• Home
  • Mp
  • Bhopal
  • If Indian doctors stop working, half of America will get sick
--Advertisement--

सीएम ने कहा- भारतीय डॉक्टर काम बंद कर दें तो आधा अमेरिका बीमार हो जाए

सीएम ने कहा- भारतीय डॉक्टर काम बंद कर दें तो आधा अमेरिका बीमार हो जाए

Danik Bhaskar | Dec 12, 2017, 07:40 PM IST
सीएम ने कहा कि पटवारी के लिए इं सीएम ने कहा कि पटवारी के लिए इं

भोपाल। अमेरिका के विकास में भारतीयों का महत्वपूर्ण योगदान है। यदि आज भारतीय डॉक्टर काम बंद कर दें तो आधा अमेरिका बीमार हो जाएगा। भारतीय प्रतिभाएं अवसर के अभाव में विदेशों में पलायन कर रही हैं। यह हमारी नीतियों की ही कमी है कि हम प्रतिभाओं के लिए अवसर उपलब्ध नहीं करा पा रहे हैं। यही कारण है कि प्रतिभाओं को पलायन करना पड़ रहा है। यह कहना है मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान का। वह राजीव गांधी तकनीकी यूनिवर्सिटी में हुए कुलपति मीट के कार्यक्रम में पहुंचे।

टेक्नालॉजी का यूज आतंकवाद में
- उन्होंने कहा कि आज तकनीक का उपयोग आतंकवाद में हो रहा है। इस पर भी सभी को मिलकर सोचने की जरूरत है। कार्यक्रम के मुख्य अतिथि मुख्यमंत्री चौहान ने इस दौरान विश्वविद्यालयों के विकास और गुणवत्ता को बढ़ाने के लिए अधिक स्वायत्तता देने की बात कही। उन्होंने कहा कि भारत में नालंदा और तक्षशिला जैसे विश्वविद्यालय रहे हैं जो पूरे विश्व में विख्यात थे। आज सोचना पड़ेगा कि भारत के विश्वविद्यालय दुनिया के 100 शीर्ष विश्वविद्यालयों में कैसे शामिल हों। उन्होंने इसके लिए समाज और सरकार दोनों को साथ-साथ प्रयास करने की बात कही।

संस्कार के बगैर प्रतिभा का मिसयूज

- साथ ही मुख्यमंत्री ने कहा कि संस्कार के बिना प्रतिभा का दुरुपयोग भी हो सकता है। कई बार प्रतिभाएं तकनीक का उपयोग अापराधिक कामों में करने लगती है। इसके लिए विश्वविद्यालयों को ज्ञान और कौशल देने के अलावा नागरिकता की शिक्षा देने पर भी ध्यान देना होगा, क्योंकि शिक्षित होने और संस्कारित होने में अंतर है।


पटवारी के लिए क्यों आवेदन कर रहे हैं इंजीनियरिंग छात्र
- पटवारी भर्ती परीक्षा में परीक्षार्थियों की संख्या पर उन्होंने कहा कि पटवारी बनने के लिए बड़ी संख्या में इंजीनियर आवेदन कर रहे हैं। यह चिंता का विषय है और इस व्यवस्था को बदलने की जरूरत है। वहीं तकनीकी शिक्षा राज्य मंत्री दीपक जोशी ने कहा कि ग्रामोदय का लक्ष्य लेकर शिक्षा व्यवस्था बनानी होगी। हमें सबको काम देने वाला देश बनना होगा। ऐसी व्यवस्था बनानी होगी कि जिससे गांव मंें रहकर ही छात्र पीएचडी कर सके।