Hindi News »Madhya Pradesh News »Bhopal News» Meraari Bapu Said, Do Not Drink Alcohol In The New Year

नए साल में मत पीना शराब, नौ दिन कथा अमृत पिलाकर जा रहा हूं, मेरी लाज रखना: मोरारी बापू

नए साल में मत पीना शराब, नौ दिन कथा अमृत पिलाकर जा रहा हूं, मेरी लाज रखना: मोरारी बापू

Sumit Pandey | Last Modified - Dec 31, 2017, 12:31 PM IST

भोपाल।छतरपुर जिले के प्रसिद्ध पर्यटन और धार्मिक स्थल ओरछा में चल रहे मानस रामराजा कथा समारोह में शनिवार को मोरारी बापू ने एक बार फिर युवाओं को चेतावनी दी। उन्होंने लोगों से कहा कि नए साल के जश्न में शराब मत पीना। व्यसन मत करना। मैं 9 दिवसीय रामकथा रूपी अमृत पिलाकर जा रहा हूं। अब मेरी लाज रखना। बापू ने कहा कि ओरछा में विराजे रामराजा, चित्रकूट के रामराजा की तरह हैं।

- मोरारी बापू ने भक्तमाली महाराज की ओर इशारा करते हुए कहा कि साधु वह है जिसकी वाणी, रहन-सहन, भोजन और भाषा सादा हो। ये सभी लक्षण सद्गुरु भक्तमाली महाराज में समाहित थे। बापू ने कहा कि भक्तमाली महाराज ने एक बार डालमिया हाउस दिल्ली में श्रीराम कथा का प्रस्ताव निरस्त कर बुंदेलखंड के एक छोटे से किसान के कथा प्रस्ताव को स्वीकार किया था। ऐसे संत मिलना दुर्लभ हैं। उन्होंने कहा कि सरलता सबसे ज्यादा कठिन है। सादगी, सरलता साधुओं को प्रसन्नता देती है।

- शनिवार को केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह ओरछा पहुंचे। उन्होंने पहले श्रीरामराजा सरकार के दर्शन कर पूजा अर्चना की। दोपहर 12.30 बजे कथा पंडाल में पहुंचकर कथा समाप्ति तक बैठे रहे।

गृहमंत्री के सामने राजा के लक्षण गिनाए
- गृहमंत्री राजनाथ सिंह के कथा पंडाल में पहुंचने पर मोरारी बापू ने राजा के लक्षणों का वर्णन किया। उन्होंने कहा कि राजा वह जो धर्म में तत्पर हो। वाणी में मधुरता हो। देने में उत्साह दिखाए। मित्र के साथ छल करे। गुरुजनों के प्रति विनयता हो। दूसरों के गुण में रस प्राप्त करे। बापू ने कहा कि महर्षि चाणक्य ने राजा के यह लक्षण बताए हैं।

पाकिस्तान का न्यौता ठुकराया तो खुशी हुई
- बापू ने राजनाथ सिंह की इशारा करते हुए कहा कि राष्ट्र भक्ति ही राम भक्ति है। मुझे उस वक्त बहुत प्रसन्नता हुई थी जब पाकिस्तान दौरे पर गए गृहमंत्री ने भोजन का प्रस्ताव ठुकराते हुए कहा था कि में यहां खाने नहीं आया हूं।


शिवराज के विवादित दौरे से संभलकर पहुंचे गृहमंत्री
- मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान के ओरछा के विवादित दौरे से सबक लेते हुए गृहमंत्री राजनाथ सिंह शनिवार को हेलीपेड से उतरकर सीधे रामराजा सरकार के दर्शन करने गए। इस दौरान सीएम के दौरे की तरह तो श्रद्धालुओं को मंदिर जाने से रोका गया। आम रास्ता बंद किया गया। उन्होंने मंदिर पहुंचकर रामराजा सरकार के दर्शन कर पूजा अर्चना की। इसके बाद कथा पंडाल में पहुंचकर श्रीराम कथा सुनी।

सेना बखूबी निभा रही अपनी जिम्मेदारी
- रामकथा में पहुंचे गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने मीडिया के सवालों का जबाव देते हुए कहा कि देश की सुरक्षा की जिम्मेदारी हमारी भारतीय सेना बखूबी निभा रही है। फिर चाहे नक्सलवाद हो या फिर आतंकवाद। सीआरपीएफ और सेना के जवान सीमा पर पाकिस्तान को मुंहतोड़ जवाब दे रहे हैं। पाकिस्तान में बंद कुलभूषण जाधव के मामले में पूरी संसद में एक जुट होकर निंदा की हैं।

जहां गोस्वामी तुलसीदास रुके, उस घाट को प्रणाम किया
रामराजा सरकार के आगमन के बाद गोस्वामी तुलसीदास ओरछा आए थे। वे जिस घाट पर स्नान करने जाते थे। तत्कालीन राजा ने उस घाट का नाम तुलसी घाट रख दिया था। शुक्रवार शाम मलूकपीठाधीश्वर राजेंद्रदास महाराज अपने साथ मोरारी बापू को तुलसी घाट के दर्शन कराने ले गए। बापू ने तुलसी घाट पर पहुंचकर प्रणाम किया।

बापू देशवासियों का मन बड़ा कर रहे हैं
- रामकथा के मंच से गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि में तो श्रोता बनकर आया हूं। बापू के आदेश से कुछ बोल रहा हूं। उन्होंने कहा कि प्रत्यक्ष रूप से पहली बार बापू की कथा सुन रहा हूं। अब तक सीडी पर कथा सुनी थी, लेकिन अब वादा कर रहा हूं कि जहां भी बापू की कथा होगी में समय निकालकर जरूर जाऊंगा। गृहमंत्री ने कहा कि मोरारी बापू श्रीराम कथा के माध्यम से देश के लोगों का मन बड़ा करने का काम कर रहे हैं।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Bhopal

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×