--Advertisement--

घी खाने और कोल्डड्रिंक पीने की सलाह

घी खाने और कोल्डड्रिंक पीने की सलाह

Danik Bhaskar | Dec 22, 2017, 10:55 AM IST

भोपाल। दिल्ली एम्स का डॉक्टर बनकर एक ठग ने नूतन कॉलेज के पास स्थित महिला पॉलिटेक्निक कॉलेज में केवल लेक्चर देकर प्रोफेसरों और छात्राओं को प्रभावित किया, बल्कि उसने एनजीओ को दान देने के नाम पर 37 हजार रुपए में नकली दर्द का तेल और एक मशीन तक बेच दी। संदेह होने पर प्रोफेसरों ने दिल्ली एम्स की वेबसाइट पर डॉक्टरों की लिस्ट देखी, तो उसमें उसका नाम नहीं मिला। इसके बाद उन्होंने आरोपी को जल में फंसाकर उसे हबीबगंज पुलिस को सौंप दिया। कॉलेज की प्राचार्य केवी राव ने गुरुवार को हबीबगंज पुलिस थाने जाकर धोखाधड़ी किए जाने की शिकायत की थी।




एक वीडियो दिखाकर 25 लोगों की जिंदगी बदलने का दावा भी किया
एएसपी जोन-1 धर्मवीर सिंह के अनुसार 19 दिसंबर को लुधियाना निवासी 37 वर्षीय गौरव के. अनेजा पिता अमरनाथ अनेजा नाम का एक शख्स केवी राव से मिला था। आरोपी ने खुद को एम्स का मनोचिकित्सक बताते हुए प्रोफेसर और बच्चों के बीच एक समन्वय लेक्चर करने का प्रस्ताव रखा। राय ने उसे बुधवार को इसकी अनुमति दे दी। गौरव के प्रजेंटेशन से सब प्रभावित हुए। उसने यू-ट्यूब पर अपलोड अपना एक वीडियो भी दिखाया। इसमें उसने 25 लोगों की जिंदगी बदलने का दावा किया। लेक्चर खत्म होने के बाद उसने एक-एक फीडबैक फॉर्म भरने को दिया। उसने बताया कि वह सीनियर सिटीजन शेल्टर होम समेत अन्य समाज सेवा के काम एनजीओ के माध्यम से करता है। इसके लिए उसने 60 सरकारी डाक्टर रखे हुए हैं। वह उनके लिए कुछ खोज करते हैं। उसने कहा कि जो भी मदद करना चाहते हैं, वे इंफ्रारेड मशीन और दर्द निवारण तेल खरीदकर अपना सहयोग कर सकते हैं। प्राचार्य और छात्राओं समेत कॅालेज के करीब 18 सदस्यों ने 37 हजार रुपए दे दिए।

मेड इन जापान बताकर बेच दिया लोकल माल...
झांसा देकर आरोपी को एमपी नगर बुलाया गया, जहां से कॉलेज फैकल्टी ने आरोपी को पकड़ लिया। वे उसे एमपी नगर थाने ले गए। यहां से उन्हें हबीबगंज थाने का कहकर चलता कर दिया। हबीबगंज पुलिस थाने पहुंचकर उन्होंने मामला दर्ज कराया। आरोपी के पास से पुलिस ने मेडिकल उपकरण, दवाएं, तेल आदि जब्त किए हैं। पूरा सामान दिल्ली का लोकल माल है। आरोपी ने इसे मेड इन जापान बताकर बेच दिया था।

ऐसे हुआ शक...
पहले तो किसी को शक नहीं हुआ, लेकिन इलाज के नाम पर घी खाने और कोल्डड्रिंक पीने की सलाह ने कुछ संदेह पैदा कर दिया। इसके बाद कालेज फैकल्टी डॉ. विनोद गुप्ता की पत्नी की तबियत खराब हो गई। उन्होंने गौरव से पत्नी को देखने की बात कही तो वह आनाकानी करने लगा। शक होने के बाद सभी ने एम्स दिल्ली के डॉक्टरों की साइट पर सूची पर गौरव का नाम खोजा, लेकिन उसका नाम नहीं मिला।