Hindi News »Madhya Pradesh News »Bhopal News» Congressman Burnt Effigy Of CM

कांग्रसियों ने जलाया सीएम का पुतला, मांगा-गृहमंत्री से मांगा इस्तीफा

कांग्रसियों ने जलाया सीएम का पुतला, मांगा-गृहमंत्री से मांगा इस्तीफा

Sushma Barange | Last Modified - Nov 04, 2017, 12:22 PM IST

भोपाल। भोपाल में हुए गैंगरेप के विरोध में शनिवार को कांग्रेसियों ने सीएम शिवराज सिंह चौहान का पुतला जलाया। घटना से नाराज कांग्रेसियों ने सीएम और भाजपा सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। प्रदर्शन को उग्र होता देख मौके पर तैनात पुलिसकर्मियों ने कांग्रेसियों को मौके से खदेड़ा।

-यूथ कांग्रेस के सदस्य गौरव शर्मा ने कहा कि, मंगलवार शाम 7 बजे हबीबगंज आरपीएफ थाने के पास कोचिंग से लौट रही युवती से सामूहिक ज्यादती के तीन दिन बाद शुक्रवार को सरकार एक्शन मोड में आई। इस हादसे ने भाजपा सरकार की नाकामी की पोल खोल दी है। इससे ये साबित हो गया है कि भाजपा के राज में बेटियां सुरक्षित नहीं है।

होम मिनिस्टर को हटाने की मांग
-कांग्रेस ने शुक्रवार को जीआरपी थाने के सामने भी प्रदर्शन किया था। पुलिस से उनकी झड़प भी हुई। कांग्रेस के अलावा भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी ने प्रदर्शन किया। दोनों पार्टियों की मांग थी कि होम मिनिस्टर भूपेंद्र सिंह को हटाया जाए।
-नेशनल वुमन कमीशन ने डीजीपी ऋषिकुमार शुक्ला को लेटर लिखा। इसमें मांग की गई है कि मामले में एफआईआर दर्ज नहीं करने वाले पुलिस अफसरों पर सख्त कार्रवाई की जाए।
-दूसरी तरफ, गिरफ्तार किए गए चार में तीन आरोपियों को पुलिस ने कोर्ट में पेश किया। दो को जेल भेज दिया गया। जबकि, तीसरे को पुलिस रिमांड पर भेजा गया है। चौथे आरोपी की तलाश की जा रही है।

सीएम ने बुलाई थी बैठक, किया जिम्मदारों को सस्पेंड
-गैंगरेप की घटना के बाद मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने शुक्रवार दोपहर 12 बजे आनन-फानन में बैठक बुलाई थी। इसमें पूरे घटनाक्रम पर अफसरों की सफाई सुनने के बाद मुख्यमंत्री ने डीजीपी ऋषि शुक्ला को खरी-खोटी सुनाई थी। उन्होंने कहा था कि, मेरे लिए यह शर्मनाक है कि राजधानी में ऐसी घटना हुई। इतना ही नहीं, एफआईआर दर्ज करने में देरी की गई। जबकि, आपको तुरंत हरकत में आना चाहिए था। क्या अपराध पर यही आपका नियंत्रण है। इस दौरान शुक्ला कोई जवाब नहीं दे पाए थे। मुख्यमंत्री ने इसके बाद कानूनी सुरक्षा और पुलिस की कार्यशैली पर भी नाराजगी जाहिर की। इस दौरान मुख्य सचिव बीपी सिंह, एडीजी इंटेलिजेंस, आईजी भोपाल, मुख्यमंत्री को ओएसडी आदि मौजूद रहे। मुख्यमंत्री ने बैठक खत्म होने के तुरंत बाद जिम्मेदार पुलिस अधिकारियों को सस्पेंड करने व पीएचक्यू अटैच करने की कार्रवाई की।

क्या है मामला?
- घटना 31 अक्टूबर शाम की है। कोचिंग सेंटर से लौट रही 19 साल की लड़की को चार बदमाशों ने रोका। उसके साथ मारपीट और लूटपाट के बाद करीब की झाड़ियों में ले जाकर गैंगरेप किया। घटना स्थल से आरपीएफ चौकी (रेलवे पुलिस फोर्स) सिर्फ 100 मीटर दूर है।
- आरोपियों ने विक्टिम का मोबाइल फोन और कुछ जूलरी भी लूटी। पुलिस के मुताबिक, आरोपियों को लगा कि लड़की की मौत हो गई है तो वो उसे छोड़कर भाग गए।
- होश आने पर विक्टिम आरपीएफ थाने पहुंची। वहां से उसने पिता को घटना के बारे में जानकारी दी। उसके पिता आरपीएफ में ही हैं।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Bhopal

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×