--Advertisement--

आधे घंटे आसमान में अटकीं रहीं ६० जानें, नागपुर में प्लेन की इमरजेंसी लैंडिंग

आधे घंटे आसमान में अटकीं रहीं ६० जानें, नागपुर में प्लेन की इमरजेंसी लैंडिंग

Dainik Bhaskar

Nov 24, 2017, 08:19 PM IST
यह वीडियो यात्रियों ने शेयर कि यह वीडियो यात्रियों ने शेयर कि

भोपाल। हैदराबाद से जबलपुर रहे स्पाइस जेट की उड़ान (9111) की नागपुर एयरपोर्ट पर शुक्रवार को आपात लैंडिंग की गई। विमान में 59 यात्री 4 क्रू मेंबर थे। 18000 फीट की ऊंचाई पर विमान में अचानक धुआं निकलने से यात्री दहशत में गए और चीख-पुकार तक शुरू हो गई थी। नागपुर एयरपोर्ट पर विमान के उतरते ही सुरक्षा एजेंसी दमकल कर्मियों ने यात्रियों को सुरक्षित बाहर निकाला। सूखे केमिकल की बौछार कर धुएं पर काबू पाया गया।

यह था मामला...
जानकारी के अनुसार, हैदराबाद से जबलपुर जा रहा स्पाइस जेट विमान जब नागपुर के पास से गुजर रहा था, तभी अचानक विमान के भीतर धुआं निकलने लगा। देखते ही देखते दुर्गंध से यात्रियों को सांस लेने में परेशानी होने लगी। आग लगने का डर सताने लगा। विमान के चालक दल ने नागपुर एयरपोर्ट पर इमरजेंसी लैंडिंग का निर्णय लिया। एटीसी से अनुमति मिलते ही चालक दल ने इमरजेंसी लैंडिंग की। इधर, घटना की सूचना मिलते ही सुरक्षा एजेंसियां सतर्क हो गईं थीं। सीआईएसएफ के जवान भी हरकत में गए। सुरक्षा जवान दमकल कर्मियों ने रेस्क्यू आपरेशन चलाते हुए यात्रियों को विमान से सुरक्षित बाहर निकाला। स्पाइस जेट की दोपहर 2.22 बजे नागपुर एयरपोर्ट पर इमरजेंसी लैंडिंग हुई। किसी के हताहत होने की सूचना नहीं है।

परिजनों से लिपटकर बच्चे जोर-जोर से चिल्लाने लगे
विमान में जब धुआं बढ़ने लगा तो यात्रियों को सांस लेने में परेशानी होने लगी। विशेषकर बच्चों को बहुत परेशानी हुई आैर यात्री मॉस्क मांगने लगे। बच्चे रोने लगे आैर परिजनों को पकड़कर चिल्लाने लगे। विमान में दहशत का माहौल था। आपात स्थिति से निपटने के लिए विमान में आक्सीजन मास्क रहना चाहिए। बताया जाता है कि पायलट ने यह भी सोचा था कि विमान को कहीं मैदान या पानी में उतार दिया जाए, और इसी कारण यात्रियों को रक्षा जैकेट पहना दी गईं थीं। धुआं निकलने का कारण तो पता नहीं चला, लेकिन शाटसर्किट होने की चर्चा है।

हादसे की कहानी पैसेंजर्स की जुबानी...

न्यू लाइफ मिल गई
डुमना एयरपोर्ट पर पहुंचे निकलस जॉन्स निवासी लंदन ने बताया कि एयरक्राफ्ट में दम घोंटू जैसा वातावरण बन गया था और हम हवा में थे। जैसे ही नागपुर पहुंचे ऐसा लगा जैसे हम सभी को न्यू लाइफ मिल गई है।

नागपुर में नहीं मिला रिस्पांस
डुमना एयरपोर्ट से बाहर निकलने के बाद रिचा ने बताया कि किसी तरह नागपुर एयरपोर्ट में पहुंचने के बाद ही एेसा लगा मानो जान बच गई है, मगर नागपुर में स्पाइस जेट का स्टेशन होने के कारण यहां किसी ने रिस्पांस नहीं दिया। बच्चे भी पानी के लिए तरस गए।

रोंगटे खड़े हो सकते हैं
स्पाइस जेट में सवार यात्रियों ने दहशत में उस पल को जिस तरह से बयान किया है उसे सुनकर रोंगटे खड़े हो सकते हैं। मधुसूदन ने बताया कि पहले थोड़ा धुआं निकला फिर वह बढ़ता ही गया। सभी घबराने लगे किसी को कुछ समझ में नहीं रहा था।

सांस लेना हो गया था मुश्किल
संदीप ने बताया कि धुएं में सांस लेना मुश्किल हो रहा था। कुछ यात्रियों को चक्कर तक आने लगे थे। सब कुछ इतना तेजी से हो रहा था कि समझ में ही नहीं रहा था।

ऑक्सीजन मॉस्क नहीं खुला
रवींद्रन ने बताया कि सांस लेने में तकलीफ होने से ऑक्सीजन के मास्क की जरूरत थी पर मास्क नहीं खुला। बच्चे रोने और चिल्लाने लगे। रोहन की मानें तो मास्क नहीं मिलने पर लोग कपड़ों से सिर छिपाने लगे।

पैसेंजरों ने पहले की थी शिकायत
जबलपुर पहुंचे पैसेंजर कमलेश ने बताया कि प्लेन के टेकऑफ से पहले ही दो पैसेंजरों ने क्रू मेंबर को कुछ जलने की स्मेल आने की शिकायत की थी, मगर उनके द्वारा जनरेटर से स्मेल आने की बात कही गई। टेकऑफ होने के करीब 15-20 मिनट बाद धुआं बढ़ने लगा और एक घंटे बाद तो भीतर धुआं ही धुआं हो गया।

यात्रियों के चेहरे तक पड़ गए काले
डुमना विमानतल के बाहर रहे पैसेंजरों की स्थिति देखते ही बन रही थी, किसी के चेहरे में मानो जिंदगी की जंग जीतने की खुशी झलक रही थी, तो अधिकांश पैसेंजर घबराए नजर रहे थे। एयरक्राफ्ट में धुआं कितना अधिक था इसका अंदाजा इनके चेहरे को देखकर लगाया जा सकता था। कपड़ों के साथ ही पैसेंजरों के चेहरे भी काले पड़ गए थे।

रात को भरी उड़ान
बाल-बाल बचे यात्री दिन भर एयरपोर्ट के वेटिंग हॉल में रहे। रात को स्पाइस जेट कंपनी की तरफ से दूसरा विमान नागपुर एयरपोर्ट पहुंचा। इस विमान (1096) ने रात 8.10 बजे जबलपुर के लिए उड़ान भरी, जो रात 8.40 बजे जबलपुर पहुंचा।

जांच के लिए पहुंचे इंजीनियर
रात को तकनीकी खराबी की जांच के लिए एयरक्राफ्ट मेंटेनेंस के 2 इंजीनियर एक अन्य इंजीनियर नागपुर एयरपोर्ट पहुंचे। दुर्घटनाग्रस्त विमान को रन-वे पर एक कोने में रखा गया है। जांच के बाद ही स्पष्ट हो सकेगा कि धुआं निकलने का कारण क्या था।

X
यह वीडियो यात्रियों ने शेयर कियह वीडियो यात्रियों ने शेयर कि
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..