--Advertisement--

लड़की का पीछा करने वाला कॉन्स्टेबल सस्पेंड, गुनगा थाने में पदस्थ था

लड़की का पीछा करने वाला कॉन्स्टेबल सस्पेंड, गुनगा थाने में पदस्थ था

Danik Bhaskar | Nov 24, 2017, 05:01 PM IST
कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष अर कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष अर

भोपाल। देर रात लड़की का पीछा करने वाले गुनगा थाने में पदस्थ आरोपी कॉन्स्टेबल निश्चय तोमर को सस्पेंड कर दिया गया है। जहांगीराबाद पुलिस ने उसे हिरासत में ले रखा है। देर रात हुए हंगामे में जहांगीराबाद पुलिस ने एफआईआर दर्ज कराई थी। पुलिस ने सुबह से इस मामले की गंभीरता से जांच शुरू कर दी है। अवैध हथियार रखने का मामला भी दर्ज किया गया है।
एएसपी धर्मवीर सिंह ने कहा कि पुलिस कर्मी को हिरासत में ले लिया गया है। उस पर अलग-अलग धाराओं में केस दर्ज कर मामले की जांच शुरू कर दी है। उसके पास से अवैध कट्टा भी बरामद किया गया है। यह गंभीर तरीके का मामला है, इसकी उतनी ही गंभीरता से जांच की जा रही है। इसमें तथ्यों के सामने आने पर कार्रवाई की जाएगी। फिलहाल कॉन्स्टेबल को सस्पेंड कर दिया गया है।


बता दें कि पुलिस को शर्मसार करने वाले एक मामले में नशे में धुत्त गुनगा थाने में पदस्थ पुलिस कॉन्स्टेबल निश्चय तोमर ने रात को 12.30 बजे कट्टा निकालकर लड़की को धमकाते हुए डीबी मॉल से जहांगीराबाद तक दो किलोमीटर तक छेड़ता रहा। उसे गंदी गालिया दी और एक बार कार को लड़की की स्कूटी को टक्कर मार दी। डर से कांपती लड़की स्कूटी से गिर गई थी। जिससे उसे हाथ में चोंटे आई थीं। पुलिस वाला फिर भी नहीं माना और हॉर्न बजाते और गंदी गालिया देते हुए कार को स्कूटर के आगे-पीछे घूमाता रहा। यह करते हुए कॉन्स्टेबल लड़की के घर तक जहांगीराबाद पुलिस लाइंस तक पहुंच गया था।


इसके बाद उसने वहां पर कट्टा निकालकर धमकाते हुए कहा था, मैं पुलिस में हूं, मेरा कोई कुछ नहीं कर सकता है। इसके बाद कालोनी के लोगों ने उसकी जमकर धुनाई कर दी थी। जहांगीराबाद की 22 वर्षीय लड़की, जोकि डीबी मॉल से अपने घर जहांगीराबाद पुलिस लाइन जा रही थी, इसी बीच में आरक्षक पुलिस कर्मी ने छेड़छाड़ शुरू कर दी थी।


अरुण यादव का ट्वीट, रक्षक ही बन गए भक्षक
प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अरुण यादव ने ट्वीट करके कहा है कि जब रक्षक पुलिस ही भक्षक बन जाए। उन्होंने आगे कहा, पुलिस कांस्टेबल ने लड़की को छेड़ा एवं धमकी दी, जहांगीराबाद थाने में पीड़िता ने एफआईआर दर्ज कराई है। प्रदेश के रक्षक ही जब भक्षक बन गए हैं तो कैसे महिलाएं रहेंगी प्रदेश में सुरक्षित? प्रदेश में कानून व्यवस्था पूरी तरह चौपट हो चुकी है और गृह मंत्री भूपेंद्र सिंह पूरी तरह से फेल हो गए हैं। नैतिक आधार पर उन्हें इस्तीफा दे देना चाहिए।