Hindi News »Madhya Pradesh News »Bhopal News» Damoh District Hospital Doctor Was Drunk During Duty

भोपाल न्यूज

भोपाल न्यूज

Sushma Barange | Last Modified - Dec 04, 2017, 01:01 PM IST

भोपाल। शराब के नशे में अस्पताल पहुंचे डॉक्टर से जब चेयर पर बैठा नहीं गया, तो वे मरीज के बिस्तर पर जाकर लेट गए। इस बीच कई मरीजों को गार्ड ने वापस लौटा दिया। वहीं, कुछ लोगों का डॉक्टर ने पलंग पर लेटे-लेटे ही इलाज कर दिया। हालांकि, उन मरीजों को डॉक्टर ने घर जाकर आराम की सलाह दे दी। यह मामला मप्र के दमोह जिला अस्पताल का है।

मरीजों को गार्ड और वार्डबॉय ने संभाला
जानकारी के अनुसार शराबी डॉक्टर का नाम डॉ. मुकेश अहिरवार है, जो वर्तमान में दमोह जिला अस्पताल में अपनी सेवाएं दे रहे हैं। रविवार को वे शराब के नशे में जिला अस्पताल में ड्यूटी कर रहे थे। नशा चढ़ने पर वे कमरा नंबर 15 में पलंग पर मच्छरदानी लगाकर सो गए थे। वहीं, मरीजों को ओपीडी में गार्ड और वार्डबॉय संभाल रहे थे। जो मरीज कमरा नंबर 15 की ओर जाता था, उसे गार्ड दौड़कर रोक लेता था और समस्या सुनकर अंदर जाने देता था। अधिकांश मरीजों से डॉक्टर ने मिलने से ही इनकार कर दिया, वहीं कुछ लोगों का पलंग पर लेटे-लेटे ही इलाज कर दिया।

मच्छरदानी में सो रहे थे डॉक्टर
सागर जिले के गढ़ाकोटा से आए सुरेंद्र विश्वकर्मा ने बताया कि उनका 10 साल का बेटा राज साइकिल से गिर गया था। बेटे के पैर में सूजन आने पर उसे जिला अस्पताल इलाज के लिए लेकर आए थे। पर्ची बनवाकर कमरा नंबर 15 में जांच कराने गए तो डॉक्टर पलंग पर मच्छरदानी में सो रहे थे। गार्ड ने डॉक्टर को उठाया तो डॉक्टर भड़क गए, गार्ड ने मरीज को देखने बोला तो पहले वे आनाकानी करने लगे, मैंने उन्हें समस्या बताई तो उन्होंने हमें पलंग के पास बुलाया। बेटे के पैर को पलंग पर लेटे हुए ऊपर उठाकर देखा और ओपीडी में जाकर मरहम लगवाने बोल दिया उन्होंने दवाएं भी नहीं लिखीं।

दूसरे डॉक्टर को बुलाया गया
-शराब के नशे में धुत्त डॉक्टर की करतूत से जब व्यवस्थापक वीरेंद्र असाटी को अवगत कराया गया तो उन्होंने डॉ. बागरी को मरीजों के चेकअप के लिए बुलाया। व्यवस्थापक असाटी ने बताया कि डॉ. मुकेश अहिरवार की स्थिति गड़बड़ समझ में आ रही थी शायद उनकी तबीयत खराब थी। इसलिए वे मरीज के बिस्तर पर लेट गए थे। स्थिति को समझते हुए हमने मरीजों का इलाज कराने के लिए दूसरे डॉक्टर को बुलाया था।

नशे की वजह से सस्पेंड हो चुके हैं डॉक्टर
-नशे की लत के कारण डॉ. मुकेश अहिरवार कई बार दुर्घटना के शिकार भी हो चुके हैं। इन्हीं आदतों की वजह से वे एक बार सस्पेंड भी किया जा चुका है। कुछ दिनों पहले ही उन्हें काम में लापरवाही बरतने के लिए नोटिस भी दिया गया था।-डॉ. आरके बजाज, सीएमएचओ


-सिविल सर्जन डॉ. ममता तिमोरी का कहना है कि मुझे इसकी सूचना नहीं मिली है। मामला गंभीर है मैं दिखवाती हूं, इसे व्यवस्थापक को भेजती हूं।

जो छापना है छाप देना, मैं कलारी पर बैठा हूं
-इस बारे में जब डॉ. मुकेश अहिरवार से बात की, तो उन्होंने कहा कि जो छापना है छाप देना। मैं अभी भी कलारी में बैठकर शराब पी रहा हूं। मैं ड्यूटी पर नहीं पीता, ज्यादा बकवास की तो मैं तुम्हें मार डालूंगा।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Bhopal

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×