भोपाल

  • Home
  • Mp
  • Bhopal
  • Even before being a fake IAS officer, it has trapped a girl.
--Advertisement--

भोपाल

भोपाल

Danik Bhaskar

Dec 18, 2017, 10:33 AM IST
समीर अनवर पहले भी एक लड़की को फ समीर अनवर पहले भी एक लड़की को फ

भोपाल। सीबीआई का अंडर कवर डीएसपी बनकर कैट की छात्रा को झांसे में लेने वाला समीर अनवर खान पंजाब के कपूरथला जिले में भी एक छात्रा के साथ ठगी कर चुका है। बीएससी छात्रा को झांसा दिया था कि उसका सिलेक्शन आईएएस ऑफिसर के पद पर हो गया है। इसके बाद आरोपी ने वर्ष 2016 छात्रा से निकाह कर उसे गर्भवती भी कर दिया। उसके झूठ का खुलासा हुआ तो छात्रा की शिकायत पर कपूरथला जिले के फगवाड़ा थाने में जनवरी 2016 में समीर के खिलाफ धोखाधड़ी, दहेज अधिनियम और धमकाने की धाराओं में केस दर्ज किया गया।

पहले शमशेर नाम लिखाया
- अशोका गार्डन पुलिस क आमिर हसन मुताबिक यहां आरोपी ने अपना नाम समीर नहीं बल्कि शमशेर लिखवाया था। फगवाड़ा पुलिस ने गिरफ्तार कर उसे जेल भेज दिया। दो महीने जेल में रहे आरोपी की जमानत उसकी दादी ने करवाई तब कहीं जाकर वह जेल से बाहर आ सका। आरोपी तभी से पेशी से फरार है। समीर को लेकर ये जानकारी सामने आने के बाद अशोका गार्डन पुलिस अब उसकी रिमांड बढ़ाने की तैयारी में है।

आरोपी पुलिस रिमांड पर

- पुलिस ने 24 वर्षीय कैट छात्रा की शिकायत पर वाराणसी निवासी समीर को बीते मंगलवार को गिरफ्तार किया था। आरोपी ने अपना सिलेक्शन आईपीएस के लिए होने का कहकर छात्रा से दो लाख रुपए ऐंठ लिए। भोपाल रुकने के दौरान उसने छात्रा से कई बार ज्यादती भी की। वह 18 दिसंबर तक पुलिस रिमांड पर था।


होटल का किराया दिए बगैर हुआ फरार
- पुलिस ने होटल नूर-उस-सबाह को पत्र लिखकर समीर के रुकने की जानकारी मांगी थी। प्रबंधन ने बताया कि समीर दो नवंबर से 23 नवंबर तक होटल में रुका था। इस दौरान उसके रुकने और खाने-पीने का बिल 2 लाख 15 हजार 311 रुपए बना। होटल में रुकते वक्त उसने बीस हजार रुपए एडवांस जमा किए थे। उसे 24 नवंबर तक रुकना था, लेकिन बकाया बिल जमा किए बगैर ही वह 23 नवंबर को कमरे पर ताला लगाकर भाग निकला।

सीबीआई का अफसर बनाया था

- 24 वर्षीय छात्रा के पिता बिजली कंपनी में अफसर हैं। करीब तीन महीने पहले उन्होंने शादी डॉट कॉम पर बेटी की प्रोफाइल अपलोड की थी। इस प्रोफाइल को वाराणसी निवासी समीर अनवर खान ने पसंद किया और बात आगे बढ़ाई।

- समीर ने अपनी प्रोफाइल में सीबीआई का अंडर कवर डीएसपी लिखा था। ये देख छात्रा भी झांसे में आ गई और दोनों में बातचीत शुरू हो गई। 22 अक्टूबर को पहली बार भोपाल आया समीर होटल नूर-उस-सबाह में रुका।

- यहां उसने कथित काजी को बुलवाकर छात्रा से निकाह की रस्में कर लीं। फिर उसने इसी होटल में ही सुहागरात मनाई। दो दिन बाग समीर लौट गया।

Click to listen..