Hindi News »Madhya Pradesh News »Bhopal News» Bairagarh Businessmen Want To Resume Business On The Basis Of Insurance

अग्निकांड: मुआवजे के भरोसे व्यापारी नए सिरे से कारोबार खड़ा करना चाहते हैं

अग्निकांड: मुआवजे के भरोसे व्यापारी नए सिरे से कारोबार खड़ा करना चाहते हैं

Sushma Barange | Last Modified - Dec 19, 2017, 06:00 PM IST

भोपाल। संत हिरदाराम शॉपिंग कॉम्प्लेक्स में आग का कारण भले ही एक दुकान में शार्ट सर्किट से चिंगारी माना जा रहा है, लेकिन बिजली विभाग यह मानने को तैयार नहीं है। वह आग से प्रभावित सभी दुकानों के मीटर पूरी तरह चालू होने और उस दुकान की एमसीबी बंद होने का दावा कर रहा है, जहां से आग की शुरूआत होना कहा जा रहा है। हालांकि, वह कॉम्प्लेक्स में किसी इंवर्टर की बैटरी से स्पार्किंग से आग लगना संभव मान रहा है।


-रविवार को कॉम्प्लेक्स में लगी आग के बाद अब तबाही का मंजर है। यहां हर तरफ जली हुईं दुकानें, टूटे हुए शटर और राख में तब्दील हुआ करोड़ों का माल नजर आ रहा है। तबाही से रौनक तक पहुंचने में कॉम्प्लेक्स की डगर आसान नहीं है।

-व्यापारी मुआवजे के लिए नुकसान की सूची बना रहे हैं, वहीं इंश्योरेंस वाले कारोबारियों की संख्या दस प्रतिशत ही है। 90 में से केवल 9-10 दुकानदारों के इंश्योरेंस होना बताया जा रहा है। यह अग्निकांड बैरागढ़ के कपड़ा बाजार को अब तक का सबसे बड़ा झटका है। हालांकि, कॉम्प्लेक्स को नए सिरे से कारोबार के तैयार करने पर व्यापारियों की बैठकों को दौर तेज हो गया है। वह मुआवजे और मदद के भरोसे कारोबार खड़ा करने की सोच रहे हैं।

-मंगलवार को पूर्व मुख्यमंत्री कैलाश जोशी, विधायक रामेश्वर शर्मा, सुरेन्द्र नाथ सिंह ने अलग-अलग कॉम्प्लेक्स का दौरा किया। व्यापारियों ने कॉम्प्लेक्स के निर्माण सहयोग और मुआवजे की मांग की। जनप्रतिनिधियों ने भरोसा दिलाया कि वह व्यापारियों की मांग मुख्यमंत्री के सामने रखेंगे।


एमबीईवी का तर्क
-हिरदाराम शॉपिंग कॉम्प्लेक्स का इलेक्ट्रिक डिस्ट्रीब्यूशन सिस्टम चार हिस्सों में बंटा हुआ है। 200 केबी के दो ट्रांसफार्मर से पूरे कॉॅम्प्लेक्स में लाइट दी जाती है। सभी 94 दुकानों के मीटर दुकानों से बाहर लगे हुए हैं और सभी चालू हैं, एक भी जला नहीं है। ज्यादातर दुकानदार एमसीबी ट्रिप करके ही जाते हैं। जिस सदगुरू किड्स से शार्ट सर्किट होने की बात कही जा रही है, उसके ऑनर से बात हुई है, उनका कहना है घटना के समय भी दुकान की एमसीबी ट्रिप थी। यदि ऐसा है तो शार्ट सर्किट होना संभव ही नहीं है। एमसीबी चालू होने और इन्वर्टर की बैटरी के कनेक्टर से स्पार्किंग होने पर ही चिंगारी निकल सकती है, लेकिन दुकान में इन्वर्टर न होने की बात भी कही जा रही है।-शनि वर्गीस, सहायक यंत्री मप्र-विविकं, बैरागढ़


दुकानदार का कहना...
जिस सदगुरू कलेक्शन की दुकान से आग की शुरूआत होना बताई जा रही है, उसके आॅनर इससे इत्तफाक नहीं रखते। यह प्लाई के पार्टीशन वाली दुकान थी यानी एक दुकान सेे दो दुकानें बनाई गईं। चार माह पहले ही दुकानदार ने कारोबार शुरू किया था। दुकान मालिक पंकज रीझवानी का कहना है कि मेरी दुकान से धुंआ उठते देख मेरे आने से पहले ही लोगों ने शटर तोड़ दिया था। मैंने दुकान लेने के बाद पूरी तरह से बिजली की कमियों को दूर करा लिया था और दुकान में केवल छह सीएफएल ही जलती थीं। जिस वक्त आग लगी उस समय एमसीबी नीचे था। हो सकता है दूसरी दुकान में शार्ट सर्किट हुआ हो।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Bhopal

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×