--Advertisement--

छोटे भाई की जगह बड़े भाई को पीटते हुए ले गए थाने, वारदात ष्टष्टञ्जङ्क में दर्ज

छोटे भाई की जगह बड़े भाई को पीटते हुए ले गए थाने, वारदात ष्टष्टञ्जङ्क में दर्ज

Danik Bhaskar | Dec 16, 2017, 07:40 PM IST
निशातपुरा क्षेत्र में रिटायर निशातपुरा क्षेत्र में रिटायर

भोपाल। जमीन के विवाद में लोगों ने छोटे भाई का गुस्सा उनके बड़े भाई रिटायर्ड आरआई पर निकाला। सुबह-सुबह बाइक से घर पहुंचे चार-पांच आरोपी उन्हें पीटते हुए घर से खींचकर निशातपुरा थाने ले गए और लॉकअप में बंद करवा दिया। हालांकि पुलिस ने किसी के खिलाफ कोई कार्रवाई किए बिना ही उन्हें छोड़ दिया। यह पूरी घटना सीसीटीवी कैमरों में कैद हो गई। रिटायर्ड आरआई ने पुलिस पर शिकायत नहीं सुनने के आरोप लगाते हुए एसपी नॉर्थ से लिखित शिकायत की है।


- करोंद, निशातपुरा निवासी मोहनलाल राजपूत रिटायर्ड आरआई हैं। उन्होंने बताया कि गुरुवार सुबह करीब सवा 11 बजे वे घर पर थे, तभी कॉलोनी में रहने वाले गौरीशंकर अपने बेटों और रिश्तेदारों के साथ बाइक से आए। उन्होंने धोखाधड़ी के आरोप लगाते हुए मारना शुरू कर दिया। वे उन्हें घसीटते हुए निशातपुरा थाने ले गए। मोहनलाल के मुताबिक गौरीशंकर का दीवानगंज में खेती-किसानी करने वाले मेरे छोटे भाई प्रमोद राजपूत से विवाद चल रहा है।

ये है पूरी कहानी
प्रदीप ने मोहन पचौरी, योगेंद्र सिंह और पूर्व पार्षद मदनलाल रांझी के साथ मिलकर 1984 में करोंद में 13 एकड़ जमीन पर प्लाटिंग की थी। इसमें से 8 एकड़ की तो रजिस्ट्री हो गई थी, लेकिन 4 एकड़ की रजिस्ट्री नहीं हो पाई थी। हालांकि पूरे 13 एकड़ की जमीन पर ही मकान बन चुके हैं। मोहनलाल के अनुसार मोहन के छोटे भाई गौरीशंकर अब प्रदीप और मुझ पर उनकी मां द्रोपदी की फर्जी पॉवर ऑफ अटार्नी बनवाकर धोखाधड़ी के आरोप लगा रहे हैं। मोहनलाल का कहना है कि उनके पास जमीन के पूरे कागजात हैं।

- दो दिन पहले प्रदीप के नहीं मिलने पर मोहनलाल को पकड़कर थाने लाए थे। मैंने उन्हें थाने से छोड़ा था। उस दौरान उन्होंने कहा था कि वे प्रदीप को पुलिस के सामने पेश कर देंगे। विवाद 13 एकड़ जमीन पर पॉवर ऑफ अटार्नी पर की गई रजिस्ट्री पर बने मकान को लेकर है। प्रदीप के खिलाफ पहले से ही कई शिकायतें हैं। अगर मोहनलाल शिकायत करते हैं, तो मारपीट करने वालों के खिलाफ कार्रवाई करेंगे।
-चैन सिंह रघुवंशी, टीआई निशातपुरा