• Home
  • Mp
  • Bhopal
  • Girls do obscene talk on the phone, so society took this big step
--Advertisement--

फोन पर अश्लील बातें करती हैं लड़कियां, इसलिए समाज ने लिया ये बड़ा स्टेप

फोन पर अश्लील बातें करती हैं लड़कियां, इसलिए समाज ने लिया ये बड़ा स्टेप

Danik Bhaskar | Dec 12, 2017, 01:23 PM IST
सहरिया समाज के युवाओं ने पंचाय सहरिया समाज के युवाओं ने पंचाय

भोपाल। इस समाज की महिलाएं अगर किसी दूसरे समाज के पुरुष के साथ बातचीत करेंगी तो उसे समाज से निकाल दिया जाएगा। इतना ही नहीं, समाज की कोई भी महिला अपने पास मोबाइल फोन नहीं रखेंगी। खासकर कुंवारी लड़कियां तो बिलकुल भी मोबाइल नहीं रख सकेंगी। जिससे लड़कियां मोबाइल पर अश्लील बातें न कर सकें। क्योंकि इस तरह की शिकायतें आती रही हैं। ये फरमान गुना जिले में सहरिया आदिवासी समाज के बुजुर्गों व महिलाओं ने सुनाया है। इस पर समाज के सभी लोगों ने सहमति जताई है।


- गुना में मंगलवार को राजस्थान बार्डर से लगे मप्र के आखिरी गांव डेहरा में निवास करने वाले आदिवासी समाज ने यह निर्णय लिया गया है। समाज की महिलाएं यदि कहीं मजदूरी करने भी जाती हैं तो महिलाएं कम से कम पांच महिलाओं के समूह में ही मजदूरी करने जाएंगी, ताकि आदिवासी महिलाओं का कोई शोषण न करने पाए।

- आम तौर पर महिलाओं दबंग और रसूखदार लोगों के जहां पर कई बार अकेली भी मजदूरी करने चली जाती थी, जिससे बाद में उनके शोषण की शिकायतें सामने आती थी। अगर कोई महिला अकेले काम पर जाती है तो उसे दंडित किया जाएगा या उसे समाज से बाहर कर दिया जाएगा।

- पुरुषों के शराब पीने, गांजा पीने और जुआं खेलने पर प्रतिबंध लगा दिया गया है। अगर कोई पुरुष नियमों का उल्लंघन करता है तो उसके खिलाफ कड़े दंड दिए जाएंगे। दंड नहीं तो
फिर समाज से बहिष्कृत कर दिया जाएगा।

और ये भी लिए गए निर्णय

- हर बच्चे को स्कूल भेजना होगा और अगर मां-बाप ने स्कूल नहीं भेजा तो उन्हें दंडित किया जाएगा।

- समाज की लड़कियां अंतरजातीय विवाह नहीं करेंगी, यदि कोई लड़की अंतरजातीय विवाह करती है तो उसके परिवार पर 5 हजार रुपए अर्थदंड लगेगा।

- समाज का कोई भी व्यक्ति अपने बच्चों की शादी के लिए अपनी जमीन साहूकारों के जहां गिरवी नहीं रखेगा।

- समाज में मृत्युभोज बंद करके सिर्फ 5 कन्याओं को भोज कराने का निर्णय लिया है। समाज की कोई भी महिला किसी भी तरह का नशा भी नहीं करेगी।

- समाज का जो भी व्यक्ति अपने बच्चों को स्कूल नहीं भेजेगा उसके परिवार पर भी 5 हजार रुपए महीने जुर्माना लगाया जाएगा।