--Advertisement--

जब गायब हुई थी ये लड़की तो नाबालिग थी, अब एक बच्चे की मां

जब गायब हुई थी ये लड़की तो नाबालिग थी, अब एक बच्चे की मां

Dainik Bhaskar

Dec 27, 2017, 04:47 PM IST
कैंट थाने में परिवार के साथ पह कैंट थाने में परिवार के साथ पह

भोपालमध्य प्रदेश के सागर जिले में कैंट पुलिस ने करीब पांच साल पहले गायब हुई किशोरी को खोज लिया है। वह अपने प्रेमी और एक बच्चे के साथ भोपाल के एक झुग्गी बहुल इलाके में मिली। सागर की पुलिस इस गायब जोड़े को खोजने के लिए दिल्ली, मुंबई, सूरत, इंदौर तक का चक्कर लगा आई थी, वह उन्हें शहर से महज 200 किमी दूर भोपाल में गुजर-बसर करते मिला।


-17 साल की उम्र में घर छोड़कर प्रेमी सोनू यादव के संग भागी यह युवती अब तीन साल के एक बच्चे की मां है। इस युवती के मिलने से पुलिस ने राहत की सांस ली है, क्योंकि इस लड़की की मां ने सागर पुलिस के खिलाफ हाईकोर्ट जबलपुर में बंदी प्रत्यक्षीकरण याचिका दायर कर रखी थी।

भगाकर ले गया था प्रेमी
- मामले की जांच कर रहे कैंट थाना प्रभारी विद्याधर पांडे का कहना है कि पिछले दिनों पुलिस ने क्षेत्र के नागरिकों से सतत संपर्क किया था। यह प्रयास इस लड़की को ढूंढने में बहुत मददगार रहा। एक नागरिक ने ही इस लड़की और उसे भगाकर ले गए युवक के बारे में इनपुट दिया इसकी पुष्टि करने के बाद एसपी सत्येंद्र कुमार शुक्ल ने भोपाल पुलिस से संपर्क कर हमारे लिए को-आर्डिनेशन की व्यवस्था की। दो दिन पहले भोपाल पहुंची टीम ने लड़की को ढूंढ निकाला।

प्रेमी से आरोपी बना सोनू यादव
- पुलिस के इस लड़की तक नहीं पहुंच पाने के दो प्रमुख कारण रहे। पहला ये कि इस लड़की को भगाकर ले गए युवक ने आधार कार्ड में उसका नाम बदलवा दिया था। वहीं ये लोग भोपाल के बहुत ही घने स्लम एरिया में रह रहे थे। इन लोगों ने सागर से पूरी तरह से संपर्क खत्म कर लिया था। इसलिए भी पुलिस को इनका सुराग नहीं मिल रहा था।

- इस मामले में एसपी सत्येंद्र कुमार शुक्ल का कहना है कि युवती को ले जाने वाले युवक सोनू यादव के खिलाफ अपहरण एवं दुष्कृत्य का मामला दर्ज कर आगे की कार्रवाई जारी है।

पुलिस के लिए बड़ी सफलता

- यह लड़की मार्च 2013 में मकरोनिया स्थित एक प्राइवेट स्कूल से लौटते समय गायब हो गई थी। पुलिस ने इस केस में तत्कालीन सदर निवासी युवक सोनू यादव के खिलाफ अपहरण का केस दर्ज किया था। करीब चार साल चली जांच फाइल के पन्ने 30 से बढ़कर 3000 पर पहुंच गए। दो-चार लोगों से बढ़ते-बढ़ते पूछताछ का दायरा 300 लोगों तक पहुंच गया।

- कॉल ट्रेसिंग का नंबर आया तो पुलिस ने 700 दफा मोबाइल कॉल रिकॉर्ड छाना। आईजी ऑफिस से इनाम की राशि भी 3 हजार से बढ़कर 20 हजार रुपए पर पहुंच गई। इस लड़की को खोजने में तीन सीएसपी बदले, एक को तो विभागीय जांच तक सामना करना पड़ा।

X
कैंट थाने में परिवार के साथ पहकैंट थाने में परिवार के साथ पह
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..