Hindi News »Madhya Pradesh News »Bhopal News» Psychologist Said About Pradyumna Murder Case

प्रद्युम्न ठाकुर की हत्या

प्रद्युम्न ठाकुर की हत्या

Sushma Barange | Last Modified - Nov 10, 2017, 01:45 PM IST

भोपाल। गुरुग्राम स्थित रेयान इंटरनेशनल स्कूल के 7 वर्षीय छात्र प्रद्युम्न ठाकुर की हत्या करने वाले 11वीं के छात्र को शहर के साइकोलॉजिस्ट मनोरोगी बता रहे हैं। भोपाल की जानीमानी साइकोलॉजिस्ट डॉक्टर रूमा भट्टाचार्य ने कहा कि, स्कूल प्रबंधन या पैरेंट्स अलर्ट होते तो इस वारदात को रोका जा सकता था। पढ़ें क्या कहा डॉ. रूमा ने आगे...

-साइकोलॉजिस्ट डॉ. रुमा ने कहा कि, हत्या करने वाला नाबालिग कंडक्ट डिसऑर्डर नामक बीमारी का शिकार लग रहा है। इस बीमारी के लक्षण बचपन में ही नजर आने लगते हैं, यदि पैरेंट्स अलर्ट रहे तो इसे समय रहते रोका भी जा सकता है।
-इस बीमारी का सबसे बड़ा लक्षण यही होता है कि बच्चा बहुत जिद्दी और उग्र होता है। वह कभी भी किसी रूल को मानने में विश्वास नहीं रखता, वह अपने लिए खुद ही नए-नए नियम बनाता रहता है। गौरतलब है कि पैरेंट्स-टीचर मीटिंग और 11वीं की परीक्षा टलवाने के लिए 11वीं के ही एक छात्र ने प्रद्युम्न ठाकुर की हत्या की थी।
बच्चों के व्यवहार पर ध्यान देना बेहद जरूरी
भोपाल के दस नंबर स्टाप स्थित सेंट जोसेफ कोएड स्कूल की पीआरओ वसुंधरा शर्मा ने इस मामले को दुखद बताते हुए कहा कि, कैंपस में बच्चों की सुरक्षा की जिम्मेदारी स्कूल प्रबंधन की है। सीबीएसई की गाइड लाइन के अनुसार हर स्कूल में सीसीटीवी कैमरे और गार्ड सहित सुरक्षा के अन्य साधन मौजूद होने जरूरी है। इसके साथ ही बच्चों के व्यवहार और जरूरतों का ध्यान रखना भी स्कूल प्रबंधन की ही जिम्मेदारी है, जिसकी अनदेखी की वजह से रेयान स्कूल में इतना बड़ा हादसा हो गया।

कब हुआ था रेयान स्कूल में मर्डर?

  • गुड़गांव के रेयान इंटरनेशनल स्कूल में 8 सितंबर को 7 साल के बच्चे का मर्डर कर दिया गया था। बॉडी टॉयलेट में मिली थी। इस मामले में पुलिस ने स्कूल बस के कंडक्टर अशोक कुमार को अरेस्ट किया था। आरोपी अशोक 8 महीने पहले ही स्कूल में कंडक्टर की नौकरी पर लगा था।
  • अशोक ने मीडिया को बताया, ''मेरी बुद्धि भ्रष्ट हो गई थी। मैं बच्चों के टॉयलेट में था। वहां गलत काम कर रहा था। तभी वह बच्चा आ गया। उसने मुझे देख लिया। मैंने उसे पहले देखा धक्का दिया। फिर खींच लिया। वह शोर मचाने लगा तो मैं डर गया। फिर मैंने उसे दो बार चाकू से मारा। उसका गला रेत दिया।''

इस मामले में कितने लोग अरेस्ट हुए थे?

  • इस केस में स्कूल के बस कंडक्टर अशोक कुमार के अलावा रेयान ग्रुप के दो अफसर रेयान ग्रुप के नॉर्थ जोन हेड फ्रांसिस थॉमस और भोंडसी स्थित स्कूल कोऑर्डिनेटर अरेस्ट हुए थे। इन अफसरों को जमानत मिल गई थी, लेकिन अशोक अभी भी ज्यूडिशियल कस्टडी में है। सोहना रोड स्थित सदर पुलिस स्टेशन के थाना प्रभारी को भी सस्पेंड किया गया था।
  • उधर, रेयान ग्रुप के सीईओ रेयान पिंटो, उनके पिता ऑगस्टीन पिंटो और मां ग्रेस पिंटो ने बॉम्बे हाईकोर्ट, फिर पंजाब-हरियाणा हाईकोर्ट में पिटीशन दायर करके एंटीसिपेटरी बेल (अग्रिम जमानत) देने की अपील थी। बाद में उन्हें पंजाब-हरियाणा हाईकोर्ट ने बेल दे दी थी।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Bhopal

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×