--Advertisement--

क्यों मुंडन करा रहे हैं ये अध्यापक, पढि़ए क्यों

क्यों मुंडन करा रहे हैं ये अध्यापक, पढि़ए क्यों

Dainik Bhaskar

Jan 13, 2018, 03:36 PM IST
शनिवार को सरकार की नीतियों के शनिवार को सरकार की नीतियों के

भोपाल। पांच दिन पहले जिस बात का अल्टीमेटम अध्यापक संघ ने दिया था, उसे आज उन्होंने पूरा किया। हजारों की संख्या में पूरे प्रदेश से आए महिला व पुरुष अध्यापकों ने मांगें नहीं मानी जाने पर सरकार के विरोध में मुंडन कराया। सिर्फ पुरुष ही नहीं, महिला अध्यापकों ने भी मुंडन कराकर जबरदस्त तरीके से विरोध दर्ज कराया।अब तक 120 से ज्यादा पुरुष व महिलाएं मुंडन करा चुकी हैं। जब महिला अध्यापक मुंडन कराने लगीं तो वहां मौजूद महिलाओं के आंखों से आंसू छलक पड़े, नाई के हाथ कांपने लगे। महिला अध्यापकों ने कहा कि इसके बाद भी विरोध प्रदर्शन जारी रहेगा।

- राज्य अध्यापक संघ की अध्यक्ष शिल्पी सिवान, रेणु सागर, अर्चना शर्मा और सीमा छीरसागर ने मुंडन कराया है।

- शिल्पी सिवान ने बताया कि भाजपा सरकार की नीतियों को देखते हुए अगले चुनाव में भाजपा को वोट नहीं देंगे और लोगों से वोट न देने की अपील भी करते हैं।
- हैरानी वाली बात ये है कि इस दौरान भी प्रदेश सरकार का कोई नुमाइंदा अध्यापकों का दर्द बांटने नहीं पहुंचा।
- असल में, अध्यापक शिक्षा विभाग में संविलियन और तबादला बंधन मुक्त नीति को लागू करने की मांग कर रहे हैं। इसी सिलसिले में दो दिन पहले सरकार को अल्टीमेटम दिया कि अगर मांगें नहीं मानी तो इस बार विरोध कड़ा होगा। आजाद अध्यापक संघ के बैनर तले प्रदेशभर के अध्यापक जंबूरी मैदान में जुटे हैं। प्रदेश के पांच अलग-अलग कोनों से यह रथ लेकर यहां पहुंचे हैं। सरकार के वादे और नीतियों के विरोध में अध्यापक एकजुट हुए हैं। 100 से ज्यादा पुरुष अध्यापकों ने मुंडन कराया है। अब महिलाओं ने भी मुंडन कराना शुरू कर दिया है।


120 से ज्यादा अध्यापकों ने कराया मुंडन
प्रांताध्यक्ष शिल्पी सिवान कार्यवाहक प्रांताध्यक्ष शिवराज वर्मा ने बताया कि अभी तक धरना स्थल पर 120 से ज्यादा अध्यापक मुंडन करा चुके हैं। अपनी मांगों को लेकर प्रदेशव्यापी आंदोलन हो रहा है। जंबूरी मैदान में जुटी अध्यापकों की भीड़ के बीच में मुंडन कराने को लेकर होड़-सी मची हुई है।


ये हैं प्रमुख मांगें...


- शिक्षा विभाग में संविलियन
- तबादला बंधनमुक्त नीति
- अनुकंपा नियुक्ति
- सातवां वेतनमान

X
शनिवार को सरकार की नीतियों के शनिवार को सरकार की नीतियों के
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..