--Advertisement--

साड़ी के बनाए जिस फंदे से लटका था युवक का शव, उसी से हाथ बंधा मिला

साड़ी के बनाए जिस फंदे से लटका था युवक का शव, उसी से हाथ बंधा मिला

Danik Bhaskar | Dec 19, 2017, 12:44 PM IST

भोपाल। अशोकनगर जिले में मंगलवार को जनसुनवाई के दौरान एक ग्रामीण मारपीट में अपना डेढ़ माह पहले टूटा हुआ दांत लेेकर कलेक्टर व एसपी के सामने पहुंच गया। कलेक्टर, एसपी से न्याय के लिए गुहार लगाते हुए ग्रामीण ने कहा कि उसके जमीन में सीमांकन के दौरान जब उसने आरआई, पटवारी की मांग पूरी नहीं की तो उसके साथ मारपीट की गई और झूठा प्रकरण दर्ज करा दिया गया। डेढ़ माह तक जेल में रहने के बाद अब ग्रामीण संबंधित कर्मचारियों पर कठोर कार्रवाई की मांग कर रहा है।

ये है पूरा मामला...

डेढ़ माह से दांत को रखा था संभाल कर
- किसान ने बताया कि डेढ़ माह से उसने जेल में भी अपने टूटे हुए दांत को संभालकर रखा था जिससे वह अधिकारियों को बताकर संबंधित कर्मचारियों पर कार्रवाई करवा सके। रामपाल ने बताया कि दोनों कर्मचारियों की शिकायत पर थाने में प्रकरण पंजीबद्ध हुआ लेकिन जब वह शिकायत करने पहुंचा तो उसकी शिकायत न सुनते हुए उल्टा गिरफ्तार कर लिया। किसान के आवेदन को लेकर अधिकारियों ने मामले की जांच कराने का आश्वासन किसान को दिया है।

सीमांकन में मांगी 1 लाख की घूस

- पिपरई तहसील के ग्राम कैथन निवासी रामपाल सिंह पुत्र रतन सिंह तोमर ने कहा कि 31 अक्टूबर को आरआई गन्धर्व कौशल एवं पटवारी जितेन्द्र जादौन उसके खेत के पास लगी भगवान सिंह अहिरवार, आनंदी अहिरवार की जमीन उसके खेत में सीमांकन के दौरान निकालने लगे। ग्रामीण ने बताया कि उससे पहले डेढ़ लाख रुपए की मांग की गई जब उसने बात नहीं मानी तो ये लोग उलटी नपती करने लगे। जब उसने इस बात का विरोध किया तो उन्होंने लात घूंसों से पिटाई शुरू कर दी।

- किसान ने बताया कि इस दौरान मेरे मुंह में घूंसा मारा जिससे मेरा दांत तक टूट गया। इसके बाद थाने पहुंचकर मेरे ऊपर हरिजन एक्ट और शासकीय कार्य में बाधा का प्रकरण दर्ज करवा दिया। तब से जेल में बंद किसान ने छूटकर संबंधित कर्मचारियों पर कार्रवाई की मांग करते हुए आवेदन सौंपा है।