--Advertisement--

लव मैरिज के दो साल बाद बीमार पत्नी और बच्चे को छोड़कर भाग पति

लव मैरिज के दो साल बाद बीमार पत्नी और बच्चे को छोड़कर भाग पति

Dainik Bhaskar

Dec 17, 2017, 01:47 PM IST
मध्य प्रदेश के बैतूल का मामला- मध्य प्रदेश के बैतूल का मामला-

भोपाल। मौसी के घर मेहमानी आई भावना को पड़ोस में रहने वाले आदर्श से प्यार हो गया था। प्यार परवान चढ़ा तो समाज की तमाम परंपराओं से हटकर दोनों ने मैहर के शारदा मंदिर में जाकर लव मैरिज भी कर ली। लेकिन, शादी के दो साल बाद भावना को गंभीर बीमारी हो गई और आदर्श उसे छोड़कर भाग गया। मामला मध्य प्रदेश के बैतूल जिला स्थित पाथाखेड़ा क्षेत्र का है।

लव मैरिज के बाद दोनों के परिवार ने उस समय तो उन्हें अपना लिया। लेकिन, कुछ वक्त बाद ही ससुराल वालों का व्यवहार बदल गया। 9 महीने पहले ही भावना ने एक बेटे को जन्म दिया, जिसके बाद से भावना के दोनों हार्ट के दोनों वाल्व खराब हो गए। इस बात की जानकारी लगते ही पति आदर्श और उसके परिजनों ने भावना को घर से निकाल दिया। अब भावना की मौसी गरीबी की हालत में उसका जैसे-तैसे इलाज करा रही है।

बार-बार बुलाने पर भी नहीं आया पति
-सितंबर 2015 में दोनों ने मैहर में जाकर शादी कर ली थी। 9 महीने पहले ही भावना ने बेटे सिद्धार्थ को जन्म दिया। यहां तक सबकुछ ठीक चल रहा था। लेकिन, एक दिन अचानक ही भावना की तबीयत बिगड़ी और जांच में उसके दोनों वाल्व खराब पाए गए। इस बात का पता जैसे ही आदर्श को लगा तो उसने भावना को छोड़ दिया। बार-बार बुलाने पर भी वह वापस घर नहीं आया। इसके बाद भावना की हालत और बिगड़ गई। ससुराल के लोगों ने उसे घर से निकाल दिया। इस पर भावना की मौसी ने उसे बैतूल जिला अस्पताल में भर्ती कराया, जहां से उसे भोपाल के हमीदिया अस्पताल भेज दिया गया। अब हालत गंभीर है और उपचार के लिए रुपए भी नहीं है।

ससुराल वालों ने 9 महीने के बच्चे को भी छोड़ दिया

शहर के पाथाखेड़ा में रहने वाली भावना की मौसी, कल्पना मांडवे ने बताया उनकी भतीजी भावना की मां उसके बचपन में ही गुजर गई थी। इसके बाद उसने सारनी में अपने नाना-नानी के घर रहकर पढ़ाई की। पढ़ाई के बाद नागपुर में कुछ समय नौकरी भी की। करीब दो साल पहले वह मौसी के घर रहने सारनी आई थी। उसी वक्त उसे मौसी के पड़ोसी आदर्श डेहरिया से प्यार हो गया था। दोनों ने मैहर मंदिर में जाकर शादी कर ली और साथ रहने लगे। परिजनों के अनुसार बीमार भावना और बच्चे को छोड़कर पति घर से भाग गया। भावना को इलाज की सख्त जरूरत है, लेकिन ससुराल वाले मदद नहीं कर रहे हैं। इतना ही नहीं ससुराल वालों ने भावना के बच्चे को भी बेसहारा छोड़ दिया।

अस्पताल से पुलिस को लिखा था लेटर
-अस्पताल में भर्ती रहते हुए भावना ने पुलिस को लेटर लिखा था। उसने पत्र में जिक्र किया है दादा ससुर, सास और ननद समेत परिवार के अन्य लोग उसे प्रताड़ित करते हैं। मौसी और परिजनों के पास उपचार के लिए रुपए नहीं हैं। समाज से जुड़ी समिति से जुड़े कुछ लोगों ने इलाज के लिए रुपए इकट्ठा किए थे, जो ससुराल वालों ने दूसरे कामों में खर्च कर दिए।

9 माह का बेटा सिद्धार्थ तरस रहा मां के लिए
भावना और सिद्धार्थ का 9 माह का एक बेटा है। बेटे के दूध के लिए तक रुपए नहीं है। अस्पताल में मां के भर्ती होने के कारण उसका पालन, पोषण भावना की मौसी कल्पना कर रही है। उसने बताया मां का दूध पीने की उम्र में सिद्धार्थ को बमुश्किल पाल रहे हैं। पाथाखेड़ा के दो नंबर क्षेत्र की झोपड़ी में बच्चे को पाला जा रहा है। उधर, मां भावना जिंदगी और मौत से जूझ रही है।

पुलिस नहीं कर रही मदद

पति द्वारा मदद नहीं करने और पीड़ित पत्नी की सुध नहीं लेने को लेकर खुद भावना ने पुलिस को पत्र सौंपा था। लेकिन, पुलिस की ओर से कार्रवाई नहीं हुई। जबकि, इस मामले को लेकर लिखित शिकायत हो चुकी है। यदि पुलिस कार्रवाई करती तो पाथाखेड़ा में रहने वाला आदर्श का परिवार भावना के उपचार के लिए आगे आता। उधर, मामले की जानकारी लगने के बाद एससी डीआर तेनीवार ने कार्रवाई का आश्वासन दिया है।

X
मध्य प्रदेश के बैतूल का मामला- मध्य प्रदेश के बैतूल का मामला-
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..