Hindi News »Madhya Pradesh News »Bhopal News» 40 Hindi Films Were Included In The Collection Of SVL

नेशनल फिल्म डेवलपमेंट कार्पोरेशन की ४० अवार्ड विनिंग हिंदी मूवीज पहली बार एसवीएल में

नेशनल फिल्म डेवलपमेंट कार्पोरेशन की ४० अवार्ड विनिंग हिंदी मूवीज पहली बार एसवीएल में

Priti Sharma | Last Modified - Dec 02, 2017, 02:09 PM IST

भोपालस्वामी विवेकानंद लाइब्रेरी (एसवीएल) में पहली बार 40 हिंदी फिल्मों को कलेक्शन में शामिल किया गया है। यह ऐसी हिंदी मूवीज हैं, जिन्हें अधिकांश दर्शकों ने टेलीविजन पर कम ही देखा होगा।

-ये सभी फिल्में नेशनल फिल्म डेवलपमेंट कार्पोरेशन(एनएफडीसी)ने बनाई है। यह फिल्में अवार्ड विनिंग क्लासिक मूवी की केटेगरी में शामिल हैं। एसवीएल मैनेजर लक्ष्मीशरण मिश्रा बताते हैं, नई पीढ़ी को पैरलल सिनेमा और भारत में बनी बेहतरीन फिल्में घर पर देखने का मौका देने के लिए इन्हें लाइब्रेरी में लाया गया है।

एक डॉक्टर की मौत
रिलीज हुई थी - 1990 में
निदेशक - तपन सिन्हा
पुरस्कार - सर्वश्रेष्ठ फीचर फिल्म का राष्ट्रीय पुरस्कार
कलाकार - पंकज कपूर,शबाना आजमी एवं इरफान खान
कहानी - एक सरकारी डॉक्टर एक असाध्य बीमारी पर वर्षों रिसर्च कर उसका टीका खोज लेता है, जब इसकी खबर मीडिया में छपती है तो उसके सीनियर इसे अपना अपमान मानते हैं और उसके खिलाफ जांच शुरू कर दी जाती है। फिल्म में दिखाया गया है कि कुछ नया करने की कोशिश करने वालों को सिस्टम कैसे परेशान करता है।

सूरज का सातवां घोड़ा
रिलीज हुई थी - 1992
निदेशक - श्याम बेनेगल
पुरस्कार - सर्वश्रेष्ठ फिल्म का राष्ट्रीय पुरस्कार
कलाकार - अमरीश पुरी,रजत कपूर, पल्लवी जोशी
कहानी - मानेक मुल्ला नाम का आदमी अपने जीवन में आईं तीन महिलाओं की कहानी सुनाता है जो समाज के अलग अलग वर्गों का प्रतिनिधित्व करती हैं और तीनों वर्गों के मूल्यों और सोच में परिवर्तन को दर्शाती है।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए Bhopal News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: avaard vininga hindi moviej ka klekshn hai yaha, yuth ko psnd aa raha pairll sinemaa
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

More From Bhopal

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×