--Advertisement--

विधानसभा में पूछे गए ४३ हजार सवाल, बच्चों पर केवल इतने ही सवाल

विधानसभा में पूछे गए ४३ हजार सवाल, बच्चों पर केवल इतने ही सवाल

Danik Bhaskar | Dec 12, 2017, 04:29 PM IST

भोपाल। बच्चे, जि‍नकी आवाज उठाए जाने की इस वक्त सबसे ज्यादा जरूरत है, उनकी वि‍धानसभा में चर्चा कम हो रही है। यह चौंकाने वाले रिजल्ट विधानसभा कार्यवाही पर हुए एक अध्ययन में सामने आए हैं। इसे सामाजिक शोध संस्था विकास संवाद ने मप्र की तेरहवीं विधानसभा के अध्ययन में किया है।


- लोकतंत्र में संसदीय संस्थाओं की भूमिका बेहद महत्वपूर्ण होती है। सरकार को चलाने, योजनाएं बनाने और उनकी निगरानी में संसदीय संस्थाओं की कार्यवाही अहम है। यह जितनी मजबूत होगी देश और समाज उतना ही बेहतर होगा। वि‍धानसभा में जितने अधि‍क सवाल पूछे जाएंगे, जितनी ज्यादा चर्चा होगी। लोकतंत्र में परिस्थितियां उतनी ही तेज गति से बेहतर होती हैं।

इन चार मुद्दों पर हुए सवाल

केवल 4091 सवाल बच्चों के मुददों पर इस अध्ययन में बच्चों के सवाल को चार भाग पोषण, शिक्षा, स्वास्थ्य और सुरक्षा एवं संरक्षण में बांटा गया। इस दौरान निकलकर आया बच्चों के स्वास्थ्य पर केवल 160 (0.37%), पोषण पर 648 (0.80%) सुरक्षा एवं संरक्षण पर 229 (0.53%) एवं शिक्षा पर 3054 (7.08%) सवाल पूछे गए। बच्चों से संबंधित इन चार महत्वपूर्ण क्षेत्रों पर कुल 4091 (9.49%) सवाल ही पूछे गए।

कुल 43097 सवाल पूछे गए

- 13वीं विधानसभा 11 दिसम्बर 2008 से 10 दिसम्बर 2013 तक चली। इस दौरान कुल 17 सत्र हुए। 257 दिनों की अवधि में कुल 167 विधानसभा दिन की बैठक हुई। इस दौरान कुल 815 घंटे 47 मिनट सदन की कार्यवाही चली। इस दौरान कुल 54 हजार 590 प्रश्न प्राप्त हुए, इनमें से 11 हजार 493 प्रश्न निरस्त कर दिए।


कांग्रेस से ज्यादा भाजपा विधायकों ने पूछे सवाल
- भाजपा ने 1982,
- कांग्रेस ने 1727,
- बसपा ने 196
- निर्दलीय विधायकों ने कुल 81 सवाल