--Advertisement--

एक साल के हुए भोपाल रियासत के वारिस तैमूर

एक साल के हुए भोपाल रियासत के वारिस तैमूर

Dainik Bhaskar

Dec 20, 2017, 03:03 PM IST
शाहजहां बेगम की फाइल फोटो(L)। दू शाहजहां बेगम की फाइल फोटो(L)। दू

भोपाल। बॉलीवुड स्टार सैफ अली खान और करीना कपूर ने बेटे तैमूर का जन्मदिन हरियाणा स्थित पटौदी पैलेस में मनाया। 20 दिसंबर को उनका बेटा तैमूर एक साल का हो गया है। इस खास मौके पर आपको बता दें कि सैफ भोपाल की नवाबी रियासत के इकलौते वारिस हैं। उनके बाद ये अरबों की संपति उनके बेटे तैमूर और इब्राहिम अली खान की हो सकती है। हालांकि इस संपति पर फिलहाल काफी विवाद चल रहे हैं।


-नवाबी खानदान के शान-ओ-शौकत की अगर हम बात करें तो आपको ये जानकर हैरानी होगी कि, सैफ की बड़ी दादी यानी तैमूर की परदादी भोपाल की शासक रहीं हैं। उनका नाम शाहजहां बेगम था, जिनको पान खाने का बेहद शौक था। उनके इस शौक को पूरा करने के लिए भोपाल में एक पूरा बाजार बसाया गया था। इसका नाम रखा गया चौक बाजार। अब इस 300 साल पुराने बाजार को हेरिटेज लुक देने की कोशिश हो रही है।

यह है चौक बाजार की खासियत..
- 300 साल पहले बसे इस बाजार की आज भी खास पहचान है। भोपाल की 11वीं शासक शाहजहां बेगम (1868-1901) ने अपने पान खाने के शौक की वजह से बसाया था।
- पुराने भोपाल की तंग गलियों में उस दौरान एक छोटा-सा चौक था। इसके आसपास हवेलियां थीं। यहीं पर पहले जौहरियों और सुनारों ने अपनी दुकानें शुरू की।
- 11वें शासक नवाब शाहजहां बेगम ने इम्ब्रॉइडरी करने वालों और गुटखा-पान बनाने वालों को जामा मस्जिद के पास ही दुकानें खुलवा दीं।
- यहीं से भोपाली बटुए और सोने-चांदी की जरी-जरदोजी से तैयार अन्य सामान बनाने की शुरुआत हुई।
- सैफ की बड़ी दादी को पान खाने का इतना शौक था कि उनके लिए स्पेशल बग्घी से शाम को पान लेने महल से सैनिक जाते थे। बेगम के लिए एक नहीं, कई तरह के पान हर दिन महल ले जाए जाते थे। खासतौर से पान की सुरक्षा के लिए बेगम के खास विश्वासपात्र बग्घी के अंदर बैठे रहते थे।

X
शाहजहां बेगम की फाइल फोटो(L)। दूशाहजहां बेगम की फाइल फोटो(L)। दू
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..