Hindi News »Madhya Pradesh »Bhopal »News» Dainik Bhaskar 61th

आओ सारे, भोपाल संवारें: चार मुद्दे जो भोपाल के विकास को देंगे नई दिशा

दैनिक भास्कर भोपाल का आज 61 वां स्थापना दिवस है

dainikbhaskar.com | Last Modified - Aug 13, 2018, 10:16 AM IST

आओ सारे, भोपाल संवारें: चार मुद्दे जो भोपाल के विकास को देंगे नई दिशा

भोपाल। दैनिक भास्कर भोपाल का आज 61 वां स्थापना दिवस है। पाठकों के साथ इस सहयात्रा में हम हमेशा शहर से जुड़े मुद्दों को पुरजोर तरीके से उठाते रहे हैं। आज फिर मौका है कि हम अपने शहर के बारे में नए सिरे से सोचें और तय करें कि अगले एक साल में भोपाल को संवारने के लिए क्या कर सकते हैं? इस स्थापना दिवस पर हम शहर के साथ भास्कर की निरंतर प्रतिबद्धता का वादा करते हैं। आज ही हम भोपाल से जुड़े 4 मुद्दों को लेकर एक अभियान की शुरुआत कर रहे हैं। आने वाले दिनों में हम इन मुद्दों को लगातार उठाएंगे और समाधान के साथ अंजाम तक पहुंचाने की कोशिश करेंगे। यह मुद्दे हैं-

1. स्वच्छता बने संस्कृति...
भोपाल देशभर की स्वच्छता रैंकिंग में नंबर 2 पर है लेकिन इस मुद्दे पर अभी भी बहुत काम होना बाकी है। सफाई को लोग अपनी आदत में शामिल करें, जिससे शहर में डेंगू, मलेरिया जैसी तमाम तरह की बीमारियां न फैलें। हम स्वच्छता का एक ऐसा माहौल बनाएंगे, जिससे हर शहरवासी इस अभियान से जुड़े और गर्व महसूस कर सके।

2. एयर कनेक्टिविटी...
भाेपाल से अन्य शहरों के लिए एयर कनेक्टिविटी एक बड़ा मुद्दा है। हमारे एयरपोर्ट से इस समय सिर्फ 6 फ्लाइट्स हैं जो देशभर की राजधानियों में सबसे कम है। इसका सीधा असर भोपाल में आने वाले नए निवेश पर नकारात्मक रूप से पड़ता है। रायपुर, रांची, पटना जैसे शहर ही नहीं बल्कि हमारे अपने प्रदेश के इंदौर में फ्लाइट्स की संख्या भोपाल से काफी ज्यादा है। हम एयर कनेक्टिविटी में कमी के कारणों की पड़ताल करेंगे और इस समस्या का समाधान कैसे निकले, इसकी कोशिश करेंगे।

3.व्यवस्थित हॉकर्स जोन ...
भोपाल के कई इलाकों जैसे न्यू मार्केट, बिट्‌टन मार्केट, कोटरा-नेहरू नगर, हबीबगंज, अयोध्यानगर, बरखेड़ा आदि में सड़कों पर साप्ताहिक हाट-बाजार और ठेले लगते हैं। हम इनके िलए व्यवस्थित हॉकर्स जोन बनवाने का प्रयास करेंगे, जिससे सड़कें अतिक्रमण, जाम और गंदगी से मुक्त हों और शहर का व्यवस्थित विकास हो सके।

4. बीआरटीएस...
शहर में बीआरटीएस कॉरिडोर अब एक बड़ी परेशानी का कारण बन गया है। कॉरिडोर में कई ऐसे स्थान हैं जहां बीआरटीएस काॅरिडोर खाली रहता है और बाहर की सड़कें जाम रहती हैं। इससे निजात पाने के लिए सबसे अच्छा तरीका यह है कि बीआरटीएस कॉरिडोर सुबह-शाम के समय स्कूल बसों और दो पहिया वाहनों के लिए खोल दिया जाए, जिससे सड़कों का जाम कम होगा और कॉरिडोर का सही उपयोग हो पाएगा।

अगर हम सब मिलकर इन मुद्दों के लिए काम करें तो भोपाल सही मायने में स्मार्ट सिटी बन पाएगा। शहर के यह चार मुद्दे अगले 1 साल में हमारे विकास को नई दिशा दे सकते हैं।
उम्मीद है कि भास्कर की इस पहल को हमेशा की तरह आपका सहयोग मिलेगा। एक बार फिर 61 साल की इस सहयात्रा में विश्वास और असीम स्नेह के लिए दिल से आभार।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From News

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×