Hindi News »Madhya Pradesh News »Bhopal News »News» These App Made By Police For The Protection Of Women

गैंगरेप के बाद पुलिस ने बनाया एप, मुसीबत में हों तो मोबाइल पर बस टच करो Wsafety

Anup Dubey | Last Modified - Nov 13, 2017, 08:17 PM IST

पहले ही दिन भास्कर ने जब इस एप्प को पांच मोबाइल फोन पर अलग-अलग डाउनलोड किया, तो इसमें कुछ खामियां भी सामने आई।
गैंगरेप के बाद पुलिस ने बनाया एप, मुसीबत में हों तो मोबाइल पर बस टच करो Wsafety
भोपाल। रेलवे ट्रैक के पास छात्रा से गैंगरेप की घटना से सबक लेते हुए भोपाल पुलिस ने एक बार फिर महिलाओं की सुरक्षा के लिए पहल करते हुए डब्ल्यूसेफ्टी नाम से मोबाइल फोन एप्प तैयार किया है। जिसका सोमवार दोपहर डीआईजी संतोष कुमार सिंह ने उद्घाटन किया।
-पहले दिन करीब 50 लोगों ने टेस्ट करते हुए इस पर कॉल किए। यह भोपाल पुलिस के सिटीजन कॉप में दिए गए फीचर एसओएस को अलग करके बनाया गया है। गूगल प्ले स्टोर से डब्ल्यूसेफ्टी (डब्ल्यूएसएएफईटीवाय) एप्प को डाउनलोड करने पर मोबाइल धारक को अपना नाम और अपने परिचित के दो मोबाइल नंबर देने होंगे। इसके बाद वह उसमें रजिस्टर्ड हो जाएगा। मुसीबत होने पर बस डेंजर पर क्लिक करने से पुलिस और परिचित को एसएमएस के माध्यम से लोकेशन और हेल्प-मी का मैसेज पहुंच जाएगा।

इंटरनेट जरूर नहीं
इस एप्प के लिए मोबाइल फोन में इंटरनेट की जरूरत नहीं है। मोबाइल टावर लोकेशन से यह एप्प चलता है। जिसके लिए मोबाइल में नेटवर्क का होना जरूरी है। साथ ही मोबाइल फोन में जीपीएस ऑन होना जरूरी है।
ऐसे करें डाउनलोड
2.5 एमबी की यह फाइल गूगल प्ले स्टोर में जाकर डब्ल्यूसेफ्टी नाम से है। इसे स्टोर करने के बाद आपको अपना नाम और अपने परिचित के दो नंबर दर्ज कराने होते हैं। सेव करते ही मोबाइल धारक इसमें रजिस्टर्ड हो जाता है।
वाट्सएप्प मॉनिटरिंग सेल ही कर रही निगरानी
इस एप्प की जिम्मेदारी वाट्सएप्प मॉनिटरिंग सेल को सौंपी गई है। कंट्रोल रूम इसका सेंटर बनाया गया है। एएसपी जोन-4 समीर यादव को मॉनिटरिंग सेल का अधिकारी बनाए गया है। कॉल आते ही संबंधित अधिकारी कॉल बैक करता है। बात नहीं होने पर वह लोकेशन के आधार पर डायल-100, संबंधित थाने, महिला पीसीआर और महिला मैत्री को सूचना देता है। इसके साथ ही नंबर से संबंधित उनके दोनों परिचित नंबर पर भी संपर्क किया जाएगा।

फ्री नहीं एसएमएस और कॉल
डेंजर पर टच करते ही आपका फोन एक्टिवेट हो जाता है। इसके बाद आप के फोन से मिस कॉल लोकेशन और एक एसएमएस जनरेट होकर ऑटोमेटिक पुलिस अधिकारी और संबंधित दो नंबरों पर जाता है। इस एसएमएस का चार्ज होता है, जो आपके डाटा पैकेज के अनुसार चार्ज किया किया जाएगा।
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए Bhopal News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: gaaingarep ke baad police ne banayaa ep, musibt mein hon to mobile par bs touch karo Wsafety
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

Stories You May be Interested in

      रिजल्ट शेयर करें:

      More From News

        Trending

        Live Hindi News

        0
        ×