Hindi News »Madhya Pradesh »Bhopal »News» When The Women Went To The Fashion Show

PHOTOS: रैंप पर अपनी मम्मी को देखकर चीख पड़े बच्चे, बोले- ये तो मेरी मम्मी

भोपाल में रैंप पर मम्मियों ने दिखाए जलवे, हर किसी ने की तारीफ।

Manish Pateria | Last Modified - Jan 23, 2018, 10:57 AM IST

  • PHOTOS: रैंप पर अपनी मम्मी को देखकर चीख पड़े बच्चे, बोले- ये तो मेरी मम्मी
    +7और स्लाइड देखें

    भोपाल।पहले झिझकीं, फिर घबराईं, लेकिन जैसे ही बच्चों की आवाजें आईं, फिर वह रैंप पर कैटवॉक करने लगीं। रैंप पर उनके जलवे देखकर हर किसी की जबान पर तारीफ थी। बच्चे चींखने लगे, बोले- ये तो मेरी मम्मी है।

    -यूं तो अपने फैमिली की केयरिंग में अपना जिंदगी को झोंक देने वाली मांएं शायद ही कभी अपने लिये समय निकाल पाती हों।

    -लेेकिन लेकिन भोपाल के साकेत नगर में सुकृति महिला मंच ने ऐसी महिलाओं को एक ऐसा मंच प्रदान किया, जिसके माध्यम से उनके अंदर छिपी प्रतिभा निखरकर सामने आई।

    -भोपाल के साकेत नगर में केवल महिलाओं और बच्चों के लिए आयोजित इस कार्यक्रम में जैसे ही मम्मियों ने रैम्प पर कैटवॉक करना शुरू किया वहां बैठे उनके बच्चे भी दंग रह गए।

    -जब भी कोई मम्मी कैटवॉक के लिए आतीं पीछे बैठे उनके बच्चे चिल्ला पड़ते। अरे ! ये तो मेरी मम्मी है।

    -शायद बच्चों को भी मम्मी की इस प्रतिभा का पता नहीं था। लेकिन जिस तरह से इन महिलाओं ने इस फैशन शो के दौरान कैटवॉक किया वहां आए हर व्यक्ति ने तारीफ की।

    पूर्व महापौर ने की तारीफ

    -कार्यक्रम में मुख्य अतिथि भोपाल नगर निगम की पूर्व महापौर कृष्णा गौर इस अवसर पर विशेष रूप से मौजूद रहीं, उन्होंने कहा कि ऐसे कार्यक्रमों से घरेलू महिलाओं का आत्मविश्वास निखरकर सामने आता है।

    -उन्होंने आयोजकों को भी बधाई दी और कहा कि रचनात्मक गतिविधियों को बढ़ावा देने के साथ ही हमारी परंपरा, हमारे त्यौहार को अक्षुण्ण बनाये रखने के साथ-साथ दूसरे संगठनों के लिए भी प्रेरणा प्रदान कर रहे हैं। समाज को बदलने के लिए इस तरह के आयोजनों की सराहना की जाना चाहिए।

    -कैटवॉक कर रही महिलाओं ने बताया कि कई बार महिलाओं को घर में सुनने को मिलता है कि तुम कुछ नहीं कर सकतीं, कई बार उन्हें काले-गोरे के आधार पर भी ताने सुनने को मिलते हैं तो ऐसे कार्यक्रम नया विश्वास जगाते हैं।

    -उन्होंने बताया कि इस कार्यक्रम की कुछ ही समय में रूपरेखा बनाई, हालांकि सभी में झिझक थी, और कैटवॉक करने रैम्प पर आ गईं। परिवार में सास, ससुर और बच्चों ने भी प्रोत्साहित किया तो वे फैशन शो करने का साहस जुटा सकीं। क्योंकि जमाना महिला सशक्तिकरण है इसलिए उन्हें सभी ने सराहा। कार्यक्रम से लगा कि परिवार और घर में व्यस्त रहने के साथ और भी बहुत कुछ किया जा सकता है।

  • PHOTOS: रैंप पर अपनी मम्मी को देखकर चीख पड़े बच्चे, बोले- ये तो मेरी मम्मी
    +7और स्लाइड देखें
  • PHOTOS: रैंप पर अपनी मम्मी को देखकर चीख पड़े बच्चे, बोले- ये तो मेरी मम्मी
    +7और स्लाइड देखें
  • PHOTOS: रैंप पर अपनी मम्मी को देखकर चीख पड़े बच्चे, बोले- ये तो मेरी मम्मी
    +7और स्लाइड देखें
  • PHOTOS: रैंप पर अपनी मम्मी को देखकर चीख पड़े बच्चे, बोले- ये तो मेरी मम्मी
    +7और स्लाइड देखें
  • PHOTOS: रैंप पर अपनी मम्मी को देखकर चीख पड़े बच्चे, बोले- ये तो मेरी मम्मी
    +7और स्लाइड देखें
  • PHOTOS: रैंप पर अपनी मम्मी को देखकर चीख पड़े बच्चे, बोले- ये तो मेरी मम्मी
    +7और स्लाइड देखें
  • PHOTOS: रैंप पर अपनी मम्मी को देखकर चीख पड़े बच्चे, बोले- ये तो मेरी मम्मी
    +7और स्लाइड देखें
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए Bhopal News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: When The Women Went To The Fashion Show
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

More From News

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×