भोपाल

  • Home
  • Mp
  • Bhopal
  • 3 boys dead in bhopal road accident, they going for the breakfast
--Advertisement--

भोपाल

भोपाल

Danik Bhaskar

Dec 14, 2017, 12:58 PM IST
हादसे में हुई कुणाल की मौत। हादसे में हुई कुणाल की मौत।

भोपाल। भोपाल-इंदौर रोड स्थित हाईवे ट्रीट पर नाश्ता करने जा रहे भोपाल के तीन लड़कों की कार पलटने से दर्दनाक मौत हो गई। जबकि, दो गंभीर रूप से घायल हो गए। घायलों का इलाज भोपाल में चल रहा है, जहां पर उनकी हालत नाजुक होना बताई जा रही है। पुलिस ने इस मामले में मर्ग कायम कर जांच शुरू कर दी है।


चीख-पुकार सुनकर मदद के लिए पहुंचे थे ग्रामीण
मंडी टीआई प्रदीप गुर्जर के मुताबिक कोलार के पैलेस आर्चेड में रहने वाला कुणाल अपने भाई कार्तिक और कुशाग्र सहित उसके दो दोस्त यश व हर्ष के साथ सुबह करीब छह बजे कार (क्रमांक एमपी 04 सीक्यू 9645) से डोंडी घाटी हाईवे ट्रीट नाश्ता करने के लिए जा रहे थे। तभी ग्राम खोखरी के पास कार बेकाबू होकर पलट गई। करीब डेढ़ सौ फीट तक कार घिसटती हुई चली गई थी। इस हादसे में यश, कुणाल और हर्ष की मौके पर ही दर्दनाक मौत हो गई। हादसे के बाद मौके पर मची चीख-पुकार सुनकर आसपास के ग्रामीण मदद के लिए पहुंचे। ग्रामीणों ने तत्काल पुलिस और 108 एंबुलेंस को सूचना दी और घायलों को बाहर निकालकर उन्हें उपचार के लिए अस्पताल भेजा।

गुड़गांव से बुधवार को भोपाल आया था कुणाल
मृतक कुणान गुड़गांव में एक प्राइवेट कंपनी में काम करता है। बुधवार सुबह ही वह गुड़गांव से भोपाल आया था। कुणाल ही सभी को नाश्ता कराने के लिए हाईवे ट्रीट लेकर जा रहा था। कार कार्तिक वशानिया चला रहा था, उसकी हालत नाजुक होना बताई जा रही है।

कार्तिक ने मां से जिद करके मांगी थी कार
हादसे से एक दिन पहले घायल कार्तिक वशानिया ने मां नीलम वशानिया से कहा था कि, डोंडी में पोहा अच्छा मिलता है। गुरुवार को हम लोग वहां पोहा खाने जाएंगे। मां ने मना किया और कार ले जाने से भी रोका था। इस दौरान घर में मौजुद नीलम की दोस्त ने कहा था कि ' बेटा पोहा खाना है, तो मेरे घर आ जा मेरे हाथ से बना पोहा खाले।' इस पर कार्तिक ने कहा आंटी पोहे के बहाने कार चलाने मिल जाएगी। वैसे भी कार चलाने का मौका कम ही मिलता है। ये सुनकर मां ने जाने की इजाजत दे दी।

दो सगे भाई और तीसरा था मौसी का बेटा

मां से इजात मिलने के बाद कार्तिक अपनी मौसी के बेटे कुणाल अग्रवाल और कुणाल के छोटे भाई कुशाग्र अग्रवाल एवं उसके साथ पढ़ने वाले यश अरोरा और हर्ष अरोरा को भी अपने साथ नाश्ता करने ले गया था।

कुछ देर बाद ही मिली मौत की सूचना
गुरुवार को मां को सोता हुआ छोड़कर कार्तिक सुबह 6 बजे कार लेकर घर से निकला था। उसने कोलार से कुणाल, कुशाग्र, यश और हर्ष को कार में बिठाया। इसके बाद वे डोंडी में पोहा खाने के लिए रवाना हो गए। उनके रवाना होने के कुछ देर बाद ही परिजनों को हादसे की सूचना मिली। हादसे में मृत कुणाल के पिता का निधन कुछ वर्ष पूर्व हो चुका है। कुणाल एवं कुशाग्र के पिता न होने के कारण इनकी देखभाल लंदन में रहने वाले इनके मामा करते हैं। डॉक्टरों ने बताया कि कुशाग्र एवं कार्तिक दोनों ही खतरे से बाहर है।

Click to listen..