--Advertisement--

जमीन आधी गड़ी ये औरत चिल्लाती रही बचाव को, फिर ऐसे हुआ करिश्मा

जमीन आधी गड़ी ये औरत चिल्लाती रही बचाव को, फिर ऐसे हुआ करिश्मा

Danik Bhaskar | Jan 07, 2018, 03:46 PM IST
एमपी के बतैलू में सारणी में एक एमपी के बतैलू में सारणी में एक

भोपाल. बैतूल जिले के सारणी में रविवार को सालों से बंद पड़ी खदान धंसने से 3 महिलाओं और एक 11 साल की बच्ची की मौत हो गई। घटना के दौरान एक महिला को बचा लिया गया है। दरअसल, ये महिला खदान धंसने के बाद मिट्टी में फंस गई। उसने बचने के लिए गुहार लगाई, जिसके बाद आसपास के लोग मौके पर पहुंचे। महिला को बचाने के बाद पुलिस को खबर दी गई, जिसके बाद जेसीबी से खुदाई के जरिए बच्ची और महिलाओं की बॉडी को बाहर निकाला गया।

रोक के बावजूद लगातार खदानों में खुदाई जारी

- सारणी में खदान धंसने की घटना दोपहर एक बजे की है। चार महिलाएं और बच्ची खदान में कोयला खोदते-खोदते ज्यादा अंदर तक चली गईं। इसी दौरान खदान धंस गई।

- बंद खदानों में लोगों को चेतावनी देने के लिए बोर्ड भी लगाए गए हैं। लेकिन, गरीब परिवारों की महिलाएं यहां अक्सर कोयला खोदने आती हैं।

इनकी गई जान

-11 वर्षीय बच्ची तायल देशमुख, शीलू चौरसिया (45), मीना शिवपाल (32), नानीबाई पारे (35) की मौत हो गई है। जबकि संध्या डेहरिया (33) को बचा लिया गया है।

प्रशासन ने क्या कदम उठाया?

- बैतूल के कलेक्टर शशांक मिश्र ने कहा, "मृतकों के परिजनों को बीपीएल सहायता के तहत 20-20 हजार की मदद की गई है। हम बंद खदानों की फेसिंग कराने के लिए डब्ल्यूसीएल से बात करेंगे। जिससे अागे से ऐसे हादसों को रोका जा सके।"