चिमी बंगाल की खाड़ी में बनने की संभावना है।
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना