सीबीएसई / किसी भी छात्र के जूते उतरवाकर नहीं की जाएगी जांच, पानी की बोतल भी ले जा सकेंगे साथ

Dainik Bhaskar

Mar 17, 2019, 10:11 AM IST


cbse
X
cbse
  • comment

  • परीक्षार्थियों के फीडबैक के बाद किया यह बदलाव 

भोपाल। सेंट्रल बोर्ड ऑफ सेकंडरी एजुकेशन सीबीएसई में कक्षा 10वीं और 12वीं के परीक्षार्थी अब परीक्षा हॉल में पानी की बोतल ले जा सकेंगे। इसके अलावा वे परीक्षा के दौरान घड़ी भी पहन सकेंगे। परीक्षा से पहले किसी भी छात्र के जूते उतरवाकर जांच नहीं की जाएगी। सीबीएसई ने बोर्ड एक्जाम में शामिल परीक्षार्थियों के फीडबैक के बाद यह बदलाव किया है। 


इसकी वजह है कि इस बार सीबीएसई ने बोर्ड परीक्षा को लेकर सख्त नियम बनाए थे, जिसमें घड़ी से लेकर पानी की बोतल पर पाबंदी लगा दी थी। इस कारण परीक्षार्थियों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा था। नियमानुसार परीक्षार्थी डिजिटल घड़ी नहीं पहन सकते हैं। नॉर्मल या एनालॉग घड़ी ही पहनकर परीक्षा हॉल में जा सकेंगे। सीबीएसई ने बोर्ड परीक्षा में ऐसे कई नियम बनाए थे, कि जो इंजीनियरिंग और मेडिकल आदि प्रतियोगी परीक्षाओं के लिए होते थे। परीक्षा केंद्र पर पहुंचने के साथ ही उनकी कई बार जांच की जाती थी, इसमें कई परीक्षार्थी नर्वस हो जाते थे। 

 

इसलिए हुए बदलाव: सीबीएसई को निरंतर मिल रहे फीडबैक के बाद यह बदलाव किए हैं। सीबीएसई कक्षा 10वीं के बोर्ड एक्जाम 29 मार्च तक रहेंगे। वहीं कक्षा 12वीं के बोर्ड एक्जाम 3 अप्रैल तक चलेंगे। सीबीएसई इस बार परीक्षा के बाद छात्रों से भी फीडबैक ले रहा है। फीडबैक में छात्रों ने परीक्षा केंद्र पर जरूरत से ज्यादा नियम का विरोध किया है। चूंकि दो मार्च से 12वीं बोर्ड की परीक्षा शुरू हुई है। इस दौरान कई केंद्रों से परीक्षार्थियों की इस तरह की शिकायतें आई हैं। इसके बाद बोर्ड ने नियमों में बदलाव किया गया है। 


अगले सत्र से 25 प्रतिशत अंक ऑब्जेक्टिव प्रश्नों के होंगे : नेशनल असेसमेंट सर्वे 2017-18 में कक्षा 10 के स्टूडेंट्स की खराब परफॉर्मेंस के बाद अब सीबीएसई ने मूल्यांकन प्रक्रिया में बदलाव किया है। इसके अनुसार अगले सत्र यानि 2019-20 से कक्षा 12वीं के मैथ्स सब्जेक्ट में इंटरनल असेसमेंट शुरू कर दिया जाएगा। इस सब्जेक्ट में अभी तक 100 मार्क्स का बोर्ड एक्जाम ही होता था, लेकिन अगले सत्र से 80 मार्क्स का बोर्ड एक्जाम और 20 मार्क्स का इंटरनल असेसमेंट होगा। मैथ्स के अतिरिक्त लैंग्वेज, पॉलिटिकल साइंस और लीगल स्टडीज में भी अगले सत्र से यह नया अनुपात लागू हो जाएगा। 


25 नंबर के ऑब्जेक्टिव: इंटरनल असेसमेंट के साथ ही अगले सत्र से सभी सब्जेक्ट्स के पेपर में ऑब्जेक्टिव क्वेश्चंस भी होंगे। कम से कम 25 प्रतिशत मार्क्स के ऑब्जेक्टिव क्वेश्चंस को शामिल किया जाएगा। वहीं 75 प्रतिशत मार्क्स के सब्जेक्टिव क्वेश्चंस की संख्या भी कम कर दी जाएगी, ताकि विश्लेषणात्मक और रचनात्मक उत्तर लिखने के लिए पर्याप्त समय मिल जाए। 

COMMENT
Astrology

Recommended

Click to listen..
विज्ञापन
विज्ञापन