--Advertisement--

ओरछा में जामनी नदी में पलटी बस, ३५ यात्री घायल, शाम को पेड़ से लटका मिला ड्राइवर का शव

ओरछा में जामनी नदी में पलटी बस, ३५ यात्री घायल, शाम को पेड़ से लटका मिला ड्राइवर का शव

Danik Bhaskar | Dec 12, 2017, 12:10 PM IST
पूरे दिन पुलिस ड्राइवर को तलाश पूरे दिन पुलिस ड्राइवर को तलाश

भोपाल। झांसी से खरगापुर जा रही बस सोमवार सुबह करीब 4 बजे ओरछा-पृथ्वीपुर के बीच जामनी नदी के सकरे पुल से पलटकर नदी मेें जा गिरी। बस में 100 से ज्यादा यात्री सवार थे। हादसे में 35 से अधिक यात्री घायल हो गए। इनमें से 3 गंभीर घायलों को झांसी रेफर किया गया है। पुलिस ने घायलों को बस से निकाला और अस्पताल में भर्ती कराया। हादसे के बाद बस के ड्राइवर को पुलिस फरार बताती रही, जबकि उसकी लाश शाम को पेड़ से लटकी पाई गई। असल में, उसने एक्सीडेंट के बाद फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली थी। हालांकि पुलिस मामले की जांच कर रही है।

- लोगों ने इसकी सूचना ओरछा और पृथ्वीपुर थाना पुलिस को दी। पुलिस ने मृतक के परिजनों को बुलाकर पुष्टि की। इसके बाद स्पष्ट हुआ कि मृतक पप्पू यादव 37 निवासी मांची ही बस चला रहा था। पृथ्वीपुर थाना पुलिस ने चालक को फरार मानकर धारा 279, 337 के तहत मामला दर्ज कर लिया था।

- शाम 6 बजे पुलिस को पता चला कि उसने फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली है। पुलिस ने मौके पर पहुंचकर जांच पड़ताल की। पृथ्वीपुर थाना प्रभारी चंदन सिंह परिहार ने बताया कि ड्राइवर की मौत के कारणों का पता लगाया जा रहा है। जानकारी के मुताबिक एक महीने बाद ड्राइवर की बेटी का शादी होना थी।

कैसे हुआ था एक्सीडेंट

- हादसे के बाद चालक फरार हो गया। बस खरगापुर की कांग्रेस विधायक चंदा रानी गौर के परिजनों की बताई जा रही है। पुलिस दिनभर चालक को फरार मानती रही। शाम करीब 6 बजे स्थानीय लोगों की नजर घटना स्थल से थोड़ी दूर जामनी नदी पर बने शिकारगाह के पीछे पेड़ पर पड़ी। जहां बस के ड्राइवर का शव पेड़ से लटक रहा था।

ड्राइवर की मौत के मामले में निष्पक्ष जांच हो
- ड्राइवर के फांसी लगाने के मामले में भाजपा नेता राहुल सिंह का कहना है कि बस चालक की मौत संदिग्ध परिस्थिति में हुई है। घटना स्थल से थोड़ी दूरी पर ही उसका शव पेड़ से लटका मिला। दिनभर पुलिस को इसके बारे में पता कैसे नहीं चला। उन्होंने कहा कि बस कांग्रेस विधायक चंदा सिंह गौर के परिजनों की है। हाे सकता है कि उसने डर के कारण फांसी लगा ली हो। इस मामले में ड्राइवर की मौत के कारणों का पता लगाने के लिए जांच होना चाहिए।
घटना स्थल से कुछ दूरी पर लटका मिला ड्राइवर का शव।