मध्य प्रदेश / एक अप्रैल से भोपाल में शुरू हो जाएगा सीबीएसई की रीजनल सेंटर

Dainik Bhaskar

Mar 26, 2019, 11:25 AM IST



CBSE Regional Center in Bhopal
X
CBSE Regional Center in Bhopal
  • comment

  • नए शिक्षा सत्र के सभी काम यहीं से होंगे
  • भोपाल में एमपी नगर में शुरु हो रहा सेंटर

भोपाल। सेंट्रल बोर्ड ऑफ सेकंडरी एजुकेशन (सीबीएसई) छात्र-छात्रों की परेशानी देखते हुए नए सिक्षण सत्र से 6 नए रीजनल सेंटर खोलने जा रहा है। वर्तमान में देशभर में इनकी कुल संख्या 10 है। जिनेक अंतर्गत देशभर के सीबीएसई स्कूल आते हैं। नए सेंटर भोपाल, बैंगलुरु, चंडीगढ़. दिल्ली, बेस्ट नोएडा और पुणे में एक अप्रैल से शुरू होने वाले नए शिक्षा सत्र से शुरू हो जाएंगे। 

 

अभी तक मध्य प्रदेश के सभी सीबीएसई स्कूल अजमेर रीजन में आते हैं। भोपाल में रीजनल सेंटर शुरू हो जाने के बाद प्रदेश के सभी सीबीएसई स्कूलों पर नियंत्रण यहीं से होगा। रीजनल सेंटर भोपाल में एमपी नगर में किराए की बिल्डिंग में शुरू हो जाएगा। यह सेंटर खुलने से स्कूलों की संबद्धता, मान्यता, परीक्षा, मार्कशीट में त्रुटी, मूल्यांकन सहित कई कार्यों में सुविधा होगी। फिलहाल मध्यप्रदेश, राजस्थान व गुजरात के सीबीएसई स्कूलों का प्रशासकीय नियंत्रण अजमेर केंद्र से हो रहा है, लेकिन अप्रैल से मध्यप्रदेश का केंद्र भोपाल में होगा। इस साल से परीक्षा, रिजल्ट और अन्य कार्य भोपाल से सेंटर से को-ऑर्डिनेट होगा। भोपाल में सेंटर खुलने से ये सभी सुविधाएं यहीं पर मिलने लगेगी।


नियंत्रण भी होगा: अभी तक सीबीएसई स्कूलों से संबंधित शिकायतों के लिए अभिभावक परेशान होना पड़ता था, लेकिन अब प्रदेश भर के सीबीएसई संचालित स्कूलों का अनियमितताओं से संबंधित मामले पर भोपाल के सेंटर का नियंत्रण होगा। सेंटर में हेल्पलाइन नंबर भी होगा, जिसपर कोई भी शिकायत कर सकता है।

 

जल्द होगा समस्याओं का निराकरण: हालांकि अभी तक सीबीएसई से संबद्ध स्कूलों में अनियमितताओं के मामले सामने आने के बाद उन पर कार्रवाई सिर्फ कागजों में सिमटकर रह जाती थी या यहां के जिला शिक्षा अधिकारी के पास पेंडिंग है। अब मप्र स्कूल शिक्षा विभाग के अधिकारी भी क्षेत्रीय सेंटर के अधिकारियों से संपर्क कर स्कूलों पर नियंत्रण कर सकेंगे। सीबीएसई स्कूलों से संबंधित गंभीर मामला आने पर तुंरत कार्रवाई होगी। 

 

प्रपोजल जल्द मान्य होंगे : अभी तक सभी संभाग के को-ऑर्डिनेटर को परीक्षा या कोर्स से संबंधित कोई भी प्रपोजल अममेर सेंटर पर भेजना पड़ता था, जिससे प्रपोजल मान्य होने में सालों बीत जाते थे। अब कोई भी प्रपोजल जल्द मान्य होंगे। अभी प्रदेश से परीक्षा से संबंधित एक प्रपोजल अजमेर भेजा गया है।

 

सहोदय ग्रुप भी पूरे स्कूल को नहीं कर पाते थे नियंत्रित : जिले के सभी सीबीएसई स्कूलों के प्राचार्यों के संगठन को मिलकर सहोदय ग्रुप बनाया गया है। अभी तक बोर्ड के सर्कुलर हो या कोई भी निर्णय सहोदय ग्रुप मिलकर करते थे। सभी स्कूलों का नियंत्रण सहोदय नहीं कर पाते थे। इस ग्रुप में 125 स्कूलों के प्राचार्य जुड़े हैं। साथ ही स्कूलों से संबंधित शिकायतों का निपटारा भी सहोदय ग्रुप मिलकर करते थे, लेकिन अब रीजनल सेंटर से स्कूलों का नियंत्रण होगा। 
 

COMMENT
Astrology
Click to listen..
विज्ञापन
विज्ञापन